Connect with us

India

Coronavirus India Live: ब्लैक फंगस पुरुषों के लिए ज्यादा घातक, शोध में हुआ यह खुलासा

Published

on

11:07 AM, 22-May-2021
दूसरी लहर के दौरान 420 डॉक्टर ने गंवाई जान- आईएमए
भारतीय मेडिकल एसोसिएशन ने जानकारी दी कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान 420 डॉक्टरों ने अपनी जान गंवाई है, जिसमें 100 डॉक्टर दिल्ली के शामिल हैं।
420 doctors including 100 in Delhi have lost their lives due to COVID19 in the second wave of the infection: Indian Medical Association (IMA)— ANI (@ANI) May 22, 2021

10:57 AM, 22-May-2021
लेह में कोरोना कर्फ्यू की अवधि बढ़ी
लेह में कोरोना कर्फ्यू की अवधि बढ़ाकर सात जून तक कर दी है। अब 24 मई सुबह सात बजे से सात जून तक लेह में कोरोना कर्फ्यू लगा रहेगा।
Chairman, DDMA Leh notifies the extension of ongoing Corona curfew from 24th May (7 am) till 7th June (7am) in Leh pic.twitter.com/zMzC3lHrrB— ANI (@ANI) May 22, 2021

10:46 AM, 22-May-2021
उत्तराखंड: ब्लैक फंगस की कालाबाजारी पर रोक लगाने के लिए जारी की नई एसओपी
उत्तराखंड सरकार ने ब्लैक फंगस की दवाई की कालाबाजारी को रोकने के लिए नई एसओपी जारी की हैं। यह दवा केवल राज्य सरकार की संस्थाओं पर ही उपलब्ध होंगी।
Uttarakhand government issued an SOP for the prevention & black marketing of Amphotericin-B, a black fungus medicine. The drug will be available only in dedicated #COVID19 Health Care Center Medical Colleges and only in state government institutions.— ANI (@ANI) May 22, 2021

10:18 AM, 22-May-2021
अहमदाबाद में 15 साल के बच्चे को हुआ ब्लैक फंगस
गुजरात में 15 वर्षीय बच्चे को पहले कोविड हुआ, कोविड से ठीक होने के बाद उसे म्यूकोरमाइकोसिस हुआ। हालांकि सर्जरी के बाद लड़के की स्थिति सामान्य है। एक निजी अस्पताल में बाल चिकित्सक डॉ. अभिषेक बंसल ने कहा कि अहमदाबाद में बाल ब्लैक फंगस का पहला मामला आया है।
Gujarat | A 15-yr-old boy, discharged post #COVID, was diagnosed with Mucormycosis (Black fungus). Boy is stable after surgery. We expect to discharge him in 2 or 3 days. This is 1st case of paediatric Mucormycosis in Ahmedabad: Abhishek Bansal, paediatric doctor at pvt hospital pic.twitter.com/N6D98FA3Yp— ANI (@ANI) May 22, 2021

09:43 AM, 22-May-2021
जम्मू-कश्मीर में 28 लाख खुराकें दी गईं
जम्मू-कश्मीर में टीकाकरण अभियान जारी है। यहां 16 जनवरी 2021 से टीकाकरण अभियान शुरू हुआ था और अभी तक 28 लाख लोगों को टीका की खुराक मिल चुकी है। 
COVID Vaccination drive continues in J&K.
Vaccination drive in J&K started on January 16, 2021. 28 lakh doses have been administered so far. J&K’s average of vaccinating people above 45 years of age is around 60%: Financial Commissioner, Health & Medical Education, Atal Dulloo pic.twitter.com/moE2ZC8RYa— ANI (@ANI) May 22, 2021

09:26 AM, 22-May-2021
बीते 24 घंटे में 4194 मरीजों की हुई मौत
देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर अभी भी जारी है। हर दिन लाखों मामले सामने आ रहे हैं, हालांकि संक्रमित मामलों का आंकड़ा लगातार घट रहा है। लेकिन मौत का तांडव रुकने का नाम नहीं ले रहा। बीते 24 घंटे में देश में 4194 मरीजों ने अपनी जिंदगी से हाथ धोया है। वहीं 3,57,630 मरीज ठीक होकर अपने घर वापस लौटे हैं।
India reports 2,57,299 new #COVID19 cases, 3,57,630 discharges & 4,194 deaths in last 24 hrs, as per Health Ministry.
Total cases: 2,62,89,290
Total discharges: 2,30,70,365
Death toll: 2,95,525
Active cases: 29,23,400
Total vaccination: 19,33,72,819 pic.twitter.com/NNm0bCEEdK— ANI (@ANI) May 22, 2021

09:14 AM, 22-May-2021
बीते 24 घंटे में 20,66,285 लोगों का हुआ टेस्ट -आईसीएमआर
भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के मुताबिक, देश में बीते 24 घंटे में 20,66,285 लोगों का कोरोना टेस्ट हुआ। अबतक 32,64,84,155 लोगों का कोरोना टेस्ट हो चुका है।

 

32,64,84,155 samples tested for #COVID19 up to 21st May 2021. Of these, 20,66,285 samples were tested yesterday: Indian Council of Medical Research (ICMR) pic.twitter.com/PxJzt3ACXo
— ANI (@ANI) May 22, 2021

08:57 AM, 22-May-2021
बढ़ रहे ब्लैक फंगस के मामले
यूपी-हरियाणा में अब तक 8-8 की मौत मध्य प्रदेश में ब्लैक फंगस के कुल 575 केस आए हैं और सरकारी आंकड़ों के अनुसार 31 मरीजों ने दम तोड़ दिया है। उत्तर प्रदेश में 169 लोगों में ब्लैक फंगस मिला है और आठ मौतों की पुष्टि हुई है। दिल्ली में 203 मरीज मिले हैं और एक की मौत हुई है। हरियाणा में 268 मरीज मिले हैं आठ मरीजों ने दम तोड़ दिया है।

08:39 AM, 22-May-2021
महाराष्ट्र में इंजेक्शन की किल्लत
महाराष्ट्र के स्वास्थ्यमंत्री राजेश टोपे ने बताया है कि महाराष्ट्र में 1500 से अधिक मरीज मिले हैं जिसमें अभी 850 मरीजों का इलाज चल रहा है। उन्होंने बताया कि एक मरीज को औसतन 60 से 100 इंजेक्शन लग सकते हैं। ऐसे में औसतन डेढ़ लाख इंजेक्शन की जरूरत पड़ सकती है। समय रहते गंभीर मरीजों को इंजेक्शन नहीं मिलने से बीमारी और गंभीर होती है जिससे जान पर खतरा बन सकता है। 

08:33 AM, 22-May-2021
देश में ब्लैक फंगस का खतरा बढ़ रहा
देश में ब्लैक फंगस (म्यूकोरमाइकोसिस) तबाही मचा रहा है। खासतौर पर महाराष्ट्र, गुजरात और मध्यप्रदेश में ब्लैक फंगस तेजी से पैर पसार रहा है। इसी तरह गुजरात में 1163 मामले सामने आए हैं और 61 मरीजों की मौत हो चुकी है। तमिलनाडु, ओडिशा , गुजरात, चंडीगढ़  राजस्थान और तेलंगाना ने ब्लैक फंगस को महामारी घोषित किया है।

08:06 AM, 22-May-2021
टीकों की संख्या देखे बिना बढ़ाया टीकाकरण अभियान का दायरा
पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट के कार्यकारी निदेशक ने कहा कि सरकार ने डब्ल्यूएचओ के दिशानिर्देशों और अपने पास मौजूद टीकों के स्टॉक का आकलन किए बिना ही विभिन्न आयु वर्गों के लोगों का टीकाकरण शुरू कर दिया। उन्होंने कहा, शुरुआत में 30 करोड़ लोगों को टीका दिया जाना था, जिसके लिए 60 करोड़ खुराक की आवश्यकता थी। लेकिन हमारे तय लक्ष्य तक पहुंचने से पहले ही सरकार ने पहले 45 साल से ऊपर के और फिर 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों के लिए टीकाकरण कार्यक्रम के दरवाजे खोल दिए।

07:40 AM, 22-May-2021
ब्लैक फंगस जितना खतरनाक नहीं है व्हाइट फंगस
एलएनजेपी अस्पताल के प्रबंध निदेशक डॉ. सुरेश कुमार का कहना है कि ब्लैक फंगस की तुलना में व्हाइट फंगस उतना खतरनाक नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि बिना डॉक्टर के परामर्श के कोविड मरीज स्टेरॉयड ना लें। उन्होंने कहा कि फ्रिज का रखा हुआ खाना ना खाएं और जितना हो ताजा फल और सब्जी खाएं।

 

White fungus (Aspergillosis) is not as dangerous as black fungus. The treatment for the latter can continue for 1-1.5 months hence early diagnosis is critical. Don’t take steroids to treat #COVID19 without consulting your doctor: Dr Suresh Kumar, MD LNJP Hospital, Delhi (21.05) pic.twitter.com/GUe5u7AdJ6
— ANI (@ANI) May 21, 2021

07:22 AM, 22-May-2021
मुंबई पुलिस ने कालाबाजारी करने वाले शख्स को दबोचा
मुंबई के पास जोगेश्वरी में एक शख्स 25 ऑक्सीजन सिलिंडर और 12 ऑक्सीजन किट की कालाबाजारी करते हुए पकड़ा गया है। मुंबई पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए शख्स को दबोचा है। ओडिवारा पुलिस स्टेशन में शख्स के खिलाफ शिकायत दर्ज की जा चुकी है।

 

Maharashtra | A 28-year-old has been arrested from Jogeshwari West, by Crime Branch unit 9, for hoarding 25 oxygen cylinders and 12 oxygen kits for black marketing. Search underway for another accused. Case registered at Oshiwara Police Station: Mumbai Police (21.05) pic.twitter.com/YosTSfB6sr
— ANI (@ANI) May 21, 2021

07:02 AM, 22-May-2021
Live: ब्लैक फंगस पुरुषों के लिए ज्यादा घातक, शोध में हुआ यह खुलासा
देश में कोरोना की दूसरी लहर चल रही है। हर दिन चार लाख तक मामले सामने आने के बाद अब दैनिक मामलों में लगातार गिरावट है। हालांकि इस महामारी के साथ-साथ  ब्लैक फंगस का भी खतरा कई राज्यों में फैल गया है। इतना ही नहीं ब्लैक फंगस के अलावा व्हाइट फंगस भी है, जो लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है लेकिन व्हाइट फंगस को लेकर डॉक्टर ज्यादा चिंताजनक नहीं है। व्हाइट फंगस का इलाज आसानी से हो सकता है, हालांकि ब्लैक फंगस के मामलों में तेजी हो रही है और सरकार के सामने दवा का संकट सामने आ रहा है। वहीं देश में कोरोना से होने वाली मौतों का आंकड़ा भी डराने वाला है। हर दिन या तो चार हजार या इसके आस-पास मरीज अपनी जिंदगी हाथ धो रहे हैं। वहीं कोरोना को मात देने के लिए अभी भी कई राज्य लॉकडाउन या कोरोना कर्फ्यू का जारी रख रहे हैं।

Continue Reading

India

चीन की उन्नत समाजवादी देश परियोजना: उपनिवेशवाद तथा कब्जे के नए तरीके जिनसे दुनिया है हैरान

Published

on

By

इस समय चीन न केवल भारत, बल्कि अमेरिका सहित दुनिया के कई अन्य देशों के लिए भी अलग-अलग वजहों से परेशानी का कारण बना हुआ है। एक साल पहले गलवां घाटी में भारत और चीन के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद केंद्र सरकार ने टिकटॉक समेत ढेरों चाइनीज एप्स पर देश में पाबंदी लगा दी थी। इन एप्स से भारत की संप्रभुता और सुरक्षा को खतरा बताया गया था। हालांकि विशेषज्ञ एप्स पर लगे प्रतिबंध को चीन के प्रति आशंकाओं का एक बहुत ही छोटा-सा हिस्सा मानते हैं। उस समय युद्ध जैसे हालात बनते बनते रह गए थे।दूसरी ओर यह देश भारत के पड़ोसी देशों में अपनी पकड़ लगातार बढ़ाता जा रहा है। पाकिस्तान को उसने पहले ही अपने कर्ज के जाल में फंसा रखा है। श्रीलंका में भी उसकी पैठ गहराती जा रही है। नेपाल, बांग्लादेश और म्यांमार में भी उसका दखल बढ़ रहा है।दुनिया इस समय कोरोना महामारी से जूझने में जुटी हुई है और चीन विस्तारवाद की राह पर अपनी गति बढ़ा रहा है। अमेरिका और यूरोपीय देशों में कोविड से बचाव के टीकों को अधिक से अधिक लोगों को लगाने की जद्दोजहद चल रही है। वहीं विकासशील देशों में टीकों का टोटा चल रहा है और चीन इसका फायदा उठाने में जुटा हुआ है। भारत अभी भी अपनी पहली स्वदेशी कोविड वैक्सीन को विश्व स्वास्थ्य संगठन से मान्यता दिलाने की प्रक्रिया में है और चीन की दो वैक्सीन को यह अनुमति दी जा चुकी है।इतना ही नहीं चीन दुनिया के सबसे बड़े वैक्सीन निर्माता और उत्पादक देश अमेरिका को पीछे छोड़ने से कुछ ही कदम पीछे रह गया है। उसने अब तक औसतन प्रत्येक 100 में से 50 नागरिकों को कोविड का टीका लगा दिया है। इतना ही नहीं चीन दुनिया के 60 देशों को मुफ्त या सस्ती वैक्सीन भी उपलब्ध करा चुका है।कोरोना से बढ़ रही मौतों से चिंतित अमेरिका ने दुनिया के जरूरतमंद देशों को वैक्सीन देने का काम कुछ समय के लिए रोक दिया था। भारत में भी कोरोना की दूसरी लहर ही वजह से यह काम रोक दिया गया था। उसी समय चीन ने दुनिया के अलग अलग भौगोलिक स्थिति वाले देशों को अपनी वैक्सीन दी। चीन में इस समय 49 वैक्सीन पर शोध किया जा रहा है और छह को वह अपने नागरिकों को लगा रहा है। चीन ने पिछले साल 2020 में ही छह कोविड वैक्सीन को देश के भीतर उपयोग की अनुमि दे दी थी और अब तक इनका प्रयोग किया जा रहा है।वैक्सीन उपनिवेशवादअमेरिका में इस समय 66 वैक्सीन पर शोध और उत्पादन का कार्य किया जा रहा है। चीन इस मामले में दूसरे नंबर पर पहुंच चुका है और तीसरे नंबर पर यूरोप के देश हैं। 2021 की शुरुआत के बाद चीन ने वैक्सीन राष्ट्रवाद का फायदा उठाया और मेक्सिको, पेरू, चिली, अर्जेंटीना, रूस, पाकिस्तान और इंडोनेशिया जैसे एक दर्जन से ज्यादा देशों में अपनी वैक्सीन का ट्रायल किया।वहीं चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग अपने देश को ‘एडवांस्ड सोशलिस्ट कंट्री’ बनाने की दिशा में तेजी से काम कर रहे हैं। इससे अमेरिका और अन्य विकसित देश परेशान हैं। ‘एडवांस्ड सोशलिस्ट कंट्री’ प्रोजेक्ट के तहत चीन खुद को 2049 तक दुनिया की सबसे बड़ी सैन्य, आर्थिक और सांस्कृतिक ताकत के रूप में प्रतिष्ठित करना चाहता है। यदि वह इसे प्राप्त कर लेता है तो अमेरिका दूसरे पायदान पर पहुंच जाएगा। वहीं तकनीकी मोर्चे पर आगे दिखाई दे रहे कई यूरोपीय देशों की हैसियत भी कम हो जाएगी।चीन की डरावनी योजनाएंचीन की कई ऐसी भावी योजनाएं हैं, जो इस समय दुनिया को आश्चर्यचकित करने के साथ-साथ डरा भी रही हैं। निवेश और कर्ज के भी जाल में वह कई देशों को फांस चुका है। हमारा पड़ोसी देश बांग्लादेश भी उसके इस जाल में फंसता जा रहा है। चीन वहां 2030 तक 100 स्पेशल इकोनॉमिक जोन (एसईजेड) स्थापित करने की घोषणा कर चुका है। इसमें अरबों डॉलर का निवेश करने के लिए कई चीनी कंपनियां भी तैयार हैं।बीआरआई योजनाइसी तरह चीन की बेल्ट एंड रोड इनीशिएटिव (बीआरआई) योजना है जिसके तहत 2049 तक दुनिया के करीब 70 देशों में बुनियादी संरचनाओं का निर्माण कर उन्हें एकसाथ लाया जा रहा है, लेकिन इसका असली मकसद व्यापार पर एकाधिकार स्थापित करना व भारत और अमेरिका को घेरना है। इन तमाम योजनाओं में एक और महत्वाकांक्षी योजना है – ‘मेड इन चाइना 2025’ जिसे चीन ने साल 2015 में लॉन्च किया था। फिर अंतरिक्ष का क्षेत्र भी है जहां चीन अपनी जबरदस्त उपस्थिति दर्ज कर दुनिया पर नजर रखने की महत्वाकांक्षा पाले हुए है। हाल ही में उसने अपने तीन अंतरिक्षयात्रियों को पृथ्वी की कक्षा में भेजा है। ये तीनों चीन के निर्माणाधीन अंतरिक्ष स्टेशन में तीन महीने तक रहेंगे।अंतरिक्ष में चुनौतीअंतरिक्ष स्टेशन के निर्माण के लिए चीन ने 2021 से 2022 के बीच 11 बार अंतरिक्ष यानों को भेजने की योजना बनाई है जिनमें तीन अभियान पूरे हो चुके हैं। वह तियांजू-2 कार्गो शिप को पहले ही अंतरिक्ष में भेज चुका है। चीनी एजेंसी के अनुसार 11 में से तीन बार उसके यानों से स्टेशन के मॉड्यूल, चार बार कार्गो स्पेसशिप और चार बार अंतरिक्ष यात्री स्टेशन के लिए रवाना होंगे। वह साल 2022 तक 10 ऐसे ही और मॉड्यूल लॉन्च करना चाहता है जो पृथ्वी का चक्कर लगाएंगे।आशंकित अमेरिकाअमेरिका कई बार आशंका जता चुका है कि चीन भविष्य में अपनी अंतरिक्ष परियोजनाओं का इस्तेमाल अमेरिका और उसके मित्र देशों की जासूसी करने में कर सकता है। यही वजह है कि वो खुद को अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन से अलग कर चुका है और अपना खुद का अंतरिक्ष स्टेशन पूरा करने की दिशा में तेजी से काम कर रहा है।जासूसी का खतरा?अब तक अंतरिक्ष में अमेरिका का वर्चस्व था। वह स्पेस सुप्रीमेसी का फायदा भी उठा रहा था। लेकिन अब चीन पर अंतरिक्ष से जासूसी करने के आरोप लगने लगे हैं। ताइवान पहले ही अपने सरकारी कर्मचारियों को उन स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने से मना कर चुका है जिसमें नेविगेशन के लिए चीनी सॉफ्टवेयर बाइदू इंस्टॉल हैं। उसे शक है कि इस नेटवर्क का इस्तेमाल कर जरूरी सूचनाएं चीन की सेना व सरकार तक पहुंचाई जा सकती हैं।आशंका की वजह क्या है?दरअसल, चीन की अंतरिक्ष एजेंसी ‘चाइना नेशनल स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन’ सेना का अंग है। इसलिए वह अपने हर प्रोजेक्ट के लिए सेना के प्रति उत्तरदायी है। हालांकि अंतरिक्ष अनुसंधान में चीन अब भी अमेरिका से काफी पीछे है, लेकिन पिछले कुछ वर्षों में उसकी प्रगति चौंकाने वाली है। चीन ने पिछले साल बाइदू नेटवर्क अभियान के तहत पांच टन वजनी उपग्रह अंतरिक्ष में स्थापित किया था। बाइदू नेटवर्क अमेरिका के विश्वव्यापी ‘ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम’ (जीपीएस) के विकल्प के रूप में बनाया गया है। चीन ने अपने इस पूरे प्रोजेक्ट पर करीब 10 अरब डॉलर खर्च किए हैं।

Continue Reading

India

अनुच्छेद 370: केंद्रीय मंत्री तोमर बोले- दिग्विजय सिंह का बयान देश का कांग्रेस मुक्त कराने वाला

Published

on

By

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, ग्वालियर
Published by: सुरेंद्र जोशी
Updated Fri, 18 Jun 2021 06:01 PM IST

सार
जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 की बहाली को लेकर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के बयान पर अब केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने पलटवार किया है। तोमर ने कहा कि इसे बहाल करना संभव नहीं होगा।  

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर
– फोटो : एएनआई

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह द्वारा हाल ही में अनुच्छेद 370 को लेकर दिए गए बयान को देश को कांग्रेस से मुक्त कराने वाला करार दिया है।तोमर ने शुक्रवार को ग्वाालियर में मीडिया से बातचीत में कहा, ‘सारा देश अनुच्छेद 370 को बहाल करने के खिलाफ है और दिग्विजय सिंह का बयान भारत को कांग्रेस से मुक्त करने वाला है। अभी तो कांग्रेस सरकार बनने की संभावना भी नहीं दिखाई देती है, और यदि बन भी गई तो इसे दोबारा बहाल करना संभव नहीं होगा। गौरतलब है कि दिग्विजय सिंह ने कथित रूप से कहा था कि केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनने पर जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को लागू करने पर पुनर्विचार किया जा सकता है ।कानूनी वापसी को छोड़कर किसानों से बात को तैयारकेंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों द्वारा कई माह से किए जा रहे आंदोलन के सवाल पर केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि सरकार हमेशा किसानों से बात करने को तैयार है। कानूनों को वापस लेने की बात को छोड़कर, कानून संबंधित प्रावधानों को लेकर कोई किसान यूनियन आधी रात को भी बात करने को तैयार है तो नरेंद्र सिंह तोमर उसका स्वागत करेंगे।उन्होंने बताया कि ग्वालियर-चंबल अंचल में मेडिकल सुविधाओं का तेजी से विस्तार हो रहा है और कोविड संक्रमण की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी हो रही है। अस्पतालों में पीएम केयर फंड और राज्य सरकार ने ऑक्सीजन प्लांट से लेकर मेडिकल उपकरण दिए हैं और इसके बाद भी जरुरत होने पर कई निजी कंपनियों से मदद लेकर प्रत्येक जिले में मेडिकल सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। कोरोना के टीके को लेकर उन्होंने कहा कि अगस्त महीने से ज्यादा मात्रा में टीके उपलब्ध रहेंगे और यह काम तेजी से आगे बढ़ रहा है।

विस्तार

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह द्वारा हाल ही में अनुच्छेद 370 को लेकर दिए गए बयान को देश को कांग्रेस से मुक्त कराने वाला करार दिया है।

तोमर ने शुक्रवार को ग्वाालियर में मीडिया से बातचीत में कहा, ‘सारा देश अनुच्छेद 370 को बहाल करने के खिलाफ है और दिग्विजय सिंह का बयान भारत को कांग्रेस से मुक्त करने वाला है। अभी तो कांग्रेस सरकार बनने की संभावना भी नहीं दिखाई देती है, और यदि बन भी गई तो इसे दोबारा बहाल करना संभव नहीं होगा। गौरतलब है कि दिग्विजय सिंह ने कथित रूप से कहा था कि केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनने पर जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को लागू करने पर पुनर्विचार किया जा सकता है ।

कानूनी वापसी को छोड़कर किसानों से बात को तैयार
केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों द्वारा कई माह से किए जा रहे आंदोलन के सवाल पर केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि सरकार हमेशा किसानों से बात करने को तैयार है। कानूनों को वापस लेने की बात को छोड़कर, कानून संबंधित प्रावधानों को लेकर कोई किसान यूनियन आधी रात को भी बात करने को तैयार है तो नरेंद्र सिंह तोमर उसका स्वागत करेंगे।
उन्होंने बताया कि ग्वालियर-चंबल अंचल में मेडिकल सुविधाओं का तेजी से विस्तार हो रहा है और कोविड संक्रमण की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी हो रही है। अस्पतालों में पीएम केयर फंड और राज्य सरकार ने ऑक्सीजन प्लांट से लेकर मेडिकल उपकरण दिए हैं और इसके बाद भी जरुरत होने पर कई निजी कंपनियों से मदद लेकर प्रत्येक जिले में मेडिकल सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। कोरोना के टीके को लेकर उन्होंने कहा कि अगस्त महीने से ज्यादा मात्रा में टीके उपलब्ध रहेंगे और यह काम तेजी से आगे बढ़ रहा है।

Continue Reading

India

वार : कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल बोले- प्रधानमंत्री ने शासन करने का नैतिक अधिकार खो दिया

Published

on

By

{“_id”:”60cc9a7c754900781b1fc4d9″,”slug”:”senior-congress-leader-kapil-sibal-said-pm-modi-has-lost-moral-authority-to-rule-he-failed-to-stand-with-people-needing-medical-help”,”type”:”story”,”status”:”publish”,”title_hn”:”u0935u093eu0930 : u0915u093eu0902u0917u094du0930u0947u0938 u0928u0947u0924u093e u0915u092au093fu0932 u0938u093fu092cu094du092cu0932 u092cu094bu0932u0947- u092au094du0930u0927u093eu0928u092eu0902u0924u094du0930u0940 u0928u0947 u0936u093eu0938u0928 u0915u0930u0928u0947 u0915u093e u0928u0948u0924u093fu0915 u0905u0927u093fu0915u093eu0930 u0916u094b u0926u093fu092fu093e”,”category”:{“title”:”India News”,”title_hn”:”u0926u0947u0936″,”slug”:”india-news”}}

पीटीआई, नई दिल्ली
Published by: योगेश साहू
Updated Fri, 18 Jun 2021 06:37 PM IST

सार
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने शुक्रवार को केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने एक साक्षात्मकार में कहा कि प्रधानमंत्री ने शासन करने का नैतिक अधिकार खो दिया है।

कपिल सिब्बल
– फोटो : PTI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने शुक्रवार को केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने एक साक्षात्मकार में कहा कि प्रधानमंत्री ने शासन करने का नैतिक अधिकार खो दिया है, लेकिन अपने राजनीतिक भाग्य को सुरक्षित मानते हुए वह कर्तव्यों का निर्वहन करना बंद नहीं कर सकते।सिब्बल ने कहा कि प्रधानमंत्री को कोविड के दौरान चिकित्सा सहायता की जरूरत वाले लोगों के साथ खड़ा होना चाहिए था, लेकिन वह पश्चिम बंगाल में राजनीतिक प्रतिस्पर्धा में व्यस्त थे। समाचार एजेंसी पीटीआई से चर्चा में पूर्व केंद्रीय मंत्री ने पीएम मोदी पर तीखा हमला किया। उन्होंने कहा कि विश्वसनीय राजनीतिक नेतृत्व के अभाव का मतलब यह नहीं है कि पीएम को अपने कर्तव्य का निर्वहन रोक देना चाहिए और यह मान लेना चाहिए कि उनका राजनीतिक भविष्य सुरक्षित है। सिब्बल ने सरकार पर कोविड-19 टीकाकरण की रणनीति के लिए अपनी अयोग्यता के लिए भी हमला किया। उन्होंने कहा कि यह आपराधिक लापरवाही की हद है। महामारी से निपटने में सरकार की प्राथमिकताएं गलत और दोषपूर्ण हैं और ईमानदारी की कमी है। उन्होंने यह भी कहा कि टूलकिट मुद्दा और कुछ नहीं बल्कि उनकी सरकार की विफलताओं से जनता का ध्यान हटाने के लिए जालसाजी का एक प्रयास है।सिब्बल ने दूसरी लहर के दौरान लोगों की जिंदगियों को बचाने में निष्क्रियता के लिए प्रधानमंत्री को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि कोई विश्वसनीय विकल्प हो भी सकता है और नहीं भी, लेकिन क्या इसका मतलब यह है कि उन्हें अपना राजनीतिक भविष्य सुरक्षित मानते हुए अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करना बंद कर देना चाहिए।

विस्तार

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने शुक्रवार को केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने एक साक्षात्मकार में कहा कि प्रधानमंत्री ने शासन करने का नैतिक अधिकार खो दिया है, लेकिन अपने राजनीतिक भाग्य को सुरक्षित मानते हुए वह कर्तव्यों का निर्वहन करना बंद नहीं कर सकते।

सिब्बल ने कहा कि प्रधानमंत्री को कोविड के दौरान चिकित्सा सहायता की जरूरत वाले लोगों के साथ खड़ा होना चाहिए था, लेकिन वह पश्चिम बंगाल में राजनीतिक प्रतिस्पर्धा में व्यस्त थे। समाचार एजेंसी पीटीआई से चर्चा में पूर्व केंद्रीय मंत्री ने पीएम मोदी पर तीखा हमला किया। उन्होंने कहा कि विश्वसनीय राजनीतिक नेतृत्व के अभाव का मतलब यह नहीं है कि पीएम को अपने कर्तव्य का निर्वहन रोक देना चाहिए और यह मान लेना चाहिए कि उनका राजनीतिक भविष्य सुरक्षित है। 

सिब्बल ने सरकार पर कोविड-19 टीकाकरण की रणनीति के लिए अपनी अयोग्यता के लिए भी हमला किया। उन्होंने कहा कि यह आपराधिक लापरवाही की हद है। महामारी से निपटने में सरकार की प्राथमिकताएं गलत और दोषपूर्ण हैं और ईमानदारी की कमी है। उन्होंने यह भी कहा कि टूलकिट मुद्दा और कुछ नहीं बल्कि उनकी सरकार की विफलताओं से जनता का ध्यान हटाने के लिए जालसाजी का एक प्रयास है।
सिब्बल ने दूसरी लहर के दौरान लोगों की जिंदगियों को बचाने में निष्क्रियता के लिए प्रधानमंत्री को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि कोई विश्वसनीय विकल्प हो भी सकता है और नहीं भी, लेकिन क्या इसका मतलब यह है कि उन्हें अपना राजनीतिक भविष्य सुरक्षित मानते हुए अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करना बंद कर देना चाहिए।

Continue Reading
Advertisement

Trending

Copyright © 2017 Zox News Theme. Theme by MVP Themes, powered by WordPress.