Connect with us

India

Corona Live: केरल में बढ़ाया गया लॉकडाउन, अब 30 मई तक रहेगी कड़ी पाबंदी

Published

on

06:19 PM, 21-May-2021
केरल में 30 मई तक के लिए बढ़ा लॉकडाउन
केरल में लॉकडाउन को 30 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया है। तिरुवनंतपुरम, एर्नाकुलम और त्रिशूर में ट्रिपल लॉकडाउन कल यानी शनिवार से वापस ले लिया जाएगा क्योंकि पॉजिटिविटी दर में कमी आई है। वहीं मलप्पुरम में ट्रिपल लॉकडाउन जारी रहेगा। 

05:08 PM, 21-May-2021
उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 7735 नए मामले
उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 7735 नए मामले सामने आए हैं और 172 लोगों की मौत हुई है। इस दौरान 17,668 लोग स्वस्थ भी हुए।

उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटों में 7,735 नए #COVID19 मामले, 17,668 रिकवरी और 172 मौतें रिपोर्ट हुई हैं।
कुल रिकवरी- 15,34,176
कुल मुत्यु- 18,760
सक्रिय मामले- 1,06,276— ANI_HindiNews (@AHindinews) May 21, 2021
 

04:01 PM, 21-May-2021
फंगल रोधी इंजेक्शन की काला बाजारी के आरोप में पांच गिरफ्तार
गुजरात के अहमदाबाद शहर में म्यूकोरमाइकोसिस के उपचार में इस्तेमाल होने वाले एक इंजेक्शन की कथित तौर पर कालाबाजारी की कोशिश कर रहे पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।
एक अधिकारी ने बताया कि खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीसीए) और गुजरात पुलिस के अधिकारियों ने इन पांच आरोपियों को गुरुवार को शहर के अलग-अलग इलाकों से गिरफ्तार किया।

03:29 PM, 21-May-2021
पुणे में ब्लैक फंगस के 300 से अधिक मामले
महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने बताया कि वर्तमान में पुणे में ब्लैक फंगस के 300 से अधिक मामले हैं, जिनमें अन्य जिलों के निवासी भी शामिल हैं लेकिन उनके इलाज के लिए पर्याप्त संख्या में इंजेक्शन नहीं है। उन्होंने कहा कि यदि 300 रोगी हैं, तो एक दिन में लगभग 1800 इंजेक्शन की आवश्यकता होती है और यह आवश्यक संख्या में उपलब्ध नहीं है।

02:56 PM, 21-May-2021
दिल्ली: बीते 24 घंटे में सामने आए 3009 नए मामले
दिल्ली में कोरोना वायरस के ताजा मामले काफी तेजी से गिर रहे हैं। बीते 24 घंटे में दिल्ली में कोरोना के कुल 3,009 नए मामले सामने आए। वहीं 252 मरीजों ने अपनी जान गंवाई। इसी बीच 7,288 मरीज ठीक होकर अपने घर वापस लौटे।

 

Delhi reports 3,009 new #COVID19 cases, 7,288 recoveries and 252 deaths in the last 24 hours.
Active cases: 35,683
Total recoveries: 13,54,445
Death toll: 22,831 pic.twitter.com/nOmna1Mmmq
— ANI (@ANI) May 21, 2021

02:44 PM, 21-May-2021
मेरठ: इन तीन युवाओं ने व्हॉट्सएप के जरिए लोगों की मदद की
मेरठ और सहारनपुर के तीन युवाओं ने कोरोना काल में बहुत लोगों को अस्पताल में बिस्तर दिलाने में मदद की। अवनि सिंह, रिशय गुप्ता और सहारनपुर के अंश गर्ग ने व्हॉट्स ग्रुप के जरिए लोगों की मदद की। इन तीनों ने मरीजों को ऑक्सीजन सप्लाई और अस्पताल में बिस्तरों की उपलब्धता को लेकर मदद की। 

 

3 teenagers-Avani Singh & Rishay Gupta from Meerut & Saharanpur’s Ansh Garg help patients with hospital beds & oxygen supplies via WhatsApp
“We spread the word on personal level. Later, those who were helped also joined to help others. We’ve 200 volunteers,” said Rishya pic.twitter.com/ILNzbZ6o1M
— ANI UP (@ANINewsUP) May 21, 2021

02:26 PM, 21-May-2021
मध्यप्रदेश: भिंड में वायरल वीडियो को लेकर बवाल, जांच शुरू
मध्यप्रदेश के भिंड के एक गांव में भारी संख्या में लोग जुटे हुए दिखाई दिए। ऐसा दावा किया गया कि ये लोग बर्थडे पार्टी में शामिल हुए थे। पुलिस ने जानकारी दी कि लॉकडाउन के दौरान वो लोग भीड़ इकट्ठा किए। हमने शिकायत दर्ज कर ली है और आगे जांच की जा रही है।

 

Madhya Pradesh: A video of large group of people gathered for birthday party in a village in Bhind goes viral
“They gathered during lockdown. We have filed a complaint & are investigating matter. Action to be taken accordingly,” says ADSP
(Pic 1-Screengrab from viral video) pic.twitter.com/eFvEbUKDIs
— ANI (@ANI) May 21, 2021

01:58 PM, 21-May-2021
हैदराबाद: सब्जी बाजार में सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाते नजर आए लोग
हैदराबाद में एक सब्जी बाजार में लोग सोशल डिस्टेंसिंग के धज्जियां उड़ाते नजर आए। बता दें कि तेलंगाना में 30 मई तक लॉकडाउन लगाने का एलान है।

 

Telangana: People flout social distancing norms at the vegetable market in Hyderabad.
The state is under lockdown till May 30th to contain the spread of #COVID19. All activities allowed between 6 am to 10 am every day. pic.twitter.com/u55fJSeONV
— ANI (@ANI) May 21, 2021

01:52 PM, 21-May-2021
गोवा में 31 मई तक बढ़ा कर्फ्यू
गोवा में 31 मई तक कोरोना कर्फ्यू को बढ़ाया गया।

 

#COVID19 | Goa Chief Minister Pramod Sawant has announced the extension of curfew up to May 31
(File pic) pic.twitter.com/apkzCGorSk
— ANI (@ANI) May 21, 2021

01:27 PM, 21-May-2021
ब्लैक फंगस के बढ़ते मामले चिंताजनक- डॉ. हर्षवर्धन
देश में बढ़ रहे ब्लैक फंगस के मामलों को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने इनपर चिंता जाहिर की है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि देश में ब्लैक फंगस के मामले बढ़ रहे हैं और इसकी दवा का उत्पादन बढ़ाया जा रहा है।

 

Union Health Minister Dr Harsh Vardhan holds a meeting via video conference with health ministers of 9 States & UTs to review the prevailing COVID situation & progress of vaccination drive in their respective regions pic.twitter.com/GetUt9kcYI

— ANI (@ANI) May 21, 2021

01:20 PM, 21-May-2021
18460.576 मीट्रिक टन ऑक्सीजन 15 राज्यों को भेजी गई- ओडिशा सरकार
ओडिशा में पुलिस की निगरानी में अबतक 1005 ऑक्सीजन टैंकर और कंटेनर में 18460.576 मीट्रिक टन ऑक्सीजन 15 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश को भेजी गई। 

 

Odisha: A total of 1005 tankers/containers carrying 18460.576 MT medical oxygen have been dispatched under the supervision of Odisha Police so far from Rourkela, Jajpur, and Dhenkanal and Angul districts of Odisha to 15 States/UTs
— ANI (@ANI) May 21, 2021

12:59 PM, 21-May-2021
ब्लैक फंगस के मामले बढ़ रहे हैं- डॉ. रणदीप गुलेरिया
एम्स निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने ब्लैक फंगस मामले पर कहा कि कोविड मरीजों में ये फंगल इंफेक्शन काफी ज्यादा दिखाई दे रहा है। कोरोना से संक्रमित मधुमेह के मरिजों में ये फंगल इंफेक्शन ज्यादा दिखाई दे रहा है।

 

There has been an increasing trend in the fungal infection being seen in COVID patients. This was also reported to some extent during SARS outbreak. Uncontrolled diabetes with COVID can also predispose to the development of Mucormycosis: AIIMS Director Dr Guleria on Black fungus pic.twitter.com/VfceT6POFS
— ANI (@ANI) May 21, 2021

12:35 PM, 21-May-2021
आंध्र प्रदेश: कृष्णपटनम गांव में जुटी लोगों की भीड़
आंध्र प्रदेश के नेल्लोर जिले के कृष्णपटनम गांव में लोग भारी संख्या में भीड़ लगाते दिखाई दिए। यहां कोविड के खिलाफ लड़ाई में आयुर्वेदिक डॉक्टर दवाई बांट रहा था।

 

Andhra Pradesh | People in very large numbers gather at Krishnapatnam village in Nellore district where an Ayurvedic practitioner is distributing medicines for COVID19; social distancing norms flouted pic.twitter.com/plv60oxtXl
— ANI (@ANI) May 21, 2021

12:20 PM, 21-May-2021
पीएम मोदी ने वाराणसी के डॉक्टर समेत फ्रंटलाइन वर्कर्स से बात की
प्रधानमंत्री मोदी ने वाराणसी के डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ और फ्रंटलाइन वर्कर्स के साथ बातचीत की। पीएम मोदी ने कहा कि वाराणसी में अधिकारियों ने कम वक्त में बहुत अच्छा काम किया। अस्पताल में ऑक्सीजन बेड बढ़ाए, घर-घर जाकर दवाइयां बांटी।

 

Prime Minister Narendra Modi interacts with doctors, paramedical staff and other frontline health workers of Varanasi, Uttar Pradesh pic.twitter.com/EPPaAtWnGO
— ANI (@ANI) May 21, 2021

12:00 PM, 21-May-2021
दिल्ली में 18-44 वर्ग के लिए कोविशील्ड खत्म
दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि 18-44 साल के लोगों के लिए हमारे पास कोविशील्ड नहीं है और इस समूह के लिए कोवैक्सीन भी जल्द खत्म हो जाएगी। उन्होंने जानकारी दी कि आज कई सारे वैक्सीनेशन केंद्र बंद हो जाएंगे। इसके अलावा उन्होंने जानकारी दी कि दिल्ली में सरकारी और निजी अस्पताल में ब्लैक फंगस के 197 मामले  हैं।

 

In Delhi, there are 197 cases of Black fungus in govt & private hospitals: Delhi Health Minister Satyendar Jain
— ANI (@ANI) May 21, 2021

Continue Reading

India

चीन की उन्नत समाजवादी देश परियोजना: उपनिवेशवाद तथा कब्जे के नए तरीके जिनसे दुनिया है हैरान

Published

on

By

इस समय चीन न केवल भारत, बल्कि अमेरिका सहित दुनिया के कई अन्य देशों के लिए भी अलग-अलग वजहों से परेशानी का कारण बना हुआ है। एक साल पहले गलवां घाटी में भारत और चीन के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद केंद्र सरकार ने टिकटॉक समेत ढेरों चाइनीज एप्स पर देश में पाबंदी लगा दी थी। इन एप्स से भारत की संप्रभुता और सुरक्षा को खतरा बताया गया था। हालांकि विशेषज्ञ एप्स पर लगे प्रतिबंध को चीन के प्रति आशंकाओं का एक बहुत ही छोटा-सा हिस्सा मानते हैं। उस समय युद्ध जैसे हालात बनते बनते रह गए थे।दूसरी ओर यह देश भारत के पड़ोसी देशों में अपनी पकड़ लगातार बढ़ाता जा रहा है। पाकिस्तान को उसने पहले ही अपने कर्ज के जाल में फंसा रखा है। श्रीलंका में भी उसकी पैठ गहराती जा रही है। नेपाल, बांग्लादेश और म्यांमार में भी उसका दखल बढ़ रहा है।दुनिया इस समय कोरोना महामारी से जूझने में जुटी हुई है और चीन विस्तारवाद की राह पर अपनी गति बढ़ा रहा है। अमेरिका और यूरोपीय देशों में कोविड से बचाव के टीकों को अधिक से अधिक लोगों को लगाने की जद्दोजहद चल रही है। वहीं विकासशील देशों में टीकों का टोटा चल रहा है और चीन इसका फायदा उठाने में जुटा हुआ है। भारत अभी भी अपनी पहली स्वदेशी कोविड वैक्सीन को विश्व स्वास्थ्य संगठन से मान्यता दिलाने की प्रक्रिया में है और चीन की दो वैक्सीन को यह अनुमति दी जा चुकी है।इतना ही नहीं चीन दुनिया के सबसे बड़े वैक्सीन निर्माता और उत्पादक देश अमेरिका को पीछे छोड़ने से कुछ ही कदम पीछे रह गया है। उसने अब तक औसतन प्रत्येक 100 में से 50 नागरिकों को कोविड का टीका लगा दिया है। इतना ही नहीं चीन दुनिया के 60 देशों को मुफ्त या सस्ती वैक्सीन भी उपलब्ध करा चुका है।कोरोना से बढ़ रही मौतों से चिंतित अमेरिका ने दुनिया के जरूरतमंद देशों को वैक्सीन देने का काम कुछ समय के लिए रोक दिया था। भारत में भी कोरोना की दूसरी लहर ही वजह से यह काम रोक दिया गया था। उसी समय चीन ने दुनिया के अलग अलग भौगोलिक स्थिति वाले देशों को अपनी वैक्सीन दी। चीन में इस समय 49 वैक्सीन पर शोध किया जा रहा है और छह को वह अपने नागरिकों को लगा रहा है। चीन ने पिछले साल 2020 में ही छह कोविड वैक्सीन को देश के भीतर उपयोग की अनुमि दे दी थी और अब तक इनका प्रयोग किया जा रहा है।वैक्सीन उपनिवेशवादअमेरिका में इस समय 66 वैक्सीन पर शोध और उत्पादन का कार्य किया जा रहा है। चीन इस मामले में दूसरे नंबर पर पहुंच चुका है और तीसरे नंबर पर यूरोप के देश हैं। 2021 की शुरुआत के बाद चीन ने वैक्सीन राष्ट्रवाद का फायदा उठाया और मेक्सिको, पेरू, चिली, अर्जेंटीना, रूस, पाकिस्तान और इंडोनेशिया जैसे एक दर्जन से ज्यादा देशों में अपनी वैक्सीन का ट्रायल किया।वहीं चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग अपने देश को ‘एडवांस्ड सोशलिस्ट कंट्री’ बनाने की दिशा में तेजी से काम कर रहे हैं। इससे अमेरिका और अन्य विकसित देश परेशान हैं। ‘एडवांस्ड सोशलिस्ट कंट्री’ प्रोजेक्ट के तहत चीन खुद को 2049 तक दुनिया की सबसे बड़ी सैन्य, आर्थिक और सांस्कृतिक ताकत के रूप में प्रतिष्ठित करना चाहता है। यदि वह इसे प्राप्त कर लेता है तो अमेरिका दूसरे पायदान पर पहुंच जाएगा। वहीं तकनीकी मोर्चे पर आगे दिखाई दे रहे कई यूरोपीय देशों की हैसियत भी कम हो जाएगी।चीन की डरावनी योजनाएंचीन की कई ऐसी भावी योजनाएं हैं, जो इस समय दुनिया को आश्चर्यचकित करने के साथ-साथ डरा भी रही हैं। निवेश और कर्ज के भी जाल में वह कई देशों को फांस चुका है। हमारा पड़ोसी देश बांग्लादेश भी उसके इस जाल में फंसता जा रहा है। चीन वहां 2030 तक 100 स्पेशल इकोनॉमिक जोन (एसईजेड) स्थापित करने की घोषणा कर चुका है। इसमें अरबों डॉलर का निवेश करने के लिए कई चीनी कंपनियां भी तैयार हैं।बीआरआई योजनाइसी तरह चीन की बेल्ट एंड रोड इनीशिएटिव (बीआरआई) योजना है जिसके तहत 2049 तक दुनिया के करीब 70 देशों में बुनियादी संरचनाओं का निर्माण कर उन्हें एकसाथ लाया जा रहा है, लेकिन इसका असली मकसद व्यापार पर एकाधिकार स्थापित करना व भारत और अमेरिका को घेरना है। इन तमाम योजनाओं में एक और महत्वाकांक्षी योजना है – ‘मेड इन चाइना 2025’ जिसे चीन ने साल 2015 में लॉन्च किया था। फिर अंतरिक्ष का क्षेत्र भी है जहां चीन अपनी जबरदस्त उपस्थिति दर्ज कर दुनिया पर नजर रखने की महत्वाकांक्षा पाले हुए है। हाल ही में उसने अपने तीन अंतरिक्षयात्रियों को पृथ्वी की कक्षा में भेजा है। ये तीनों चीन के निर्माणाधीन अंतरिक्ष स्टेशन में तीन महीने तक रहेंगे।अंतरिक्ष में चुनौतीअंतरिक्ष स्टेशन के निर्माण के लिए चीन ने 2021 से 2022 के बीच 11 बार अंतरिक्ष यानों को भेजने की योजना बनाई है जिनमें तीन अभियान पूरे हो चुके हैं। वह तियांजू-2 कार्गो शिप को पहले ही अंतरिक्ष में भेज चुका है। चीनी एजेंसी के अनुसार 11 में से तीन बार उसके यानों से स्टेशन के मॉड्यूल, चार बार कार्गो स्पेसशिप और चार बार अंतरिक्ष यात्री स्टेशन के लिए रवाना होंगे। वह साल 2022 तक 10 ऐसे ही और मॉड्यूल लॉन्च करना चाहता है जो पृथ्वी का चक्कर लगाएंगे।आशंकित अमेरिकाअमेरिका कई बार आशंका जता चुका है कि चीन भविष्य में अपनी अंतरिक्ष परियोजनाओं का इस्तेमाल अमेरिका और उसके मित्र देशों की जासूसी करने में कर सकता है। यही वजह है कि वो खुद को अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन से अलग कर चुका है और अपना खुद का अंतरिक्ष स्टेशन पूरा करने की दिशा में तेजी से काम कर रहा है।जासूसी का खतरा?अब तक अंतरिक्ष में अमेरिका का वर्चस्व था। वह स्पेस सुप्रीमेसी का फायदा भी उठा रहा था। लेकिन अब चीन पर अंतरिक्ष से जासूसी करने के आरोप लगने लगे हैं। ताइवान पहले ही अपने सरकारी कर्मचारियों को उन स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने से मना कर चुका है जिसमें नेविगेशन के लिए चीनी सॉफ्टवेयर बाइदू इंस्टॉल हैं। उसे शक है कि इस नेटवर्क का इस्तेमाल कर जरूरी सूचनाएं चीन की सेना व सरकार तक पहुंचाई जा सकती हैं।आशंका की वजह क्या है?दरअसल, चीन की अंतरिक्ष एजेंसी ‘चाइना नेशनल स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन’ सेना का अंग है। इसलिए वह अपने हर प्रोजेक्ट के लिए सेना के प्रति उत्तरदायी है। हालांकि अंतरिक्ष अनुसंधान में चीन अब भी अमेरिका से काफी पीछे है, लेकिन पिछले कुछ वर्षों में उसकी प्रगति चौंकाने वाली है। चीन ने पिछले साल बाइदू नेटवर्क अभियान के तहत पांच टन वजनी उपग्रह अंतरिक्ष में स्थापित किया था। बाइदू नेटवर्क अमेरिका के विश्वव्यापी ‘ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम’ (जीपीएस) के विकल्प के रूप में बनाया गया है। चीन ने अपने इस पूरे प्रोजेक्ट पर करीब 10 अरब डॉलर खर्च किए हैं।

Continue Reading

India

अनुच्छेद 370: केंद्रीय मंत्री तोमर बोले- दिग्विजय सिंह का बयान देश का कांग्रेस मुक्त कराने वाला

Published

on

By

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, ग्वालियर
Published by: सुरेंद्र जोशी
Updated Fri, 18 Jun 2021 06:01 PM IST

सार
जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 की बहाली को लेकर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के बयान पर अब केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने पलटवार किया है। तोमर ने कहा कि इसे बहाल करना संभव नहीं होगा।  

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर
– फोटो : एएनआई

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह द्वारा हाल ही में अनुच्छेद 370 को लेकर दिए गए बयान को देश को कांग्रेस से मुक्त कराने वाला करार दिया है।तोमर ने शुक्रवार को ग्वाालियर में मीडिया से बातचीत में कहा, ‘सारा देश अनुच्छेद 370 को बहाल करने के खिलाफ है और दिग्विजय सिंह का बयान भारत को कांग्रेस से मुक्त करने वाला है। अभी तो कांग्रेस सरकार बनने की संभावना भी नहीं दिखाई देती है, और यदि बन भी गई तो इसे दोबारा बहाल करना संभव नहीं होगा। गौरतलब है कि दिग्विजय सिंह ने कथित रूप से कहा था कि केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनने पर जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को लागू करने पर पुनर्विचार किया जा सकता है ।कानूनी वापसी को छोड़कर किसानों से बात को तैयारकेंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों द्वारा कई माह से किए जा रहे आंदोलन के सवाल पर केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि सरकार हमेशा किसानों से बात करने को तैयार है। कानूनों को वापस लेने की बात को छोड़कर, कानून संबंधित प्रावधानों को लेकर कोई किसान यूनियन आधी रात को भी बात करने को तैयार है तो नरेंद्र सिंह तोमर उसका स्वागत करेंगे।उन्होंने बताया कि ग्वालियर-चंबल अंचल में मेडिकल सुविधाओं का तेजी से विस्तार हो रहा है और कोविड संक्रमण की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी हो रही है। अस्पतालों में पीएम केयर फंड और राज्य सरकार ने ऑक्सीजन प्लांट से लेकर मेडिकल उपकरण दिए हैं और इसके बाद भी जरुरत होने पर कई निजी कंपनियों से मदद लेकर प्रत्येक जिले में मेडिकल सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। कोरोना के टीके को लेकर उन्होंने कहा कि अगस्त महीने से ज्यादा मात्रा में टीके उपलब्ध रहेंगे और यह काम तेजी से आगे बढ़ रहा है।

विस्तार

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह द्वारा हाल ही में अनुच्छेद 370 को लेकर दिए गए बयान को देश को कांग्रेस से मुक्त कराने वाला करार दिया है।

तोमर ने शुक्रवार को ग्वाालियर में मीडिया से बातचीत में कहा, ‘सारा देश अनुच्छेद 370 को बहाल करने के खिलाफ है और दिग्विजय सिंह का बयान भारत को कांग्रेस से मुक्त करने वाला है। अभी तो कांग्रेस सरकार बनने की संभावना भी नहीं दिखाई देती है, और यदि बन भी गई तो इसे दोबारा बहाल करना संभव नहीं होगा। गौरतलब है कि दिग्विजय सिंह ने कथित रूप से कहा था कि केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनने पर जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को लागू करने पर पुनर्विचार किया जा सकता है ।

कानूनी वापसी को छोड़कर किसानों से बात को तैयार
केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों द्वारा कई माह से किए जा रहे आंदोलन के सवाल पर केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि सरकार हमेशा किसानों से बात करने को तैयार है। कानूनों को वापस लेने की बात को छोड़कर, कानून संबंधित प्रावधानों को लेकर कोई किसान यूनियन आधी रात को भी बात करने को तैयार है तो नरेंद्र सिंह तोमर उसका स्वागत करेंगे।
उन्होंने बताया कि ग्वालियर-चंबल अंचल में मेडिकल सुविधाओं का तेजी से विस्तार हो रहा है और कोविड संक्रमण की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी हो रही है। अस्पतालों में पीएम केयर फंड और राज्य सरकार ने ऑक्सीजन प्लांट से लेकर मेडिकल उपकरण दिए हैं और इसके बाद भी जरुरत होने पर कई निजी कंपनियों से मदद लेकर प्रत्येक जिले में मेडिकल सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। कोरोना के टीके को लेकर उन्होंने कहा कि अगस्त महीने से ज्यादा मात्रा में टीके उपलब्ध रहेंगे और यह काम तेजी से आगे बढ़ रहा है।

Continue Reading

India

वार : कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल बोले- प्रधानमंत्री ने शासन करने का नैतिक अधिकार खो दिया

Published

on

By

{“_id”:”60cc9a7c754900781b1fc4d9″,”slug”:”senior-congress-leader-kapil-sibal-said-pm-modi-has-lost-moral-authority-to-rule-he-failed-to-stand-with-people-needing-medical-help”,”type”:”story”,”status”:”publish”,”title_hn”:”u0935u093eu0930 : u0915u093eu0902u0917u094du0930u0947u0938 u0928u0947u0924u093e u0915u092au093fu0932 u0938u093fu092cu094du092cu0932 u092cu094bu0932u0947- u092au094du0930u0927u093eu0928u092eu0902u0924u094du0930u0940 u0928u0947 u0936u093eu0938u0928 u0915u0930u0928u0947 u0915u093e u0928u0948u0924u093fu0915 u0905u0927u093fu0915u093eu0930 u0916u094b u0926u093fu092fu093e”,”category”:{“title”:”India News”,”title_hn”:”u0926u0947u0936″,”slug”:”india-news”}}

पीटीआई, नई दिल्ली
Published by: योगेश साहू
Updated Fri, 18 Jun 2021 06:37 PM IST

सार
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने शुक्रवार को केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने एक साक्षात्मकार में कहा कि प्रधानमंत्री ने शासन करने का नैतिक अधिकार खो दिया है।

कपिल सिब्बल
– फोटो : PTI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने शुक्रवार को केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने एक साक्षात्मकार में कहा कि प्रधानमंत्री ने शासन करने का नैतिक अधिकार खो दिया है, लेकिन अपने राजनीतिक भाग्य को सुरक्षित मानते हुए वह कर्तव्यों का निर्वहन करना बंद नहीं कर सकते।सिब्बल ने कहा कि प्रधानमंत्री को कोविड के दौरान चिकित्सा सहायता की जरूरत वाले लोगों के साथ खड़ा होना चाहिए था, लेकिन वह पश्चिम बंगाल में राजनीतिक प्रतिस्पर्धा में व्यस्त थे। समाचार एजेंसी पीटीआई से चर्चा में पूर्व केंद्रीय मंत्री ने पीएम मोदी पर तीखा हमला किया। उन्होंने कहा कि विश्वसनीय राजनीतिक नेतृत्व के अभाव का मतलब यह नहीं है कि पीएम को अपने कर्तव्य का निर्वहन रोक देना चाहिए और यह मान लेना चाहिए कि उनका राजनीतिक भविष्य सुरक्षित है। सिब्बल ने सरकार पर कोविड-19 टीकाकरण की रणनीति के लिए अपनी अयोग्यता के लिए भी हमला किया। उन्होंने कहा कि यह आपराधिक लापरवाही की हद है। महामारी से निपटने में सरकार की प्राथमिकताएं गलत और दोषपूर्ण हैं और ईमानदारी की कमी है। उन्होंने यह भी कहा कि टूलकिट मुद्दा और कुछ नहीं बल्कि उनकी सरकार की विफलताओं से जनता का ध्यान हटाने के लिए जालसाजी का एक प्रयास है।सिब्बल ने दूसरी लहर के दौरान लोगों की जिंदगियों को बचाने में निष्क्रियता के लिए प्रधानमंत्री को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि कोई विश्वसनीय विकल्प हो भी सकता है और नहीं भी, लेकिन क्या इसका मतलब यह है कि उन्हें अपना राजनीतिक भविष्य सुरक्षित मानते हुए अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करना बंद कर देना चाहिए।

विस्तार

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने शुक्रवार को केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने एक साक्षात्मकार में कहा कि प्रधानमंत्री ने शासन करने का नैतिक अधिकार खो दिया है, लेकिन अपने राजनीतिक भाग्य को सुरक्षित मानते हुए वह कर्तव्यों का निर्वहन करना बंद नहीं कर सकते।

सिब्बल ने कहा कि प्रधानमंत्री को कोविड के दौरान चिकित्सा सहायता की जरूरत वाले लोगों के साथ खड़ा होना चाहिए था, लेकिन वह पश्चिम बंगाल में राजनीतिक प्रतिस्पर्धा में व्यस्त थे। समाचार एजेंसी पीटीआई से चर्चा में पूर्व केंद्रीय मंत्री ने पीएम मोदी पर तीखा हमला किया। उन्होंने कहा कि विश्वसनीय राजनीतिक नेतृत्व के अभाव का मतलब यह नहीं है कि पीएम को अपने कर्तव्य का निर्वहन रोक देना चाहिए और यह मान लेना चाहिए कि उनका राजनीतिक भविष्य सुरक्षित है। 

सिब्बल ने सरकार पर कोविड-19 टीकाकरण की रणनीति के लिए अपनी अयोग्यता के लिए भी हमला किया। उन्होंने कहा कि यह आपराधिक लापरवाही की हद है। महामारी से निपटने में सरकार की प्राथमिकताएं गलत और दोषपूर्ण हैं और ईमानदारी की कमी है। उन्होंने यह भी कहा कि टूलकिट मुद्दा और कुछ नहीं बल्कि उनकी सरकार की विफलताओं से जनता का ध्यान हटाने के लिए जालसाजी का एक प्रयास है।
सिब्बल ने दूसरी लहर के दौरान लोगों की जिंदगियों को बचाने में निष्क्रियता के लिए प्रधानमंत्री को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि कोई विश्वसनीय विकल्प हो भी सकता है और नहीं भी, लेकिन क्या इसका मतलब यह है कि उन्हें अपना राजनीतिक भविष्य सुरक्षित मानते हुए अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करना बंद कर देना चाहिए।

Continue Reading
Advertisement

Trending

Copyright © 2017 Zox News Theme. Theme by MVP Themes, powered by WordPress.