SP-BSP Alliance LIVE Updates: मायावती-अखिलेश की साझा प्रेस कांफ्रेस आज, कुछ देर में होगा महागठबंधन का ऐलान

3
- Advertisement -

SP-BSP alliance LIVE Updates: अखिलेश यादव और मायावती

लखनऊ:

SP-BSP Alliance anouncement LIVE Updates: लोकसभा चुनाव 2019 की तैयारियों में उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा पूरी तरह से जुट गई है और आज मायावती और अखिलेश यादव सपा-बसपा गठबंधन (SP-BSP Alliance) का औपचारिक ऐलान कर रहे हैं. सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और बीएसपी सुप्रीमो मायावती आज दोपहर 12 बजे एक साझा प्रेस कॉन्फ़्रेंस करने के लिए एक साथ पहुंचे और गुलदस्ते से एक-दूसरे का स्वागत किया. सपा-बसपा के साथ आरएलडी, ओपी राजभर की सुहेलदेव समाज पार्टी और कृष्णा पटेल वाला अपना दल भी होगा. ख़बरों के मुताबिक़ बसपा-37, सपा-36, आरएलडी-3 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. वहीं एक सीट ओपी राजभर और एक सीट अपना दल को मिलेगा. हालांकि, आरएलडी 5 सीटों की मांग कर कर रही है. कांग्रेस की परंपरागत सीट अमेठी और रायबरेली में महागठबंधन कोई उम्मीदवार नहीं उतारेगा. सूत्रों के हवाले से ख़बर है कि अजित सिंह की आरएलडी ने पांच सीटें मांगकर गठबंधन का पेंच फंसा दिया है. ये पांच सीटें हैं. हाथरस, मथुरा, कैराना, बागपत, मुज़फ़्फ़रनगर.

SP-BSP alliance anouncement LIVE Updates:

– मायावती ने कहा कि बीजेपी ने प्रदेश में बेईमानी से सत्ता हासिल की है. हमने गठबंधन में कांग्रेस को नहीं रखा. कांग्रेस या बीजेपी कोई आए, दोनों में एक ही बात है. कांग्रेस और बीजेपी की नीतियां एक जैसी है. दोनों सरकारों का हाल एक जेस ही रहे हैं.

- Advertisement -

-प्रेस कॉन्फ्रेंस में मायावती ने क्या कहा:
पीएम मोदी और अमित शाह दोनों गुरु चेले की नींद उड़ाने वाली अति महत्वपूर्ण और ऐतिहासिक प्रेस कांफ्रेंस होने जा रही है. हमारी पार्टी बीएसपी ने अंबेडकर के देहांत के बाद उनके कारवां को गति प्रदान की है. हमनें उस कारवां को ऐतिहासिक सफलता भी दिलाई है. हम जातिवादी व्यवस्था के शिकार लोगों को सम्मान दिलाने का काम कर रहे हैं. हम पहले भी साथ आए थे और आज फिर चुनाव के लिए साथ आ रहे हैं. हमें उस दौरान भी चुनाव में सफलता मिली थी. इस बार भी हम सफल होंगे. हमारी मकसद सिर्फ बीजेपी जैसी सांप्रदायिक पार्टियों को सत्ता से बाहर रखने का है. अब देश में जनहित को लखनऊ गेस्टहाउस कांड से ऊपर रखते हुए एक बार फिर हमनें उसी प्रकार की दूषित राजनीति को जड़ से हटाने के लिए एक साथ आने का फैसला लिया है. आज उत्तर प्रदेश सहित पूरे देश के सवा सौ करोड़ आम जनता बीजेपी के घोर चुनावी वादा खिलाफी के खिलाफ खड़े हैं. आज आम जनता बीजेपी के तानाशाही रवैये से खासे नाराज हैं. आज सपा और बसपा ने देशहित को ध्यान में रहकर एक जुट होने का फैसला किया है. हमारा गठबंधन नई राजनीतिक क्रांति की तरह होगी. बीएसपी-सपा के गठबंधन से आम जनता की उम्मीद जग गई है. यह गठबंधन सिर्फ चुनाव जीतने के लिए ही नहीं है बल्कि यह गरीबों, महिनलाओं, किसानों, दलितों, शोषित और पिछड़ों को उनका हक दिलाने के लिए है. बीजेपी की गलत नीतियों और कार्य प्रणाली से जनता खासी दुखी है. अब इस पार्टी को सत्ता में आने का अधिकार नहीं है. हम उसे दोबारा सत्ता में आने से रोकना चाहते हैं.

– मायावती बोलीं- देशहित में हमने लखनऊ गेस्ट हाउस कांड को किनारे रखा, अब मोदी-शाह की नींद उड़ जाएगी

– मायावती बोलीं- बीजेपी घोर जातिवादी, सांप्रदायिक है. पीएम मोदी और अमित शाह की नींद उड़ जाएगी. 1993 में भी हमारा गठबंधन हुआ था, मगर कुछ कारणों से हमें अलग होना पड़ा था.

– लखनऊ गेस्ट हाउस कांड से देशहित के मुद्दे को ऊपर रखते हुए हमने गठबंधन करे का फैसला किया है. यही वजह है कि हम फिर से देश के लिए एक साथ आए हैं.

-मायावती ने सपा-बसपा गठबंधन का ऐलान किया और कहा कि 25 साल बाद हम दोनों पार्टियां एक बार फिर से साथ आए.

-बसपा सुप्रीमो मायावती ने बोलना शुरू किया.

-अखिलेश यादव और मायावती दोनों प्रेस कॉन्फ्रेंस के लिए पहुंच चुकी हैं. अब से कुछ देर में ही साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सपा-बसपा गठबंधन का ऐलान करेंगे.

yrbcoq6n

-गठबंधन के औपचारिक ऐलान से पहले ही जगह-जगह अलग-अलग तरह के पोस्टर दिख रहे हैं.

636828895419047903.

– लखनऊ में प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले बसपा और सपा के एक नए रंग में पोस्टर सामने आए हैं, जिसमें लिखा है- बसपा-सपा आई है, नई क्रांति लाई है.

cqipsqp

-दोपहर 12 बजे लखनऊ के ताज होटल में मायावती और अखिलेश यादव साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे.

टिप्पणियां

2014 के लोकसभा चुनाव में प्रदेश की 80 सीटों में से भारतीय जनता पार्टी गठबंधन ने 73 सीटें जीती थीं और इस बार उसके नेता 73 से ज्यादा सीटें जीतने का दावा कर रहे हैं. बसपा-सपा और रालोद ने साथ मिलकर उपचुनाव लड़ा था जिसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की गोरखपुर सीट और उप मुख्यमंत्री की फूलपुर सीट से सपा प्रत्याशियों को जीत मिली थी. जबकि कैराना सीट पर रालोद प्रत्याशी ने भाजपा से यह सीट छीनी थी.

बसपा सुप्रीमो मायावती गुरुवार शाम दिल्ली से लखनऊ पहुंची. पहले यह अनुमान लगाया जा रहा था कि वह 15 जनवरी को अपने जन्म दिन के दिन महागठबंधन की साझा प्रेस कांफ्रेंस कर सकती है लेकिन अब जन्म दिन के तीन दिन पहले ही इस प्रेस कांफ्रेस का आयोजन किया जा रहा है.

Source Article