Puducherry के सीएम ने नाली में उतरकर की सफाई, पीएम नरेंद्र मोदी ने की जमकर तारीफ, देखें VIDEO

7
- Advertisement -

Puducherry के सीएम ने नाली में उतरकर की सफाई.

Prime Minister Narendra Modi ने महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर 'स्वच्छ ही सेवा' मूंवमेंट शुरू किया था. जो 15 सितंबर से 2 अक्टूबर तक चला. स्वच्छ भारत अभियान को ध्यान में रखते हुए Puducherry के सीएम वी. नारायणस्वामी (Velu Narayanasamy) नाली साफ करने के लिए उतरे. परंपरागत कपड़े धोती पहन नारायणस्वामी नाली में उतरे और फावड़े से सफाई करने लगे. ये वीडियो उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किया है. लोग उनकी काफी तारीफ भी कर रहे हैं.
टिप्पणियांPM मोदी को मिला UN का सर्वोच्च पर्यावरण पुरस्कार ‘चैंपियंस ऑफ द अर्थ अवार्ड’, बोले- हम प्रकृति में परमात्मा को देखते हैं

#SwachhataHiSeva#SwachhBharat#SwachhBharatMission cleaning at #Nellithope#Puducherrypic.twitter.com/FkeKvfClZK

— V.Narayanasamy (@VNarayanasami) October 1, 2018

71 वर्षीय नारायणस्वामी जिस वक्त नाली में उतरे उस वक्त कई लोग उनके पास खड़े थे. पीएम नरेंद्र मोदी ने भी उनकी तारीफ की. उन्होंने कहा- 'नारायणस्वामी जी, गौरव की बात है कि आप क्लीन इंडिया के लिए आगे बढ़कर आए.' वहीं एक यूजर ने लिखा- 'नारायणस्वामी जी, आप जमीन से जुड़े नेता हैं.'
पीएम मोदी और शाह पर फिर बरसे शत्रुघ्न सिन्हा, कहा- मैं भाजपा से पहले भारतीय जनता का

Narayanasamy Ji, kudos to you for leading from the front and inspiring others to strengthen the movement to clean India. https://t.co/z4Tdhu31eU

— Narendra Modi (@narendramodi) October 2, 2018

Down to Earth Leader

— Ravidev (@Ravidevt) October 1, 2018

Superb sir.. our CM

— natraj black (@NatrajBlack) October 1, 2018

बता दें, प्रधानंमत्री नरेंद्र मोदी( PM Narendra Modi) को दिल्ली में बुधवार को आयोजित एक विशेष समारोह में संयुक्त राष्ट्र (United Nations) के सर्वोच्च पर्यावरण पुरस्कार ‘‘चैंपियंस ऑफ अर्थ द अवार्ड’’ से सम्मानित किया गया. संयुक्त राष्ट्र महासचिव गुटारेस ने पर्यावरण के क्षेत्र में योगदान के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 'चैंपियंस ऑफ द अर्थ' अवॉर्ड से सम्मानित किया. पीएम मोदी ने कहा कि इन सारे प्रयासों के बीच, अगर सबसे बड़ी सफलता हमें मिली है, तो वो है लोगों के बिहेवियर, लोगों के सोचने की प्रक्रिया में बदलाव.पर्यावरण के प्रति लगाव हमारी आस्था के साथ-साथ अब आचरण में भी और मजबूत हो रहा है.
Source Article

- Advertisement -