NDA में BJP से ‘नाराज’ अपना दल की अनुप्रिया पटेल बोलीं: SP-BSP गठबंधन हमारे लिए चुनौती

2
- Advertisement -

अनुप्रिया पटेल (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

एनडीए में लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) को देखते हुए खींचतान का दौर जारी है. भारतीय जनता पार्टी पर लगातार उसकी सहयोगी पार्टियां कई मुद्दों को लेकर प्रेशर बनाती दिख रही है. राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में हार के बाद लगातार बीजेपी की सहयोगी पार्टियों ने दबाव बनाया. पहले उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी ने सीट बंटवारे को लेकर एनडीए से किनारा किया, फिर रामविलास पासवान की लोजपा ने सीटों को लेकर बीजेपी से अपनी मांगें मनवाई. और अब अनुप्रिया पटेल की पार्टी अपना दल भी योगी सरकार से उपेक्षा का आरोप लगाकर बीजेपी को निशाने पर ले रही है. गुरुवार को केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने कहा कि यूपी में सपा और बसपा का गठबंधन हमारे लिए चुनौती है.

BJP को मिलेगा एक और झटका? अनुप्रिया पटेल कार्यक्रम छोड़ लौटीं दिल्ली, 'अपना दल' सरकारी कार्यक्रम में नहीं लेगा हिस्सा

- Advertisement -

अपना दल अध्यक्ष आशीष पटेल के बयान पर केंद्रीय मंत्री तथा अपना दल की नेता अनुप्रिया पटेल ने कहा, ''BJP को हालिया पराजयों से सबक सीखना चाहिए. SP-BSP गठबंधन हमारे लिए चुनौती है… मेरी पार्टी के अध्यक्ष पार्टी का विचार व्यक्त कर चुके हैं, और मैं उससे सहमत हूं…"

Anupriya Patel, Union Minister and Apna Dal leader on party president Ashish Patel's statement 'BJP should learn from recent losses. SP-BSP alliance is a challenge for us': My party president has already expressed the party's view and I stand by it pic.twitter.com/u5DQEBIOV0

— ANI (@ANI) December 27, 2018

कुशवाहा के बाद एक और सहयोगी हुआ बीजेपी से नाराज, एनडीए छोड़ने की धमकी दी

इससे पहले बुधवार को अपना दल ने कहा कि उनकी पार्टी को वह सम्मान नहीं मिल पा रहा है, जिसकी हकदार वह है. साथ ही अपना दल की अनुप्रिया पटेल और उनके पति आशीष तब तक किसी भी उत्तर प्रदेश के सरकारी कार्यक्रम में हिस्सा नहीं लेंगे, जब तक केंद्रीय लीडरशिप इस मसले को हल नहीं करता है. अपना दल पार्टी की दलील है कि अनुप्रिया पटेल स्वास्थ्य विभाग में केंद्र में मंत्री है लेकिन राज्य में केंद्र के सहयोग से होने वाले स्वास्थ्य विभाग के कार्यक्रम में भी उन्हें नहीं बुलाया जाता है. अपना दल का कहना है कि उनकी पार्टी नाम की ही सहयोगी दल रह गई है. बता दें कि यूपी में अपना दल के 9 विधायक और एक एमएलसी हैं.

पासवान और राजभर के बाद अब अनुप्रिया पटेल को भी मनाने की कोशिश

दरअसल, योगी सरकार के रवैये से नाराज होकर यूपी के सारे कार्यक्रम रद्द कर अनुप्रिया पटेल दिल्ली आ गई थीं. केंद्र सरकार में मंत्री अनुप्रिया पटेल को बुधवार को देवरिया में मेडिकल कॉलेज का उद्घाटन करना था, मगर उन्होंने अपना कार्यक्रम रद्द कर दिया और वह दिल्ली लौट आईं हैं. हालांकि, अपना दल के प्रतापगढ़ के सांसद हरिबंश सिंह ने कहा कि पीएम मोदी के लीडरशिप में एनडीए अच्छा काम कर रही है.

20,250 मनोचिकित्सकों की तुलना में महज 898 मनोचिकित्सक : सरकार

टिप्पणियां

इससे पहले आशीष पटेल ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में प्रदेश सरकार से नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि अपना दल के कोटे से केन्द्र में मंत्री बनीं अनुप्रिया पटेल को उत्तर प्रदेश में वह सम्मान नहीं मिलता जिसकी वह हकदार हैं. यहां तक कि उन्हें मेडिकल कॉलेजों के उद्घाटन कार्यक्रमों में भी नहीं बुलाया जाता. उन्होंने कहा कि न केवल अपना दल बल्कि खुद भाजपा के विधायक, सांसद और यहां तक कि मंत्री भी प्रदेश ‘शासन-सरकार' से नाराज हैं और वे केन्द्रीय नेतृत्व से मिलकर अपनी नाराजगी जाहिर करना चाहते हैं.

VIDEO: रणनीति: अपनों के दबाव में BJP?

Source Article