IND vs AUS 1st ODI: इस वजह से महेंद्र सिंह धोनी की बैटिंग को लेकर मचा है बवाल

3
- Advertisement -

AUS vs IND, 1st ODI: महेंद्र सिंह धोनी आलोचकों के निशाने पर आ गए हैं.

सिडनी:

सिडनी में ऑस्ट्रेलिया (#INDvAUS #INDvsAUS) खिलाफ पहले वनडे (मैच रिपोर्ट) में 34 रन से मिली हार के बाद अलग-अलग पहलुओं से हार का पोस्टमार्टम किया जा रहा है. कोई शुरुआत में ही तीन विकेट गिरने पर दोष मढ़ रहा है, तो कोई अंपायर के फैसले को लेकर, तो कोई किसी और बात पर है. लेकिन इन सबके बीच पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) ने भी क्रिकेटप्रेमियों ही नहीं, उनके कट्टर प्रशंसकों को भी बहुत ज्यादा खफा कर दिया है. और बड़ी संख्या में फैंस ने सोशल मीडिया पर धोनी की बैटिंग को लेकर अपनी भड़ास निकाली है.इनका कहना है कि धोनी के अंदाज की वजह से ही सिडनी में भारत पहले वनडे में हार गया.

This morning is not happy for me.
Being an admirer of M.S Dhoni, I am feeling very bad for him, as he is failing to score for India gain and and again.. and is in the rader of public criticism now.
So, My… https://t.co/yk0XpFv83J

— Pabitra Mukherjee (@maxpabi) January 13, 2019

धोनी लंबे समय बात कलर जर्सी में टीम इंडिया के लिए खेलने उतरे. और उन्हें बैटिंग के हालात भी इतने मुश्किल मिले कि धोनी तब बैटिंग के लिए उतरे, जब भारत ने सिर्फ 4 रन पर ही अपने तीन विकेट गंवा दिए थे. ऐसे में पूर्व कप्तान ने आड़े समय में रोहित शर्मा के साथ मिलाकर चौथे विकेट के लिए 138 रन की भागीदारी की. धोनी अर्धशतक बनाने में भी कामयाब रहे, लेकिन वह कुछ ऐसा छोड़ गए, जिससे भारतीय क्रिकेटप्रेमी खफा हो गए.

fact-
he might be good in the past but we need to concentrate on current form of player, it may be dhoni/dhawan/any other.
if he plays well there will be no chance to write against him.
when any player doesn't do well definitely there will be criticism.

— siva shankar (@sivashankar_89) January 12, 2019

- Advertisement -

यह भी पढ़ें: IND vs AUS 1st ODI: विराट कोहली ने बताया टीम इंडिया की हार का प्रमुख कारण

दरअसल इन क्रिकेटप्रेमियों का कहना है कि धोनी ने बहुत ही ज्यादा धीमी बल्लेबाजी की. वैसे इनकी बात में दम है क्योंकि जहां रोहित शर्मा का स्ट्राइक रेट 103.10 रहा, तो धोनी सिर्फ 53.12 के स्ट्रा. रेट से ही रन निकाल सके. क्रिकेट पंडितों का भी कहना है कि अगर धोनी अस्सी के आस-पास के स्ट्राइक रेट से भी रन बनाते, तो पहले वनडे में रिजल्ट कुछ और ही होता. और धोनी के धीमपेन से जरूरी रन औसत बहुत ज्यादा बढ़ गया. वैसे धीमेपन से ज्यादा आतिशी बल्लेबाजी के लिए मशहूर एक और बात धोनी के खिलाफ गई, जिसकी जोर-शोर से चर्चा हो रही है.

Brother.. Dhoni is perenially out of form.. he is blocking a slot of someone who can bat way better than him… The criticism Dhoni is getting is not because one match where he scored at a slow pace. He has been doing this for past 24 months and unable rotate strike.

— Nithin Antony (@Nithooos712) January 12, 2019

यह भी पढ़ें: शिखर धवन की बेटी से डांस सीखने की कोशिश करते रोहित शर्मा का VIDEO, सामने बैठी थीं आयशा

बता दें कि धोनी ने दिसंबर 2017 के बाद से पहली बार वनडे में कोई अर्धशतक जमाया है. उन्होंने पहले मैच में कुल 96 गेंदों का सामना किया, लेकिन सबसे चौंकाने वाली बात यह रही कि इसमें से 63 गेंदें डॉट रहीं. मतलब इन गेंदों पर धोनी ने कोई रन नहीं बनाया. मदलतब धोनी ने 33 गेंदों पर स्कोर किया. क्रिकेटप्रेमी मैच के बाद इसी बात से गुस्से में रहे कि धोनी ने दस ओवर से ज्यादा बर्बाद कर दिए. और यही भारत की हार का सबब बना क्योंकि शुरुआत तीन विकेट जल्द गिर जाने के बाद भी अगर धोनी 63 में से आधी ही गेंदों पर स्कोर करते, तो मैच की कहानी भारत के पक्ष में होती.

टिप्पणियां

VIDEO: एडिलेड टेस्ट में जीत के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में भारतीय कप्तान विराट कोहली.

हालांकि, मैच के बाद रोहित शर्मा ने धोनी का यह कहते हुए बचाव किया कि अगर इस समय एक विकेट और गिर जाता, तो मैच खत्म हो जाता. लेकिन यह बात किसी को हजम नहीं हो रहा है. क्रिकेटप्रेमियों का कहना है कि खाली गेंदों पर धोनी जमीनी शॉट खेलकर सिंगल्स-डबल्स तो बटोर ही सकते थे. लेकिन नॉथन लॉयन के सामने धोनी यह करने में नाकाम रहे. और इसकी बड़ी कीमत यह रही कि धोनी ने 63 डॉट बॉल खेलीं. और यह भारत की हार की वजह बन गया.

Source Article