Guru Nanak के ये 10 विचार बदल सकते हैं आपकी जिंदगी

3
- Advertisement -

Guru Nanak Jayanti: गुरु नानक जंयती हर साल कार्तिक पूर्णिमा के दिन मनाई जाती है.

नई दिल्ली: गुरु नानक जंयती (Guru Nanak Jayanti) पूरे देश में बड़े ही धूमधाम से मनाई जाती है. सिखों के आदिगुरु गुरु नानक देव जी (Guru Nanak) का अवतरण संवत्‌ 1526 में कार्तिक पूर्णिमा (Kartik Purnima) के दिन हुआ था. गुरु नानक जी के अवतरण (Guru Nanak Birthday) को प्रकाश पर्व (Prakash Parv) के रूप में मनाया जाता है. गुरु नानक सिखों के प्रथम गुरु (आदि गुरु) हैं. गुरु नानक (Guru Nanak Dev Ji) के अनुयायी उन्हें नानक, नानक देव जी, बाबा नानक और नानकशाह नामों से संबोधित करते हैं. उन्होंने बचपन से ही रूढ़िवादिता के विरुद्ध संघर्ष की शुरुआत कर दी थी. गुरु नानक धर्म प्रचारकों को उनकी खामियां बतलाने के लिए अनेक तीर्थस्थानों पर पहुंचे और लोगों से धर्मांधता से दूर रहने का आग्रह किया. गुरु नानक (Guru Nanak) के उपदेश का सार यही होता था कि ईश्वर एक है उसकी उपासना हिंदू मुसलमान दोनों के लिए हैं. मूर्ति पूजा को बाबा नानक अनावश्यक बताते थे. हिन्‍दू और मुसलमान दोनों पर इनके मत का प्रभाव पड़ता था. गुरु नानक का कहना था कि भगवान एक है, लेकिन उसके कई रूप हैं. वो सभी का निर्माणकर्ता है और वो खुद मनुष्य का रूप लेता है. गुरु नानक के विचार आज भी दुनिया भर के लोगों को प्रेरित करते हैं.

गुरु नानक देव के विचार (Guru Nanak Quotes In Hindi)

1. “प्रभु के लिए खुशियों के गीत गाओ, प्रभु के नाम की सेवा करो, और उसके सेवकों के सेवक बन जाओ.”
2. “उसकी चमक से सबकुछ प्रकाशमान है.”
3. “दुनिया में किसी भी व्यक्ति को भ्रम में नहीं रहना चाहिए. बिना गुरु के कोई भी दूसरे किनारे तक नहीं जा सकता है.”
4. “भगवान एक है, लेकिन उसके कई रूप हैं. वो सभी का निर्माणकर्ता है और वो खुद मनुष्य का रूप लेता है.”
5. “सिर्फ और सिर्फ वही बोले जो शब्द आपको सम्मानित करते हैं.”
6. “ये पूरी दुनिया कठिनाइयों में है. वह जिसे खुद पर भरोसा है वही विजेता कहलाता है.”
Guru Nanak Jayanti: कौन थे गुरु नानक देव जी? जानिए उनसे जुड़ी 10 बातें
7. “वे लोग जिनके पास प्यार है, वे उन लोगो में से है जिन्होंने भगवान को ढूंढ लिया.”
8. “जिसे खुद पर विश्वास नही है वह कभी भगवान पर विश्वास कर ही नही सकता.”
टिप्पणियां9. “कभी भी, किसी का हक, नहीं छीनना चाहिए.”
10. “जगत का कर्ता सब जगह और सब प्राणी मात्र में मौजूद हैं.”
Source Article

- Advertisement -