Gully Boy Movie Review: रणवीर का जुनून, आलिया का डेंजर लव, Valentine’s Day पर राइट चॉयस है ‘गली बॉय’

3
- Advertisement -

Gully Boy Film Review: 'गली बॉय' देखकर पहली बात जो जेहन में आती है वो यह है कि रणवीर सिंह (Ranveer Singh) का टाइम चल रहा है और वो भी पूरी धमक के साथ. 'गली बॉय (Gully Boy)' देखने के बाद यह कहना दो राय नहीं है कि रणवीर सिंह अपने समय के शानदार कलाकार हैं, और किरदार में उतर जाने में वो उस्ताद हो चुके हैं. 'गली बॉय' की कहानी बहुत ही इंस्पिरेशनल है और एंटरटेनमेंट के साथ इस तरह गुंथी हुई है कि देखकर मजा ही आ जाता है. बॉलीवुड में इस तरह की कहानियां कम ही कही जाती हैं, लेकिन जोया अख्तर (Zoya Akhtar) ने अपने डायरेक्शन, रणवीर सिंह और आलिया भट्ट (Alia Bhatt) ने अपनी एक्टिंग और फिल्म में दिखने वाले जुनून ने दिल जीता है. वैलेंटाइन्स डे (Valentine's Day) पर अपने लव को देने के लिए परफेक्ट गिफ्ट है 'गली बॉय.'

'गली बॉय (Gully Boy)' की कहानी
'गली बॉय' की कहानी मुराद शेख (रणवीर सिंह) है. जिसका पिता दूसरी शादी कर लेता है और उसकी अम्मी के साथ मारपीट करता है. मुराद की गर्लफ्रेंड सफीना (आलिया भट्ट) है जो बहुत ही आक्रामक है औऱ मुराद के लिए कुछ भी कर सकती है. मुराद कॉलेज में पढ़ता है लेकिन उसके पिता का एक्सिडेंट हो जाता है और उसे ड्राइवरी करनी पड़ती है. लेकिन हालात मुराद को तोड़कर रख देते हैं, और उसे रैप में उम्मीद की किरण दिखती है और उसकी मुलाकात एमसी शेर (सिद्धांत चतुर्वेदी) से होती है और फिर रैप जिंदगी के तोड़ देने वाले सफर के बीच राहत की बयार लेकर आता है. लेकिन मुराद का संघर्ष खत्म नहीं होता है. जोया अख्तर ने कमाल का डायरेक्शन किया है और कहानी कहीं भी बोर नहीं होने देती. हालांकि फिल्म की कहानी कुछ भी नयापन नहीं है, लेकिन अंत आते-आते फिल्म रोंगटे खड़े कर देती है और जोश से भर देती है. फिल्म बताती है कि हर किसी में टैलेंट होता है, और जरूरत उसे पहचानकर उसके लिए सबकुछ झोंक देने की होती है. हालांकि फिल्म की अवधि थोड़ी कम की जा सकती थी.

'गली बॉय (Gully Boy)' में एक्टिंग की बात
'गली बॉय' के मुराद में रणवीर सिंह (Ranveer Singh) इस कदर उतरे हैं कि लगता ही नहीं है कि यही शख्स खतरनाक अलाउद्दीन खिलजी बना थी और कुछ समय पहले हंसोड़ पुलिस वाला सिम्बा. रणवीर सिंह ने इंटेंस एक्टिंग की है और रैपर के किरदार में छा गए हैं. रणवीर सिंह हर काम में अव्वल रहे हैं. आलिया भट्ट ने उनका साथ कमाल का दिया है और डेंजर सफीना में वे छा गई हैं. आलिया भट्ट (Alia Bhatt) की एक्टिंग अव्वल दर्जे की है. विजय राज ने भी पिता का रोल अच्छा किया है और कल्कि कोएचलिन भी ठीक-ठाक है. लेकिन एमसी शेर के किरदार में सिद्धांत चतुर्वेदी छा जाते हैं और वे एक रैपर ही लगते हैं. सिद्धांत चतुर्वेदी फिल्म के सरप्राइज पैकेज हैं.

'गली बॉय (Gully Boy)' के बारे में बातें और भी हैं
'गली बॉय' में यूथ को कनेक्ट करने वाला हर मसाला है. इसका झूमने को मजबूर कर देने वाला म्यूजिक, क्लासिक एक्टिंग है, सधा हुआ डायरेक्शन है और सबसे बड़ी बात जीवन में आगे बढ़ने की प्रेरणा है. 'गली बॉय' जैसी फिल्में बॉलीवुड में कम ही बनती हैं, जिनमें एंटरटेनमेंट के साथ इस तरह का इंस्पिरेशनल मैसेज रचा-बसा हो. इस तरह आज के दौर की बेहतरीन फिल्म है 'गली बॉय', जिसे एक बार देखना तो बनता ही है.

- Advertisement -

टिप्पणियां

रेटिंगः 4/5 स्टार
डायरेक्टरः जोया अख्तर
कलाकारः रणवीर सिंह, आलिया भट्ट, कल्कि कोएचलिन, सिद्धांत चतुर्वेदी और विजय राज

…और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें…

Source Article