Diwali 2018: दिवाली के शुभ मुहूर्त पर पढ़ी जाती हैं मां लक्ष्मी-गणेश की ये आरती, पूजा पर मंत्रों का होता है जाप

1
- Advertisement -

Diwali 2018: दीपावली के शुभ मौके के लिए लक्ष्मी और गणेश आरती

नई दिल्ली: दिवाली (Diwali) को दीपावली (Deepawali) भी कहा जाता है और दीपों के इस त्योहार का खासा महत्व है. दिवाली (Diwali) के दिन भगवान राम (Lord Ram) अयोध्या (Ayodhya) लौटे थे और उनके वनवास से लौटने की खुशी में अयोध्यावासियों ने घी के दीये जलाए थे. तभी से दिवाली (Diwali) का त्योहार मनाया जाने लगा. दिवाली के दिन दीये जलाकर अंधकार पर रोशनी की विजय की जाती है और इस दिन मां लक्ष्मी (Laxmi) और गणेश (Ganesha) की पूजा की जाती है. इस बार दिवाली (Diwali) का शुभ मुहूर्त लगभग एक घंटे 58 मिनट तक रहेगा और इसी अवधि में दिवाली की पूजा की जानी है. दिवाली पर लक्ष्मी (Lakshmi) और गणेश जी की पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 6:12 से 8:10 बजे तक है. इस दौरान विधि विधान से पूजा की जा सकती है.

दिवाली (Diwali) के मौके पर मां लक्ष्मी (Laxmi) और गणेश (Ganesha) की पूजा की जाती है. बॉलीवुड से लेकर कई दिग्गज संगीतकारों ने म्ं लक्ष्मी जी की आरती को अपने ढंग से तैयार किया है और इसे दिवाली के अलावा भी कई मौकों पर सुना जा सकता है. इस तरह गणेश जी की आरती को भी तैयार किया गया है.

दिवाली (Diwali) के मौके पर मां लक्ष्मी जी की आरती के अलावा महालक्ष्मी मंत्र का जाप भी किया जाता है.

माना जाता है कि महालक्ष्मी मंत्र के जाप करने से धन की प्राप्ति होती है और घर में सुख समृद्धि में इजाफा होता है. दिवाली के मौके पर इन मंत्रों का खासा महत्व भी है.
टिप्पणियां
…और भी हैं बॉलीवुड से जुड़ी ढेरों ख़बरें…
Source Article

- Advertisement -