Cyclone Vayu: नौसेना पूरी तरह से तैयार, लाखों लोगों को सुरक्षित जगह पहुंचाया गया

1
- Advertisement -

Vayu Cyclone 2019:रेलवे ने 70 ट्रेनें रद्द कीं

नई दिल्ली:

Cyclone Vayu: चक्रवाती तूफान 'वायु' के आज गुजरात तट पर टकराने की संभावना के बीच नौसेना ने खुद को किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार रखा है. बयान के अनुसार, पश्चिमी नौसेना कमान मुंबई मानवीय सहायता और आपदा राहत (एचएडीआर) के साथ तैयार है और राहत सामग्रियों को पहले से ही निर्दिष्ट जहाजों पर चढ़ा दिया गया है, जिसे कम समय पर भी मुहैया कराया जा सकता है. नौसेना के जहाजों, विमानों व हेलीकॉप्टरों को मछली पकड़ने वाली नौकाओं को सूचित करने और उन्हें वापस बंदरगाह जाने के लिए कहने के निर्देश दिए गए हैं. इस बीच, भारतीय वायु सेना का सी-17 विमान राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल (एनडीआरएफ) के दल के साथ गुजरात के जामनगर पहुंच गया है. नौसेना ने अपने गोताखोर और बचाव टीमों और राहत सामग्रियों, मेडिकल टीमों को मुंबई के भारतीय नौसेना के अस्पताल अश्विनी में जरूरत पड़ने पर नागरिक सहायता के लिए तैयार रखा है.

1.5 लाख से ज्यादा लोग सुरक्षित जगहों पर पहुंचाए गए
गुजरात में सौराष्ट्र क्षेत्र के तटीय जिलों से लगभग 1.5 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है और दो विशेष निकासी ट्रेनों को सेवा में लगाया गया है. चक्रवाती तूफान वायु के राज्य में दस्तक देने के साथ इसकी रफ्तार 150 किमी प्रति घंटा से ज्यादा होने की संभावना है. अधिकारियों ने कहा कि अहमदाबाद के सरदार वल्लभभाई पटेल अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे से सौराष्ट्र के पोरबंदर, दीव, कांडला, मुंद्रा और भावनगर के लिए उड़ान परिचालन को गुरुवार को रद्द कर दिया गया है, जबकि गुजरात के सभी शैक्षणिक संस्थानों को बंद कर दिया गया है. गुजरात तट से पर्यटकों को जल्द से जल्द चले जाने को कहा गया है.दो विशेष निकासी ट्रेनों को सेवा में लगाया गया है. इसमें से एक सौराष्ट्र के ओखा से राजकोट के लिए बुधवार शाम 5.45 बजे और दूसरी शाम 8.05 बजे अहमदाबाद के लिए रवाना हुई.

- Advertisement -

मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने संवाददाताओं से कहा कि भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने मंगलवार शाम तक हवा की रफ्तार 120 किमी प्रति घंटे से ज्यादा रहने की जानकारी अपडेट की है और हवा के झोंको की रफ्तार 175 किमी प्रति घंटे हो सकती है. मुख्यमंत्री ने स्टेट इमरजेंसी ऑपरेशंस सेंटर में राज्य प्रशासन के साथ समीक्षा बैठक की है. रूपाणी ने कहा, "हमने पहले केवल कच्चे घरों में रहने वालों को स्थानांतरित करने की योजना बनाई थी, लेकिन चक्रवात के गंभीर होने की आशंका के कारण तटीय गांवों में सभी लोगों को स्थानांतरित करने का फैसला किया. मुख्यमंत्री ने कहा कि ज्यादा से ज्यादा संख्या में लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है. उन्होंने कहा कि सरकार की सफलता तभी होगी, जब कोई जान नहीं जाए.

टिप्पणियां

मुंबई में 2 जगहों पर होर्डिग गिरीं, 1 की मौत, 3 घायल
इन सबके बीच मुंबई में होर्डिग गिरने की दो अलग-अलग घटनाओं में एक वरिष्ठ नागरिक की मौत हो गई और तीन महिलाएं घायल हो गईं. बीएमसी आपदा नियंत्रण ने यहां बुधवार को कहा, "चर्चगेट स्टेशन के बाहर एक सीमेंट होर्डिग शीट तेज हवाओं के चलते उखड़ गई और राहगीर के उपर गिर गई जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया. घटना अपराह्न् 12.45 बजे हुई, जब एक भारी होर्डिग अचानक राहगीर मधुकर अप्पा नार्वेकर (62) पर गिर गई. उन्हें छत्रपति शिवाजी टर्मिनस के समीप जी.टी. अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. दूसरी घटना में, बांद्रा के बाहर एक भारी एक्रीलिक होर्डिग से एक स्काइवाक उखड़ गया और तीन महिला राहगीरों के उपर गिर गया। घटना अपराह्न् 1.30 बजे के आसपास की है. तीनों घायलों की पहचान तेजल कदम (27), मलिसा नजारेथ (30), सुलक्षणा वाजे (41) के रूप में हुई है. इन्हें होली फैमिली अस्पताल ले जाया गया है. अधिकारियों के मुताबिक इनकी स्थिति स्थिर बनी हुई है.

चक्रवात वायु: रेलवे ने 70 ट्रेनें रद्द कीं
पश्चिम रेलवे ने बुधवार को बताया कि चक्रवात वायु के चलते आने वाली संभावित आपदा को देखते हुये रेलवे ने 70 ट्रेनों को रद्द कर दिया और 28 ट्रेनों को गंतव्य से पहले ही रोकने का फैसला किया है. पश्चिम रेलवे के प्रवक्ता रवींद्र भाखर ने यह जानकरी दी. रेलवे ने ताजा बुलेटिन में बताया कि पश्चिम रेलवे ने चक्रवात वायु से होने वाली संभावित आपदा को देखते हुये मुख्यमार्ग की 70 रेलगाड़ियों को पूरी तरह निरस्त और ऐसी ही 28 ट्रेनों को आंशिक रूप से समाप्त करते हुये गंतव्य से पहले ही रोकने का फैसला किया है. लोगों की दिक्कतों को देखते हुये पश्चिम रेलवे की विशेष राहत ट्रेनें चलाने की योजना है. ये विशेष ट्रेनें गांधीधाम, भावनगर पारा, पोरबंदर, वेरावल और ओखा से प्रत्येक जगह से चलेंगी ताकि वहां से लोगों को निकालने में मदद मिले. इस तूफान के गुरूवार को गुजरात के तट पर टकराने की आशंका है.

Source Article