CBI विवाद पर ममता बनर्जी का प्रहार: ‘CBI=BBI’ यानी सीबीआई अब ‘बीजेपी ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन’ बन गई है

2
- Advertisement -

CBI vs CBI मामले पर ममता बनर्जी का बीजेपी पर हमला

नई दिल्ली: केंद्रीय जांच ब्यूरो यानी (CBI) में भ्रष्टाचार को लेकर चल रही कलह के बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी मोदी सरकार और भारतीय जनता पार्टी पर हमला बोला है. सीबीआई में छिड़ी जंग के बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को केंद्रीय जांच एजेंसी को 'बीजेपी ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन' बताया. गौरतलब है कि मोदी सरकार ने बुधवार को सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेज दिया. सरकार ने वर्मा व विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के बीच एक दूसरे पर रिश्वत से जुड़े आरोपों-प्रत्यारोपों के बीच यह फैसला लिया.
कांग्रेस का BJP पर हमला- CBI में अभियुक्त के समर्थन में खड़ी है सरकार, केंद्र पर थोपा गुजरात मॉडल
ममता बनर्जी ने ट्वीट कर कहा, "सीबीआई अब बीबीआई (बीजेपी ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन) बन गई है.. यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है." केंद्र सरकार ने संयुक्त निदेशक एम.नागेश्वर राव को सीबीआई निदेशक के कर्तव्यों व कार्यो को संभालने का निर्देश दिया है.

CBI has now become so called BBI ( BJP Bureau of Investigation ) – very unfortunate!

— Mamata Banerjee (@MamataOfficial) October 24, 2018

इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को ट्वीट कर प्रधानमंत्री पर हमला बोला और लिखा- CBI चीफ आलोक वर्मा राफेल घोटाले के कागजात इकट्ठा कर रहे थे. उन्हें जबरदस्ती छुट्टी पर भेज दिया गया. प्रधानमंत्री का मैसेज एकदम साफ है जो भी राफेल के इर्द गिर्द आएगा. हटा दिया जाएगा, मिटा दिया जाएगा. देश और संविधान खतरे में हैं.
अब केजरीवाल ने भी PM मोदी के फैसले पर उठाए सवाल, बोले- क्या राफेल की जांच से डर कर आलोक वर्मा को हटाया गया
इससे पहले सीएम केजरीवाल ने एक ट्वीट किया- 'क्या राफेल डील और आलोक वर्मा को हटाने के बीच कोई संबंध है? क्या आलोक वर्मा राफले में जांच शुरू करने जा रहे थे, जो मोदी जी के लिए समस्या बन सकती थी?
CBI में घूसकांड: प्रशांत भूषण बोले- राफेल की आंच से बचने के लिए शायद आलोक वर्मा को सरकार ने हटाया
टिप्पणियां वहीं, आलोक वर्मा की ओर से सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार के आदेश को चुनौती देने वाले सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत भूषण ने भी ऐसी संभवना व्यक्त की. उन्होंने भी कहा कि शायद राफेल की जांच से बचने के लिए मोदी सरकार ने आलोक वर्मा को हटाया है. उन्होंने कहा कि 'सीबीआई डायरेक्टर को गलत तरीके से हटाया गया है. सुप्रीम कोर्ट ने तय किया था कि सीबीआई डायरेक्टर का टर्म दो साल का फिक्स होगा और सिर्फ सेलेक्शन कमेटी ही सीबीआई डायरेक्टर को हटा सकता है. मैं शुक्रवार को एक याचिका दायर करूंगा.'
VIDEO: सीबीआई में घमासानः छुट्टी पर भेजे गए आलोक वर्मा और राकेश अस्थाना
Source Article

- Advertisement -