BJP के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ रहे बेटे के लिए छुपकर प्रचार कर रहे हैं कांग्रेस के बड़े नेता?

10
- Advertisement -

सुजय पेशे से न्यूरोसर्जन हैं.

मुंबई:

महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल अपने बेटे एवं अहमदनगर लोकसभा सीट (Ahmednagar Lok Sabha Seat) से भाजपा (BJP) के प्रत्याशी सुजय (Sujay Vikhe Patil) का गुपचुप तरीके से समर्थन कर रहे हैं. सूत्रों ने ऐसा दावा किया है. उन्होंने कहा कि वरिष्ठ विखे पाटिल पर्दे के पीछे से काम कर रहे हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि कांग्रेस (Congress) नेता अहमदनगर जिले के राहुरी, पारनेर एवं अन्य इलाकों में अपने पिता दिवंगत बालासाहेब विखे पाटिल के समर्थकों के साथ संपर्क में हैं और उनसे सुजय का समर्थन करने के लिए आग्रह कर रहे हैं. उन्होंने बताया, 'वह एक पिता के तौर पर सुजय का समर्थन कर रहे हैं.' सुजय पेशे से न्यूरोसर्जन हैं.

राकांपा प्रमुख शरद पवार ने अहमदनगर सीट की लड़ाई को प्रतिष्ठा का सवाल बना दिया है. पवार विखे पाटिलों के पारंपरिक प्रतिद्वंद्वी रहे हैं. पवार ने सुजय के लिए यह सीट छोड़ने से इनकार कर दिया था. कांग्रेस के साथ सीट बंटवारे को लेकर हुए समझौते के तहत यह सीट कांग्रेस के पास है. इस निर्वाचन क्षेत्र में राजनीतिक खेमे सुजय के पक्ष एवं सुजय के विरोधी के तौर पर बंटे हुए हैं.

- Advertisement -

बेटे को कांग्रेस का टिकट मिलने के बाद मंत्री पद छोड़ने वाले BJP नेता से बोले CM- पार्टी में रहना है तो बेटे के खिलाफ प्रचार करें

सूत्रों के मुताबिक, सुजय के करीबी माने जाने वाले कांग्रेस के कुछ कार्यकर्ता तो उन्हें एक राजनीतिक रणनीतिकार मानते हैं जिन्होंने 2014 में विधानसभा चुनावों में पिता की जीत सुनिश्चित करने के लिए काम किया था. सुजय ने 2017 में हुए जिला परिषद चुनावों में भी महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

महाराष्ट्र में कांग्रेस को बड़ा झटका: नेता विपक्ष राधाकृष्ण विखे पाटिल के बेटे सुजय ने ज्वाइन की BJP

बताया जा रहा है कि शरद पवार की पार्टी राकांपा से राधाकृष्ण विखे पाटिल ने आग्रह किया था कि उनके बेटे के लिए अहमदनगर लोकसभा सीट छोड़ दी जाए, लेकिन एनसीपी उनका आग्रह ठुकरा दिया. दिलीप गांधी अहमदनगर लोकसभा सीट से भाजपा के निवर्तमान सांसद हैं.

(इनपुट- भाषा)

टिप्पणियां

महाराष्ट्र में नितिन गडकरी और कांग्रेस नेता के पुत्र सुजय विखे पाटिल बीजेपी प्रत्याशी

Video: प्राइम टाइम: चुनाव प्रचार में सेना के नाम का इस्तेमाल क्यों?

Source Article