4 महीने की कठिन मेहनत और 750 किलो प्याज के मिले महज 1064 रुपये, नाराज किसान ने पैसा पीएम राहत कोष को दान किया

1
- Advertisement -

नासिक के किसान को मंडी में प्याज की डेढ़ रुपये प्रति किलो से भी कम कीमत मिली.

नई दिल्ली : पिछले दिनों देशभर के किसान अपनी फसलों के वाजिब दाम और कर्जमाफी जैसी मांग को लेकर दिल्ली पहुंचे थे. इस दौरान किसानों का एक पर्चा सोशल मीडिया पर वायरल हुआ और इस पर काफी चर्चा हुई. पर्चे में किसानों ने अपनी व्यथा-कथा को बयां किया था और बताने का प्रयास किया था कि उनकी 'सस्ती' फसल को आप कई गुना 'महंगे' दामों पर खरीद रहे हैं. अब महाराष्ट्र से एक ऐसी खबर आई है जो किसानों की तकलीफ का ताजा उदाहरण है. दरअसल, आप जिस प्याज के लिए इन दिनों 15-20 रुपये प्रति किलो मूल्य चुका रहे हैं, उसी प्याज की एक किसान को महज 1.40 रुपये प्रति किलो कीमत मिली. नाराज किसान ने अनूठे तरीके से अपना विरोध दर्ज कराया. उसने प्याज बेचने के बाद मिले पैसे को प्रधानमंत्री को भेज दिया.

आखिर क्यों दिल्ली की सड़कों पर उतरा देश का अन्नदाता, 10 बड़ी बातें
मामला नासिक जिले के निफाड तहसील का है. और किसान भी कोई ऐसा वैसा नहीं. संजय साठे उन कुछ चुनिंदा ‘प्रगतिशील किसानों' में से एक है जिन्हें केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने साल 2010 में अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति बराक ओबामा से संवाद के लिए चुना था. इस सीजन में साठे ने 750 किलो प्याज उपजाई और उसे बेचने निफाड थोक बाजार गए. वहां पहले तो साठे को 1 रुपये प्रति किलो की पेशकश की गई. काफी मोलभाव के 1.40 रूपये प्रति किलोग्राम का सौदा तय हुआ और साठे को 750 किलोग्राम प्याज महज 1064 रूपये में बेचनी पड़ी. संजय साठे कहते हैं, ‘4 महीने के परिश्रम की मुझे ये कीमत मिली. मैंने 1064 रूपये पीएमओ के आपदा राहत कोष में दान कर दिये हैं. मुझे वह राशि मनीआर्डर से भेजने के लिए 54 रूपये अलग से खर्च करने पड़े'. साठे कहते हैं कि ‘मैं किसी राजनीतिक पार्टी का प्रतिनिधित्व नहीं करता, लेकिन दिक्कतों के प्रति सरकार की उदासीनता से नाराज हूं'. (इनपुट- भाषा से भी)

बड़े मुद्दों के पीछे-पीछे अपनी तक़लीफों को ढोता हुआ दिल्ली आ गया है किसान…
टिप्पणियां VIDEO : किसानों की रैली में विपक्षियों की एकता का प्रदर्शन

Source Article

- Advertisement -