सीतामढ़ी लिंचिंग पर बोले तेजस्वी: BJP-RSS के लोगों ने जैनुल अंसारी को जलाकर मारा, प्रशासन रहा चुप

4
- Advertisement -

सीतामढ़ी मॉब लिंचिंग केस पर बोले तेजस्वी यादव

पटना: बिहार के सीतामढ़ी में मुस्लिम शख्स की भीड़ द्वारा हत्या के मामले पर तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने प्रशासन को आड़े हाथों लिया. बिहार में नेता प्रतिपक्ष और राजद नेता तेजस्वी यादव ने सीतामढ़ में एक बुजुर्ग मुस्लिम शख्स की हत्या का जिम्मेदार बीजेपी और आरएसएस को ठहराया और इसे प्रशासन प्रायोजित बताया. तेजस्वी यादव ने कहा कि आरएसएस और बीजेपी के लोगों ने एक आदमी को मौत की सजा सुनाई. हमारे पास प्रमाण है कि प्रशासन चूप था जब बूढ़े आदमी (जैनुल अंसारी) की लिंचिंग हो रही थी. यह घटना प्रशासन द्वारा प्रायोजित था, जिसने कालीन के नीचे इसे धोने की कोशिश की.
बिहार में बुजुर्ग को चौक पर जिंदा जलाया, पुलिस कार्रवाई के लिए कर रही छठ पूजा बीतने का इंतजार
बिहार के सीतामढ़ी में कुछ हफ्ते पहले हुई हिंसा में उन्मादी भीड़ ने पहले बुजुर्ग जैनुल अंसारी का गला रेता और उसके बाद चौक पर जिंदा जला दिया था. परिवार को इस घटना का पता तीन दिन बाद चल पाया. दरअसल, हिंसा के दौरान सीतामढ़ी में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई थी, लेकिन हत्या के तीन दिन बाद जब एक घंटे के लिए इंटरनेट सेवा बहाल की गई तब जैनुल अंसारी के परिजनों को एक वायरल फोटो मिला, जो उनकी हत्या का था.

The people of RSS & BJP charred a man to death. We have proof that the administration stayed mum while the old man (Zainul Ansari) was being lynched. The act was sponsored by the administration who tried to brush it under the carpet: Tejashwi Yadav on Sitamarhi lynching case pic.twitter.com/5Aj9HQa6Kr

— ANI (@ANI) November 27, 2018

मॉब लिंचिंग में एक शख्स की मौत, तेजस्वी ने नीतीश से पूछा- केंद्र ने ईनाम देने का वादा किया है क्या?
वहीं, मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेपकांड पर तेजस्वी यादव ने कहा कि इस मामले में एफआईआर दर्ज होने में दो महीने लग गए और अभी तक मुख्य आरोपी का नाम सामने नहीं आया है. जितने भी नाम सामने आ रहे हैं वे सभी नीतीश कुमार के करीबी हैं. सीएम मामले को दबाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं.
टिप्पणियां इस मामले में एसपी ने कहा था कि अभी तक कुल 38 लोग पकड़े गए हैं, लेकिन उनका संबंध हिंसा से है न कि जैनुल अंसारी की हत्या से. दूसरी तरफ, जैनुल अंसारी के परिजनों का कहना है कि उन्होंने पुलिस को एक आरोपी की फोटो भी दी है, लेकिन अभी तक उसकी पहचान नहीं हो पाई है. इस पूरे मामले में कहा यह भी जा रहा है कि प्रशासन के दबाव की वजह से जैनुल अंसारी के परिजनों को उनका शव पैतृक गांव से 75 किलोमीटर दूर मुज़फ़्फ़रपुर में दफ़नाना पड़ा.
VIDEO: बिहार के सीतामढ़ी में बुजुर्ग को जिंदा जलाया
Source Article

- Advertisement -