सबरीमाला मंदिर में 2 महिलाओं की एंट्री के खिलाफ आज केरल बंद, झड़प में 1 प्रदर्शनकारी की मौत

2
- Advertisement -

सबरीमाला मंदिर में एंट्री को लेकर घमासान जारी

नई दिल्ली:

केरल के सबरीमाला मंदिर में सैकड़ों साल से चली आ रही परंपरा उस वक्त टूट गई, जब करीब 40 साल की उम्र वाली दो महिलाओं ने मंदिर में प्रवेश कर एक नया इतिहास रच दिया. दरअसल, सबरीमाला में बुधवार के तड़के करीब 40 वर्ष की दो महिलाओं ने मंदिर में प्रवेश किया और भगवान अयप्पा के दर्शन किए, जिसके बाद से ही बवाल मच गया है. मंदिर समिति इसके खिलाफ में खड़ा है, वहीं सरकार महिलाओं के पक्ष में. दो महिलाओं के प्रवेश के बाद काफी प्रदर्शन हुआ था. सीपीआईएम और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई, जिसमें एक 55 वर्ष के बरीमाला कर्म समिति के एक कार्यकर्ता की मौत हो गई.

सबरीमाला मंदिर में टूटी सैकड़ों साल पुरानी परंपरा, 40 साल की दो महिलाओं ने प्रवेश कर बनाया इतिहास, देखें VIDEO

Sabarimala Temple women entry protest Live Updates

– कई संगठनों के बंद के आह्वान को देखते हुए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गए हैं.

Kerala: Security deployed in Pathanamthitta in the view of hartal called by various organisations over #SabarimalaTemple women entry pic.twitter.com/Hse169zZLs

— ANI (@ANI) January 3, 2019

- Advertisement -

-केरल: सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के मुद्दे को लेकर यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट राज्य में 'काला दिवस' मनाने की तैयारी में.

Kerala: United Democratic Front to observe 'black day' in the state in connection with Sabarimala Temple women entry issue; Visuals from Thiruvananthapuram pic.twitter.com/YOfcRVKNge

— ANI (@ANI) January 3, 2019

-केरल: पंडालम में CPIM और BJP कार्यकर्ताओं के बीच झड़प में घायल हुए सबरीमाला कर्म समिति के एक 55 वर्षीय कार्यकर्ता ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

Kerala: A 55-year-old Sabarimala Karma Samiti worker who was injured yesterday in a clash between CPIM & BJP workers, in Pandalam, has succumbed to his injuries; Police investigation underway. #SabarimalaTemple

— ANI (@ANI) January 3, 2019

दरअसल, पंडालम में CPIM और BJP कार्यकर्ताओं के बीच झड़प में घायल हुए सबरीमाला कर्म समिति के एक 55 वर्षीय कार्यकर्ता ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया. हालांकि, पुलिस मामले की जांच कर रही है. बताया जा रहा है कि मरने वाले शख्स का नाम चंदन उन्नीथन था. यह महिलाओं के मंदिर में प्रवेश करने का विरोध कर रहा था.

सबरीमाला मंदिर मामला: मंदिर में प्रवेश के लिए दो महिलाओं ने शुरू की चढ़ाई, स्थिति तनावपूर्ण

सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के मुद्दे को लेकर यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट राज्य में 'काला दिवस' मनाने की तैयारी में. इतना ही नहीं, आज कई हिंदूवादी संगठनों ने राज्य बंद का आह्वान किया है. राज्य में बंद का ऐलान को देखते हुए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गए हैं.

सबरीमाला मंदिर मामला: केरल सरकार पर भड़के केंद्रीय मंत्री, मुद्दे के संचालन की तुलना 'हिन्दुओं से दिन-दहाड़े रेप' से की

दरअसल, करीब 40 साल की उम्र की दो महिलाओं ने आज सुबह मंदिर में प्रवेश किया. महिलाओं ने करीब आधी रात में मंदिर की ओर चढ़ाई शुरू की और करीब 3.45 बजे मंदिर पहुंच गईं. भगवान अय्यपा के दर्शन करने के बाद वे दोनों लौट गईं. बताया जा रहा है कि ये महिलाएं पुलिस की टुकड़ी के साथ थीं. पुलिसकर्मी वर्दी और सादे ड्रेस में थे. समाचार एजेंसी एएनआई ने वीडियो भी जारी किया है. इसके मुताबिक, जिन दो महिलाओं ने मंदिर में प्रवेश किया है, उसमें से एक का नाम बिंदु और दूसरी महिला का नाम कनकदुर्गा है.

हालांकि, बाद में शुद्धि अनुष्ठान के लिए केरल का सबरीमाला मंदिर बंद किया गया. वहीं, केरल के सीएम पिनराई विजयन ने कहा कि आज, दो महिलाओं ने सबरीमाला मंदिर में प्रवेश किया. हमने पुलिस को मंदिर में प्रवेश करने की इच्छा रखने वाली किसी भी महिला को हर संभव सुरक्षा प्रदान करने के लिए स्थायी आदेश जारी किए थेः

सर्वोच्च न्यायालय द्वारा बीती 28 सितंबर को हर आयु वर्ग की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश की अनुमति देने का फैसला किए जाने के बाद से सबरीमाला में हिंदू समूहों द्वारा लगातार इस फैसले के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है. उनका कहना है कि यह फैसला धार्मिक परंपरा के खिलाफ है.

टिप्पणियां

व्यक्ति ने सबरीमला मुद्दे पर नहीं, अवसाद की वजह से किया आत्मदाह : केरल पुलिस

28 सितंबर, 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए केरल के सबरीमाला मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं को प्रवेश की अनुमति दे दी. सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में साफ कहा कि हर उम्र वर्ग की महिलाएं अब मंदिर में प्रवेश कर सकेंगी. सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि हमारी संस्कृति में महिला का स्थान आदरणीय है. यहां महिलाओं को देवी की तरह पूजा जाता है और मंदिर में प्रवेश से रोका जा रहा है. यह स्वीकार्य नहीं है.

Source Article