सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के बाद केरल में बिगड़े हालात, 750 से ज्यादा लोग गिरफ्तार, पढ़ें 10 बड़ी बातें

3
- Advertisement -

सबरीमाला मंदिर मामले को लेकर प्रदर्शन

केरल: सबरीमाला मंदिर में दो महिलाओं के प्रवेश के बाद हालात बिगड़ते ही जा रहे हैं. इस घटना के सामने के आने बाद केरल में कई जगह पर स्थानीय लोगों ने राज्य सरकार के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन किए. इस दौरान उन्होंने पुलिस पर पत्थर फेंके और अपना विरोध दर्ज कराया. कई जगहों पर स्थानीय संगठनों ने बंद का भी आह्वान किया. गुरुवार शाम होते-होते अलग-अलग जगह हुई हिंसा में 30 से ज्यादा पुलिस वाले घायल हो गए. जबकि पुलिस ने कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए 750 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया. सबरीमाला मंदिर विवाद से जुड़ी 10 बड़ी बातें

  1. सबरीमाला कर्मा समिति ने मंदिर प्रागण में महिलाओं के प्रवेश के विरोध में बंद बुलाया. बीजेपी ने समर्थन किया.
  2. महिलाओं के मंदिर में प्रवेश के बाद से ही हिंदूवादी संगठनों के कार्यकर्ताओं ने राज्य के कई जिलों में हिंसक प्रदर्शन किए.
  3. हिंसक प्रदर्शन के दौरान कई आम नागरिक भी घायल हुए. प्रदर्शन के दौरान बीजेपी के तीन कार्यकर्ताओं को चोटें लगी.
  4. हिंसक प्रदर्शन के बीच सूबे के मुख्यमंत्री पी. विजयन ने राज्य में बिगड़ी कानून व्यवस्था के लिए आरएसएस को जिम्मेदार बताया है.
  5. सीएम विजयन ने कहा कि आरएसएस के लोग जानबूझकर स्थानीय लोगों को भड़का रहे हैं ताकि वह उनके साथ सड़क पर उतर सकें.
  6. सीएम ने कहा कि जो महिलाएं मंदिर के अंदर गई उन्हें किसी ने हवाई जहाज से नहीं वहां पहुंचाया था. वह अन्य श्रद्धालुओं की तरह ही समान्य रास्त से गई थी. कुछ संगठन राज्य को वार जोन बनाना चाहते हैं.
  7. राज्य में हो रही हिंसा को देखते हुए राज्यपाल ने मुख्यमंत्री से इस घटना को लेकर रिपोर्ट मांगी है. साथ ही उन्होंने सभी समुदाय और वर्ग के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील भी की है.
  8. केरल पुलिस ने चंद्रण उन्नीथन की हत्या के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया है. चंद्रण उन्नीथन सबरीमाला कर्मा समिति द्वारा बुलाए गए प्रदर्शन में हिस्सा ले रहे थे.
  9. राज्य के सीएम ने कहा था कि चंद्रण उन्नीथन की मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई थी. उन्होंने बताया था कि चंद्रण की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है.
  10. कई बार पहले भी कुछ महिला संगठनों की महिलाओं ने मंदिर में प्रवेश की कोशिश की थी. लेकिन वह कभी इसमे सफल नहीं हो पाईं.

टिप्पणियांSource Article

- Advertisement -