‘सत्ता से तृप्त’ नीतीश कुमार अब मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़ना चाहते हैं: सहयोगी उपेंद्र कुशवाहा का चौंकाने वाला दावा

2
- Advertisement -

नीतीश कुमार (फाइल फोटो)

पटना: बिहार में सबसे बड़ा पद (मुख्यमंत्री का पद) जल्द ही खाली होने वाला है और इसके लिए नए उम्मीदवार की जरूरत होगी. केंद्रीय मंत्री और रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने बुधवार को इशारा किया. उन्होंने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अब सता में अपने ढलान पर हैं. उपेंद्र कुशवाहा ने दावा किया कि नीतीश कुमार की सत्ता से इच्छा पूरी हो चुकी है और अब वह मुख्यमंत्री पद छोड़ना चाहते हैं. उपेंद्र कुशवाहा का दावा है कि नीतीश कुमार ने उन्हें कहा है कि 15 साल मुख्यमंत्री रहने के बाद अब कितना दिन रहेंगे और ये स्थान ख़ाली होने वाला है. कुशवाहा ने बुधवार को पटना में अपने पार्टी के कार्यक्रम में यह भी कहा कि नीतीश कुमार के मन की इच्छा पूरी हो गई है. सत्ता से उनका मन तृप्त हो चुका है और किसी व्यक्ति को उसकी इच्छा के विपरीत कुर्सी पर नहीं रखा जा सकता. हालांकि कुशवाहा ने माना कि जनता ने जनादेश नीतीश कुमार को दिया है. लेकिन उपेंद्र कुशवाहा ने बार-बार कहा कि उनके बातों का ग़लत अर्थ नहीं निकाला जाना चाहिए कि वह नीतीश कुमार का इस्तीफ़ा मांग रहे हैं.
यह भी पढ़ें : NDA में बने रहेंगे उपेंद्र कुशवाहा, लेकिन मध्‍यप्रदेश में अपने दम पर लड़ेंगे चुनाव
सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के अवसर पर पार्टी के युवा शाखा द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि जितने अच्छे से वह नीतीश कुमार को जानते हैं उतने ही अच्छे तरीक़े से नीतीश उन्हें जानते हैं. इसलिए उन्होंने चेतावनी देते हुए जनता दल यूनाइटेड के प्रवक्ताओं को कहा कि बीच में मत बोलिए नहीं, तो ख़तरे में पड़ जाएंगे. उन्होंने यह भी कहा कि बिहार में जनादेश एनडीए को नहीं मिला था.
यह भी पढ़ें : NDA के साथ मजबूती से खड़े हैं, नरेंद्र मोदी को दोबारा PM बनाकर रहेंगे: उपेंद्र कुशवाहा

सीटों के समझौते पर कुशवाहा का कहना था कि वह बस इतना जानना चाहते हैं कि उनको राज्य में जब एनडीए की सरकार बनी तो हिस्सेदारी से वंचित क्यों किया गया. उन्होंने कहा कि वह कोई भी कुर्बानी देने के लिए तैयार हैं लेकिन किसी ना किसी को बताना होगा कि आख़िर उनकी पार्टी के लोगों को सता से वंचित क्यों रखा गया. कुशवाहा के रुख से साफ़ है कि फ़िलहाल वह एनडीए में ही रहेंगे और लोकसभा में अपनी सीटों की कटौती को वह बिहार के सता में अपनी भागीदारी से पूरा करना चाहते हैं.
टिप्पणियां बता दें कि बीते दिनों उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि था की बिहार एनडीए के कुछ सीनियर नेता हैं जो नरेंद्र मोदी को दोबारा प्रधानमंत्री बनते देखना नहीं चाहते हैं. हालांकि, उन्होंने किसी का नाम लेने से इनकार कर दिया. हालांकि, सियासी गलियारों में अटलकें लगाई गईं कि कुशवाहा का इशारा नीतीश कुमार की ओर ही था.
VIDEO : तेजस्वी से मुलाकात पर कुशवाहा की सफाई
Source Article

- Advertisement -