शाह फैसल के IAS से इस्तीफे पर मचा घमासान, चिदंबरम ने मोदी सरकार पर फोड़ा ठीकरा

1
- Advertisement -

आईएएस की नौकरी से इस्तीफा देने वाले कश्मीरी युवक शाह फैसल की फाइल फोटो.

नई दिल्ली:

आईएएस अधिकारी शाह फैसल (IAS officer Shah Faesal) के इस्तीफे पर अब घमासान मचा है. वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी चिदंबरम (P Chidambaram) ने गुरुवार को इस मुद्दे पर मोदी सरकार(Narendra Modi Government) पर निशाना साधा. कहा कि शाह फैसल का इस्तीफा देना भाजपा सरकार के लिए कलंक है. चिदंबरम ने कहा कि इस कदम से ‘‘दुनिया उनकी पीड़ा और आक्रोश पर ध्यान देगी.''अपने सिलसिलेवार ट्वीट में पूर्व गृह और वित्त मंत्री ने कहा कि प्रथम कश्मीरी आईएएस टॉपर रहे फैसल ने जो कुछ भी कहा है, वह सरकार को दोषी ठहराता है.उन्होंने कहा, ‘‘हालांकि दुखद है, लेकिन मैं आईएएस अधिकारी (अब इस्तीफा दे चुके) शाह फैसल को सलाम करता हूं. उनके बयान का हर शब्द सच है और भाजपा सरकार को दोषी ठहराने वाला है. दुनिया उनकी पीड़ा और आक्रोश पर ध्यान देगी.''फैसल ने सिविल सेवा अधिकारी पद से इस्तीफा दे दिया है.उन्होंने बुधवार को अपने फैसले की वजह "कश्मीर में लगातार हो रही हत्याओं" को बताया था और साथ ही कहा था कि कश्मीरी लोगों तक पहुंचने के केंद्र सरकार के प्रयासों में ‘‘ईमानदारी की कमी है.''

यह भी पढ़ें – IAS टॉपर शाह फैसल ने दिया इस्तीफा, इस राजनैतिक पार्टी में हो सकते हैं शामिल

अफ़सोस, लेकिन मैं श्री @shahfaesal IAS (अब इस्तीफ़ा दे चुके) को सलाम करता हूं। उनके बयान का हर शब्द सही है और भाजपा सरकार पर कलंक है। दुनिया उनके आक्रोश, पीड़ा और चुनौती को याद रखेगी।

— P. Chidambaram (@PChidambaram_IN) January 10, 2019

- Advertisement -

उन्होंने इसके साथ ही ‘‘भारतीय मुसलमानों को हाशिये पर डाले जाने पर भी आक्रोश जाहिर किया था.''चिदंबरम ने कहा कि कुछ समय पहले ही " महान पुलिस अधिकारी" व पंजाब के पूर्व डीजीपी और मुंबई पुलिस के पूर्व आयुक्त जूलियो रिबेरो ने भी यही बात कही थी, लेकिन "शासकों की तरफ से उन्हें आश्वासन का एक शब्द तक भी नहीं मिला.''

यह भी पढ़ें- 'रेपिस्तान' ट्वीट को लेकर 2010 यूपीएससी टॉपर रहे नौकरशाह शाह फैसल के खिलाफ कार्रवाई

ज्यादा समय पहले की बात नहीं है जब प्रसिद्ध पुलिस अधिकारी श्री रिबेरो ने इसी तरह की बात कही थी, लेकिन सत्ता में बैठे लोगों के मुंह से आश्वासन का एक शब्द भी नहीं निकला। हमारे साथी नागरिकों के इस तरह के बयानों से हमें अपना सिर शर्म और पछतावे में झुका लेना चाहिए।

— P. Chidambaram (@PChidambaram_IN) January 10, 2019

उन्होंने कहा, "हमारे देश के नागरिकों के ऐसे बयानों से हमारा सिर अफसोस और शर्म से झुक जाना चाहिए."मोदी सरकार को लेकर रिबेरो ने तब कहा था कि देश को समावेशी विकास की जरूरत है न कि कुछ वर्गों की.

टिप्पणियां

वीडियो- आईएएस की परीक्षा में टॉप करने वाले छात्र शाह फैसल

Source Article