शशि थरूर के खिलाफ दिल्ली की अदालत में मानहानि का केस दायर

1
- Advertisement -

शशि थरूर के खिलाफ मामला दर्ज

नई दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ( Shashi Tharoor) के खिलाफ दिल्ली की एक अदालत में मानहानि की शिकायत दायर की गई है. गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही शशि थरूर ने पीएम मोदी को बिच्छू बताया था. थरूर के खिलाफ मानहानि का मामला दिल्ली के बीजेपी नेता राजीव बब्बर ने दायर की है. बब्बर ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया कि थरूर ने दुर्भावनापूर्ण ढंग से यह बयान दिया जिससे न केवल हिंदू देवता का अनादर हुआ है बल्कि यह अपमानजनक भी है. उन्होंने कहा कि थरूर के बयान से उनकी धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं. वकील नीरज के जरिए दायर शिकायत में बयान को असहनीय दुर्व्यवहार और लाखों लोगों की आस्था का पूरी तरह अपमान बताया गया है. इसमें कहा गया है कि शिकायतकर्ता की धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं और आरोपी ने जानबूझ कर यह द्वेषपूर्ण काम किया जिसकी मंशा भगवान शिव के भक्तों की धार्मिक मान्यताओं का अपमान कर उनकी धार्मिक भावनाओं को आहत करना है.
यह भी पढ़ें: RTI में पूछा गया PM का फिटनेस वीडियो बनाने में कितना खर्च आया, यह मिला जवाब…
अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट समर विशाल ने शनिवार को इस मामले को विचार-विमर्श के लिए 16 नवम्बर के लिए सूचीबद्ध कर दिया. थरूर ने बेंगलुरू साहित्य महोत्सव में रविवार को एक ताजा विवाद पैदा करते हुए दावा किया था कि एक अनाम आरएसएस नेता ने मोदी की तुलना शिवलिंग पर बैठे बिच्छू से की थी. मानहानि से संबंधित भारतीय दंड संहिता की धारा 499 और धारा 500 के तहत यह शिकायत दायर की गई है. यदि थरूर दोषी पाये गये तो उन्हें दो वर्ष की अधिकतम जेल की सजा हो सकती है. गौरतलब है कि यह कोई पहला मौका नहीं है जब शशि थरूर ने पीएम मोदी या केंद्र सरकार को लेकर कोई बयान दिया है. कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने एक बार फिर नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोला है. उन्होंने भीमा कोरेगांव हिंसा में सामाजिक कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी पर कहा कि मोदी सरकार यह काम साजिश के तहत कर रही है.
यह भी पढ़ें: शशि थरूर ने लिखा अंग्रेजी का ऐसा शब्द, समझने के लिए डिक्शनरी खोलकर बैठ गए लोग
टिप्पणियां सरकारी की शुरू से यह रणनीति रही है कि जो कोई सरकार के खिलाफ आवाज उठाए उस पर देशद्रोही और हिंदू विरोधी का लेबल चस्पा कर दो.यह सब एक साजिश के तहत हो रहा है, जिसका उद्देश्य समाज को बांटकर रखना है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के 'नाली के कीड़े' वाले आपत्तिजनक बयान पर थरूर कहते हैं, "मुझे लगता है कि भाजपा के इस तरह के घटिया बयानों पर प्रतिक्रिया देने की जरूरत नहीं है. मुझे खुशी है कि मैंने इस बयान पर ध्यान भी नहीं दिया."
VIDEO: शशि थरूर का विवादित बयान.
तिरुवनंतपुरम से सांसद थरूर ने दिल्ली में आयोजित 'यूथ की आवाज' कार्यक्रम से इतर आईएएनएस के साथ बातचीत में 'शहरी नक्सली' शब्द गढ़े जाने पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह केंद्र सरकार की साजिश है कि जो लोग आपसे सहमत नहीं हैं, उन्हें अलग-अलग तरह के लेबल दे दो, कभी उन्हें देशद्रोही करार दे दो, कभी हिंदू विरोधी कह दो. इस तरह किसी का अपमान कर, उन पर हमला कर घटिया लेबल लगाना लोकतंत्र नहीं है." (इनपुट भाषा से)
Source Article

- Advertisement -