विजय माल्या ने कहा- PM बैंकों को मेरा ऑफर स्वीकार करने का क्यों नहीं निर्देश दे रहे?

3
- Advertisement -

भगोड़ा बिजनेसमैन विजय माल्या

लंदन:

मनी लॉन्ड्रिंग और धोखाधड़ी के मामले में जांच का सामना कर रहे भगोड़े बिजनेसमैन विजय माल्या (Vijay Mallya)ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 'वाक्पटु वक्ता' कहा है और पूछा है किपीएम (PM Modi) मेरा पैसा लौटाने का ऑफर स्वीकार करने के लिए बैंकों को निर्देश क्यों नहीं देते? विजय माल्या ने भारतीय बैंकों से अपील की थी कि जो लोन उसने लिया था, उसकी प्रिंसिपल रकम पूरी वापस ले लें. माल्या ने गुरुवार को एक के बाद एक कई ट्वीट किए.

माल्या ने ट्वीट किया, 'मैं आदरपूर्वक पूछना चाहता हूं कि प्रधानमंत्री मेरा पैसा लौटाने का ऑफर स्वीकार करने के लिए बैंकों को निर्देश क्यों नहीं देते? इसके बाद वह किंगफिशर को दिए गए लोन की पूरी वसूली के लिए कम से कम क्रेडिट का दावा कर सकते हैं' ट्वीट में माल्या ने साथ ही दावा किया है कि उसने कर्नाटक हाईकोर्ट के आगे भी मामले को सुलझाने के लिए ऑफर दिया था.

Following on from my earlier tweet, I respectfully ask why the Prime Minister is not instructing his Banks to take the money I have put on the table so he can at least claim credit for full recovery of public funds lent to Kingfisher.

— Vijay Mallya (@TheVijayMallya) February 14, 2019

विजय माल्या अपने प्रत्यर्पण के खिलाफ करेगा अपील, अब भी है 2 सप्ताह का वक्त

- Advertisement -

एक अन्य ट्वीट में माल्या ने कहा, 'मीडिया रिपोर्ट्स में ईडी के हवाले से बताया जा रहा है कि मैंने अपनी संपत्ति छुपाई है. अगर ऐसा होता तो मैं कोर्ट के सामने 14,000 करोड़ रुपए की संपत्ति का खुलासा क्यों करता? जनता को गुमराह करना शर्मनाक है.'

The Prime Ministers last speech in Parliament was brought to my attention. He certainly is a very eloquent speaker. I noticed that he referred to an unnamed person who “ran away” with 9000 crores. Given the media narrative I can only infer that reference is to me.

— Vijay Mallya (@TheVijayMallya) February 14, 2019

विजय माल्या के बर्थडे पर बेटे ने किया इमोशनल ट्वीट, लिखा- किसी के लिए हीरो, किसी के लिए विलेन, मेरे लिए…

बता दें, विजय माल्या ब्रिटेन सरकार के उस निर्णय के खिलाफ अपील करने की तैयारी में हैं जिसमें उन्हें भारतीय अधिकारियों को सौंपने की मंजूरी दी गयी है. यह बात माल्या ने ट्वीट करके बताई थी. माल्या ने ट्वीट किया था कि वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत के 10 दिसंबर, 2018 के आदेश पर फैसला आने के बाद मैंने अपील की अपनी मंशा के बारे में बता दिया है. गृह मंत्री के निर्णय से पहले मैं अपील नहीं कर सकता था. अब मैं अपील करूंगा.

माल्या के खिलाफ भारत में 9,000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी और मनी लांड्रिंग के मामले में कार्रवाई की जानी है. माल्या के प्रत्यर्पण को ब्रिटेन के गृह मंत्री साजिद जाविद ने मंजूरी दे दी थी. इससे माल्या को वापस लाने के प्रयासों में भारत को एक बड़ी सफलता मिली थी.

'माल्या जी को चोर कहना गलत' इस बयान पर फंसने पर क्या बोले केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी?

टिप्पणियां

VIDEO- माल्या के भारत प्रत्यर्पण के आदेश

Source Article