लोकसभा चुनाव 2019: हरियाणा की 10 सीटों पर ही रहेगी सबकी नजर 

4
- Advertisement -

हरियाणा में इस बार होगी कांटे की टक्कर

नई दिल्ली:

हरियाणा उत्तर भारत में स्थित एक राज्य है. चंडीगढ़ हरियाणा की राजधानी है. हरियाणा का कुल क्षेत्रफल 17,070 वर्ग किलोमीटर है. चंडीगढ़ के अलावा फरीदाबाद और गुरुग्राम इसके दो बड़े शहर है. गुरुग्राम को तो फाइनेंसियल हब भी कहते हैं. हरियाणा में कुल 22 जिले, 72 सब-डिविजन, 93 तहसील, 50 सब-तहसील, 140 कम्युनिटी डेवलेपमेंट ब्लॉक्स, 154 शहर और कुल 6848 गांव हैं. 2011 की जनगणना के अनुसार हरियाणा की कुल आबादी 25,350,000 है. इनमें 87.46 फीसदी लोग हिंदू धर्म को मानने वाले हैं, वहीं मुस्लिम धर्म को मानने वालों की संख्या 7.03 फीसदी है. जबकि सिख 4.92 फीसदी हैं.

लोकसभा चुनाव 2019: झारखंड की 14 लोकसभा सीटों पर स्थानीय और राष्ट्रीय पार्टियों के बीच टक्कर

हरियाणा में खास तौर पर हिंदी बोली जाती है. हिंदू बोलने वालों की संख्या कुल आबादी में से 87.31 फीसदी है. हरियाणा के ग्रामीण इलाकों में हरियाणवी बोली है जाती है. हरियाणा में नेपाली, बंगाली और पंजाबी भी बोली जाती है.

- Advertisement -

हरियाणा में साक्षर लोगों के प्रतिशत में भी पहले की तुलना में सुधार हुआ है. 2011 की जनगणना के अनुसार राज्य में 76.64 फीसदी लोग पढ़े लिखे हैं. इनमें साक्षर पुरुषों का प्रतिशत 85.38 फीसदी है जबकि पढ़ी-लिखी महिलाओं का प्रतिशत 66.67 फीसदी है.

टिप्पणियां

उत्तर भारत के सबसे साक्षर राज्यों में से एक हिमाचल प्रदेश में उम्मीदवारों की होती है अग्निपरीक्षा

हरियाणा में लोकसभा की कुल 11 सीटें हैं. इनमें अंबाला, कुरुक्षेत्र, सिरसा, फरीदाबाद, रोहतक, करनाल, गुरुग्राम, हिसार, महेंद्रगढ़ और भिवानी हैं. हरियाणा में बीजेपी औऱ कांग्रेस के बीच ही चुनाव में मुख्य मुकाबला होता है. हालांकि यहां की क्षेत्रीय पार्टियां भी लोकसभा चुनाव में एक बड़ी भूमिका निभाती है. हरियाणा में बीजेपी और कांग्रेस के अलावा जो पार्टी हैं उनमें इंडियन नेशनल लोक दल, हरियाणा जनहित कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी, शिरोमणि अकाली दल हैं. फिलहाल हरियाणा में बीजेपी की सरकार है जिसके मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर हैं.

Source Article