राहुल गांधी ने पीएम मोदी से पूछा- कहीं इसका मतलब ‘I Love Financial Scams’ तो नहीं

11
- Advertisement -

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ( फाइल फोटो )

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्विटर पर पीएम मोदी पर आज फिर निशाना साधा है. उन्होंने कहा है कि मोदीजी, आपकी चहेती निजी कम्पनी आईएलएफएस (ILFS) डूबने वाली है. आप एलआईसी का पैसा लगाकर उसे बचाना चाहते हो. क्यों? एलआईसी देश के भरोसे का चिन्ह है. एक-एक रुपया जोड़कर लोग एलआईसी की पॉलिसी लेते हैं. उनके पैसे से जालसाजों को क्यों बचाते हो? कहीं आपके लिए आईएलएफएस (ILFS) का मतलब ‘I Love Financial Scams' ( मैं आर्थिक घोटालों को पसंद करता हूं) तो नहीं? आपको बता दें कि कुछ दिन पहले ही सार्वजनिक क्षेत्र की जीवन बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) कर्ज संकट में फंसी आईएलएफएस के पक्ष में खड़े होने का ऐलान किया है. एलआईसी ने कहा कि वह कंपनी को डूबने नहीं देगी और इसे बनाये रखने के लिये सभी विकल्पों पर विचार करेगी. आईएलएफएस में एलआईसी की सबसे बड़ी हिस्सेदारी है.
राहुल गांधी का ट्वीट

मोदीजी, आपकी चहेती निजी कम्पनी ILFS डूबने वाली है। आप LIC का पैसा लगाकर उसे बचाना चाहते हो।क्यों?

LIC देश के भरोसे का चिन्ह है। एक-एक रुपया जोड़कर लोग LIC की पॉलिसी लेते हैं। उनके पैसे से जालसाजों को क्यों बचाते हो?
कहीं आपके लिए ILFS का मतलब ‘I Love Financial Scams' तो नहीं? — Rahul Gandhi (@RahulGandhi) September 30, 2018

अनिल अंबानी को 1.3 लाख करोड़, पर आयुष्मान भारत के लिए 2 हजार करोड़ का झुनझुना, वाह मोदीजी वाह: राहुल गांधी
कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि वह कर्ज के बोझ तले दबी इंफ्रास्ट्रक्चर लिजिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज (आईएलएंडएफएस) कंपनी को बचाने के लिए भारतीय जीवन बीमा निगम लिमिटेड (एलआईसी) और भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) पर दबाव डाल रही है. एलआईसी आईएलएंडएफएस में 25.34 प्रतिशत और एसबीआई 6.42 प्रतिशत की हिस्सेदार है.
राहुल गांधी पर CM शिवराज का हमला- 70 साल में आप मेड इन अमेठी लिखा पतली पिन का चार्जर भी नहीं बना पाए
टिप्पणियां वहीं भारतीय रिजर्व बैंक ने कर्ज बोझ तले दबी इस कंपनी शेयरधारकों के साथ बैठक रद्द कर दी. यह बैठक 27 सितंबर को होनी थी. इससे पहले केंद्रीय बैंक ने आईएलएंडएफएस के प्रमुख शेयरधारकों भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी), भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के साथ बैठक बुलाई थी. कंपनी और उसकी अनुषंगियां विभिन्न ऋणों का भुगतान करने में विफल रही थीं जिसके मद्देनजर यह बैठक बुलाई गई थी. एक सूत्र ने बताया, ‘‘कल की बैठक रद्द कर दी गई है. नियामक के रूप में वे (आरबीआई) जानना चाहते हैं कि क्या कार्रवाई हो रही है और कंपनी क्या रूपरेखा अपना रही है.’’ एक अन्य सूत्र ने कहा कि रिजर्व बैंक भविष्य की योजनाओं का ब्योरा चाहता है या जानना चाहता है कि क्या सुधारात्मक कदम उठाए जा रहे हैं.
15 दिन तक चलेगी कांग्रेस की राम वन पथ गमन यात्रा​
इनपुट : भाषा से भी
Source Article

- Advertisement -