राहुल का मोदी सरकार पर हमला, नोटबंदी को योजनाबद्ध तरीके से किया गया ‘आपराधिक आर्थिक घोटाला’ बताया

1
- Advertisement -

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर बोला हमला. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: नोटबंदी के दो साल (Demonetisation Anniversary) पूरे हो गए हैं और इसे लेकर कांग्रेस ने अपने हमले तेज़ कर दिए हैं. वह नोटबंदी को पूरी तरह नाकाम बता कर प्रधानमंत्री मोदी से माफ़ी की मांग कर रही है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने नोटबंदी के मुद्दे पर मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला. राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार का यह कदम खुद से पैदा की गई 'त्रासदी' और 'आत्मघाती हमला' था, जिससे प्रधानमंत्री के 'सूट-बूट वाले मित्रों' ने अपने कालेधन को सफेद करने का काम किया. उन्होंने कहा कि नोटबंदी सिर्फ एक बगैर सोचे-समझे 'मासूम इरादे' से लागू की गई आर्थिक नीति नहीं, बल्कि बहुत योजनाबद्ध तरीके से किया गया एक 'आपराधिक आर्थिक घोटाला' था.
यह भी पढ़ें : कांग्रेस का मोदी सरकार पर हमला: नोटबंदी आजाद भारत का सबसे बड़ा घोटाला, प्रधानमंत्री गलती स्वीकारें

उन्होंने यह भी दावा किया कि नोटबंदी की पूरी सच्चाई अभी सामने नहीं आई है और देश की जनता पूरा सच जानने तक चैन से नहीं बैठेगी. राहुल गांधी ने कहा, 'भारत के इतिहास में आठ नवंबर की तारीख को हमेशा कलंक के तौर पर देखा जाएगा. दो साल पहले आज के दिन प्रधानमंत्री मोदी ने देश पर नोटबंदी का कहर बरपाया. उनकी एक घोषणा से भारत की 86 फीसदी मुद्रा चलन से बाहर हो गई, जिससे हमारी अर्थव्यवस्था थम गई.'
यह भी पढ़ें : रिजर्व बैंक को अपनी मुट्ठी में करने की कोशिश कर रही है मोदी सरकार : चिदंबरम

उन्होंने दावा किया, 'नोटबंदी एक त्रासदी थी. अतीत में भारत ने कई त्रासदियों का सामना किया है. कई बार हमारे बाहरी दुश्मनों ने हमें नुकसान पहुंचाने की कोशिश की, लेकिन हमारी त्रासदियों के इतिहास में नोटबंदी अपनी तरह की एक अलग त्रासदी है जिसे खुद से लाया गया. यह एक आत्मघाती हमला था, जिससे करोड़ों जिंदगियां बर्बाद हो गईं और भारत के हजारों छोटे कारोबार नष्ट हो गए.'
यह भी पढ़ें : ममता बनर्जी ने नोटबंदी को घोटाला बताया, बोलीं- इसने अर्थव्यवस्था और लाखों जिंदगियों को किया बर्बाद
कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, 'नोटबंदी से सबसे ज्यादा प्रभावित गरीब लोग हुए. लोगों को अपनी गाढ़ी कमाई के पैसे को बदलवाने के लिए कई दिनों तक कतारों में खड़े रहना पड़ा. 100 से अधिक लोगों की कतारों में मौत हो गई्.' राहुल गांधी ने दावा किया कि मोदी सरकार ने नोटबंदी के समय जिन लक्ष्यों की बात की थी, उनमें से एक भी लक्ष्य पूरा नहीं हो सका है. इसके उलट देश की जीडीपी में एक फीसदी की कमी आई.
टिप्पणियांVIDEO: कांग्रेस पीएम मोदी से पूछेगी सात सवाल, बड़े प्रदर्शन की तैयारी
उन्होंने आरोप लगाया, 'प्रधानंत्री की ऐतिहासिक गलती के दो साल पूरा होने के मौके पर वित्त मंत्री (जेटली) सहित बातों को घुमाने वाले सरकार के लोगों के पास यह बहुत मुश्किल काम है कि वो इस आपराधिक नीति का बचाव करें.' नोटबंदी को 'आपराधिक वित्तीय घोटाला करार देते हुए गांधी ने कहा, 'नोटबंदी की पूरी सच्चाई अभी आनी है.
(इनपुट: भाषा)
Source Article

- Advertisement -