राहुल का आरोप, दसॉल्ट ने अनिल अंबानी को जमीन खरीदने के लिए पैसे दिए

3
- Advertisement -

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल सौदे को लेकर एक बार फिर पीएम मोदी को निशाना बनाया.

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर राफेल सौदे को लेकर मोदी सरकार पर हमला बोला है. उन्होंने कहा है कि यह पूरी तरह दलाली का केस है. पीएम मोदी ने ख़ुद इस सौदे को मंज़ूरी दी है. अगर जांच हुई तो पीएम मोदी बच नहीं पाएंगे, और इसी डर से सीबीआई चीफ़ को हटा दिया गया है.
राफेल पर राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी पर हमले का सिलसिला जारी रखा है. शुक्रवार को राहुल ने आरोप लगाया कि दसॉल्ट ने अनिल अंबानी को जमीन खरीदने के लिए पैसे दिए. ये पूरी तरह से ओपन एंड शट केस है. राहुल ने कहा कि दसॉल्ट कंपनी ने अनिल अंबानी की घाटे में चल रही एक कंपनी को 284 करोड़ रुपये दिए, जिससे अनिल अंबानी ने ज़मीन ख़रीदी. घाटे वाली कंपनी को कोई पैसे क्यों देगा?
राहुल गांधी ने दावा किया कि 30,000 करोड़ के घोटाले के खुलासे से पीएम मोदी ख़ौफ़ में हैं, रात में उन्हें नींद नहीं आती है.
यह भी पढ़ें : आखिर किन वजहों से राफेल जहाज के दाम नहीं हो रहे सार्वजनिक, बताएं पीएम : कांग्रेस
NDTV ने दसॉल्ट और अनिल अंबानी के रिलायंस ग्रुप से संपर्क किया. दसॉल्ट की ओर से किसी भी रूप में कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली, लेकिन अनिल अंबानी रिलायंस समूह की ओर से राहुल के आरोपों का तीखा जवाब दिया गया है. एक प्रेस रिलीज में कहा गया है- कांग्रेस ने फिर रिलायंस और अनिल अंबानी के ख़िलाफ़ झूठ फैलाने के लिए तथ्यों को तोड़ा-मरोड़ा है. रिलायंस का सारा कारोबार नियमों के मुताबिक है और 2017 से ही सारे लेनदेन की जानकारी सार्वजनिक है. कांग्रेस का यह आरोप झूठा है कि आरएडीएल में लगाए गए पैसे से ज़मीन खरीदी गई है.
बीजेपी ने राहुल गांधी के आरोपों को झूठा करार दिया है. यूपी के उप मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राहुल के आरोप झूठे हैं. मोदी सरकार सबसे ईमानदार है और राहुल 2019 के चुनाव में हार की आशंका से बौखला गए हैं.
टिप्पणियांVIDEO : राफेल डील पूरी तरह दलाली का केस
चुनाव से पहले राफेल को मुद्दा बनाने में जुटे राहुल इस सौदे पर उठने वाले हर सवाल का सियासी फायदा उठाना चाहते हैं जबकि सरकार के सामने ये समझाने की चुनौती है कि इस सौदे में गड़बड़ी नहीं हुई है.
Source Article

- Advertisement -