राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत दिग्गज नेता पहुंचे अरुण जेटली के घर, दी श्रद्धांजलि

2
- Advertisement -

Click to Expand & Play

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत दिग्गज नेता पहुंचे अरुण जेटली के घर, दी श्रद्धांजलि

अरुण जेटली के अंतिम दर्शन के लिए पहुंचे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

नई दिल्ली:

पूर्व वित्त मंत्री अरूण जेटली का पार्थिव शरीर राष्ट्रीय राजधानी के कैलाश कालोनी स्थित उनके आवास पर ले जाया गया जहां राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह सहित विभिन्न नेताओं ने उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किए. जेटली (66) का आज एम्स में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया. उनके परिवार में पत्नी और बच्चे हैं. बाद में बीजेपी नेता का पार्थिव शरीर उनके आवास पर लाया गया. कई राजनीतिक दलों के नेताओं और बीजेपी कार्यकर्ताओं और उनके प्रशंसकों ने जेटली को अंतिम विदाई दी. जेटली का पार्थिव शरीर कांच के ताबूत में रखा गया. नेताओं ने इस दौरान श्रद्धासुमन अर्पित किये और पुष्पचक्र चढ़ाया.

- Advertisement -

अरुण जेटली और सुषमा स्वराज के साथ 'दिल और दिमाग' से काम करने वाले नेताओं का दौर भी गया…

केंद्रीय मंत्री अमित शाह, राजनाथ सिंह, निर्मला सीतारमण पीयूष गोयल, हर्षवर्धन, जितेंद्र सिंह और एस. जयशंकर के अलावा बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा सहित विभिन्न नेताओं ने जेटली को अंतिम विदाई दी. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, अहमद पटेल, दिग्विजय सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया, राजीव शुक्ला के अलावा केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान और उनके पुत्र चिराग पासवान ने भी दिवंगत नेता को अंतिम विदाई दी.योगी आदित्यनाथ और अरविंद केजरीवाल, नवीन पटनायक, कमलनाथ समेत विभिन्न मुख्यमंत्रियों ने उनके आवास पर जा कर उन्हें श्रद्धांजलि दी.

लालकृष्ण आडवाणी ने कुछ यूं किया अरुण जेटली को याद, बोले- वे हमेशा मुझे अच्छे रेस्टोरेंट…

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, 'वह अंतरराष्ट्रीय मंच पर भी प्रसिद्ध थे. मंत्री रहते हुए देश उनके योगदान को कभी नहीं भूल सकता है. वह देश और पार्टी के लिए संपत्ति थे. अब वह हमारे बीच नहीं हैं और मैं उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं.' अहमद पटेल ने कहा हालांकि जेटली दूसरी पार्टी में थे, जिसकी अलग विचारधारा है लेकिन उनका सबके साथ सद्भाव था. कांग्रेस नेता ने कहा, 'उनकी तरह के बहुत कम लोग हैं. उनके निधन से न केवल बीजेपी की बल्कि देश को भी क्षति हुई है.

विभाजन के बाद लाहौर से दिल्ली आए थे अरुण जेटली के पिता, जानिए खास बातें…

दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की गोद ली गयी पुत्री नमिता कौल ने भी जेटली के पार्थिव शरीर पर पुष्प चक्र चढ़ाया. दिवंगत भाजपा नेता सुषमा स्वराज की बेटी बांसुरी स्वराज भी जेटली के आवास पर पहुंचीं.

कैसे अरुण जेटली ने बिहार में लालू-राबड़ी युग का अंत किया और नीतीश कुमार को सीएम बनाने में अहम भूमिका निभाई

केजरीवाल ने कहा, 'जेटली देश के बेहतरीन राजनेताओं में से एक थे. वह एक महान व्यक्ति और प्रखर वक्ता थे. मेरे साथ उनके अच्छे संबंध थे और इस नुकसान की भारपाई किसी तरह से नहीं होगी. दिल्ली को उनकी कमी खलेगी.' ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने जेटली को 'शानदार सांसद एवं बेहतरीन मंत्री' के रूप में याद किया, जिनकी कमी कई लोग महसूस करेंगे.

रवीश कुमार का ब्लॉग: अलविदा जेटली जी…

उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने जेटली को 'संवेदनशील' व्यक्ति, प्रखर वक्ता और कुशल राजनेता बताया जिन्होंने रक्षा, कानून सहित कई अन्य विभाग पूरी दक्षता के साथ निभाई. शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख सुखबीर बादल, उनकी पत्नी और केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर भी दिवंगत पूर्व केंद्रीय मंत्री के आवास पर मौजूद थे. पूर्व वित्त मंत्री को श्रद्धा सुमन अर्पित करने वालों में पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर, राज्यवर्द्धन सिंह राठौड़, मीनाक्षी लेखी, अनुराग ठाकुर और प्रवेश साहिब सिंह वर्मा शामिल हैं.

18 दिन में बीजेपी ने खो दिए दो बड़े नेता : विपक्ष हमेशा याद करेगा सुषमा स्वराज और अरुण जेटली को

टिप्पणियां

भाजपा नेता विजय गोयल ने कहा, 'हम दोनों ने श्रीराम कालेज आफ कामर्स में एक साथ छात्र संघ का चुनाव लड़ा. वह अध्यक्ष बने और मैं सचिव बना. तब से उनके साथ मेरे संबंध बहुत बेहतर रहे हैं. पश्चिम दिल्ली के सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा ने कहा, 'मुझे विश्वास नहीं हो रहा कि हमने उन्हें खो दिया है. यह देश के लिए और मेरे लिए एक बड़ी क्षति है.'

Video: कई दिग्गज नेताओं ने किए अरुण जेटली के अंतिम दर्शन

Source Article