राफेल सौदे पर राहुल गांधी का दावा: अगर राफेल की जांच शुरू हो जाए, जो पीएम नरेंद्र मोदी बच नहीं पाएंगे

1
- Advertisement -

राफेल सौदे को लेकर एक बार फिर राहुल गांधी ने पीएम मोदी को घेरा

नई दिल्ली: पिछले काफी समय से राफेल सौदे (Rafale Deal) को लेकर सरकार और विपक्ष में तकरार जारी है. एक ओर जहां सरकार कह रही है कि उसने राफेल सौदे में कोई गड़बड़ी नहीं की और राष्ट्रीय सुरक्षा का ख्याल रखा है. वहीं कांग्रेस कह रही है कि मोदी सरकार ने राफेल में घोटाला किया है और अनिल अंबानी को इसका फायदा पहुंचाया है. शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) पर राफेल डील को लेकर ताजा हमला किया. राहुल गांधी ने कहा कि अगर राफेल की जांच शुरू हो जाए तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बच नहीं पाएंगे. उन्होंने कहा कि राफेल 'ओपन एंड शट' केस है, यह साफ-साफ PM मोदी और अनिल अंबानी की साझीदारी का मामला है.
आखिर किन वजहों से राफेल जहाज के दाम नहीं हो रहे सार्वजनिक, बताएं पीएम : कांग्रेस
राहुल गांधी ने कहा कि अनिल अंबानी की कंपनी में दसॉल्ट ने 284 करोड़ रुपये डाला और उसी पैसे से अनिल अंबानी ने जमीन खरीदी. दसॉल्ट के सीईओ साफ झूठ बोल रहे हैं. उन्होंने आगे सवाल उठाया कि नुकसान में चल रही 8 लाख रुपये की कंपनी में 284 करोड़ रुपये दसॉल्ट ने क्यों डाले?
सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से कहा- सील बंद लिफाफे में 10 दिन के भीतर राफेल की कीमत और डिटेल जमा करें
उन्होंने कहा कि राफेल एक ओपन एंड शट केस है. सीबीआई डायरेक्टर इस मामले की जांच करने वाले थे, यही वजह है कि उन्हें हटाया गया. रक्षामंत्री फ्रांस गईं और अनिल अंबानी के पक्ष में दसॉल्ट से बात कीं. उन्होंने आगे कहा कि कीमत पर सवाल उठ रहा है. सुप्रीम कोर्ट ने कीमतों की जानकारी मांगी है और सरकार कह रही है कि नहीं बता सकते, क्योंकि ये गोपनीय है. लेकिन फ्रांस के राष्ट्रपति ने साफ तौर पर कहा है कि राफेल की कीमत गोपनीय समझौते का हिस्सा है ही नहीं.
राफेल पर NCP से अलग होने वाले तारिक अनवर ने थामा कांग्रेस का हाथ, राहुल गांधी ने दिलाई सदस्यता
राहुल गांधी ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि भ्रष्टाचार हुआ है और वो साफ दिख रहा है। 284 करोड़ रुपये के भ्रष्टाचार की पहली किश्त साफ तौर पर साबित हो गयी है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को रात को नींद नहीं आ रही है, टेंशन है और पकड़े जायेंगे. पीएम नरेंद्र मोदी ने व्यक्तिगत तौर पर यह फैसला लिया है. मनोहर पर्रिकर ने स्पष्ट कर दिया है कि राफेल मामले से उनका कोई लेना देना नहीं है. अगर राफेल की जांच शुरू हो जाए तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बच नहीं पाएंगे.
CBI ने चीफ आलोक वर्मा के पास राफेल मामले की फाइल होने की बात से किया इनकार
टिप्पणियां कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि मोदी सरकार ने राफेल सौदे में विमानों की संख्या घटाकर वायुसेना की ताकत कम की, भ्रष्टाचार करके देश के खजाने को नुकसान पहुंचाया, देश के युवाओं का रोज़गार छीना. फायदा सिर्फ उनको और उनके करीबी पूंजीपतियों को हुआ.
Source Article

- Advertisement -