राफेल डील से बाहर हुई HAL तैयार करेगी तेजस का हथियारबंद संस्करण

4
- Advertisement -

एचएएल (Hindustan Aeronautics Limited) को एयरफोर्स के लिए तेजस के हथियार वाले संस्करण के निर्माण की मंजूरी मिल गई है.

नई दिल्ली :

राफेल डील (Rafale Deal) पर जारी विवाद और इस सौदे से HAL यानी हिन्दुस्तान एरोनॉटिक्स लिमिटेड के बाहर होने के मसले पर सत्तारूढ़ बीजेपी और कांग्रेस के बीच जारी आरोप-प्रत्यारोप के बीच बड़ी खबर सामने आ रही है. राफेल डील से बाहर होने वाली HAL (Hindustan Aeronautics Limited) को एयरफोर्स के लिए हल्के लड़ाकू विमान (एलसीए) तेजस के हथियार वाले संस्करण के निर्माण की मंजूरी मिल गई है. इस साल के अंत तक ऐसा पहला विमान तैयार कर लिया जाएगा. एचएएल के मुताबिक सैन्य उड़ान योग्यता और प्रमाणन केंद्र (सीआईएमआईएलसी) ने अंतिम संचालन मंजूरी (एफओसी) कॉन्फिगरेशन के तहत तेजस एमके1 का उत्पादन शुरू करने के लिए हरी झंडी दे दी है. हालांकि, वास्तविक अंतिम संचालन मंजूरी व्यापक परीक्षण के बाद ही दी जाएगी.

डसॉल्ट एविएशन के सीईओ का VIDEO ट्वीट कर कांग्रेस ने कहा- HAL के साथ तय हो चुकी थी डील, लेकिन….

- Advertisement -

एचएएल के प्रवक्ता के मुताबिक अंतिम संचालन मंजूरी प्राप्त करने के लिए विमान में हवा में फिर से ईंधन भरे जाने, एईएसए रडार, इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर स्वीट, बम एवं हथियारों के विभिन्न प्रकार समेत युद्ध के वक्त जरूरी अन्य क्षमताएं होनी चाहिए. सीआईएमआईएलसी ने तेजस को डिजाइन एवं विकसित करने वाली एरोनॉटिकल डेवलपमेंट एजेंसी (एडीए) द्वारा जमा कराए गए डिजाइन दस्तावेजों को स्वीकार कर लिया है. सीआईएमआईएलसी सैन्य विमानों एवं वायु प्रणालियों को प्रमाणित करने वाली डीआरडीओ की एक प्रयोगशाला है. एचएएल के मुताबिक, 'एयरफोर्स ने 40 एलसीए विमानों का ऑर्डर दिया था. इनमें से 20 एफओसी कॉन्फिगर्ड होंगे. वहीं, अन्य 20 शुरुआती संचालन मंजूरी (आईओसी) कॉन्फिगर्ड होंगे'.

HAL और राफेल बनाने वाली कंपनी के बीच शुरू से थे ‘गंभीर मतभेद', सामने आया नया तथ्य

आपको बता दें कि राफेल पर जारी घमासान के बीच पिछले दिनों कांग्रेस ने डसॉल्ट एविएशन (Dassault Aviation) के सीईओ का एक वीडियो ट्वीट किया था. डसॉल्ट वही कंपनी है जो राफेल लड़ाकू विमान बनाती है. कांग्रेस द्वारा जारी किए गए इस वीडियो में राफेल बनाने वाली कंपनी डसॉल्ट के सीईओ हिंदुस्तान एयरोनाटिक्स लिमिटेड (HAL) के साथ समझौते की बात कर रहे हैं. ये वीडियो प्रधानमंत्री मोदी के फ्रांस दौरे से से 17 दिन पहले का बताया जा रहा है. इसी दौरे में डील पर दस्तख़त हुए, लेकिन एचएएल को डिल में जगह नहीं मिली. ये वीडियो 25 मार्च 2015 का है. इस कार्यक्रम में राफेल बनाने वाली कंपनी डसॉल्ट के सीईओ एरिक ट्रेपियर ने हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के चेयरमैन की मौजूदगी में उम्मीद जताई थी कि जल्द ही डसॉल्ट और एचएएल के समझौते पर मुहर लग जाएगी. (इनपुट- भाषा से भी)

टिप्पणियां

Exclusive: जो HAL राफेल डील से हुई बाहर, अमेरिका, इजरायल, फ्रांस सहित कई देशों की कंपनियां हैं उसकी कस्टमर

VIDEO : राफेल मुद्दे पर कांग्रेस का हमलावर रूख बरकरार​

Source Article