यूपी पुलिस की ट्रांसफर लिस्ट में उस अधिकारी का भी नाम जो अब इस दुनिया में ही नहीं

3
- Advertisement -

प्रतीकात्मक चित्र

लखनऊ:

यूपी पुलिस (UP Police) अलग-अलग मामलों में बरती गई लापरवाही को लेकर बीते कुछ समय से चर्चाओं में रहा है. अब एक ऐसे ही मामले को लेकर यूपी पुलिस सुर्खियां बटोर रहा है. ताजा मामला यूपी पुलिस (UP Police) की ट्रांसफर लिस्ट से जुड़ा है. इस लिस्ट में यूपी पुलिस (UP Police) ने एक ऐसे डिप्टी एसपी का भी तबादला कर दिया है जिनका कुछ समय पहले ही निधन हो चुका है. इस मामले के सामने आने के बाद यूपी पुलिस (UP Police) के डीजीपी ओपी सिंह ने माफी मांगी है और कहा है कि दोषियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

Name of a Deputy SP in UP Police Satya Narayan Singh who had passed away earlier was seen in the latest transfer list issued by Police. UP DGP OP Singh has apologized and assured action against those found guilty for the error. pic.twitter.com/pRyRO1jhgn

— ANI UP (@ANINewsUP) January 12, 2019

गौरतलब है कि यूपी पुलिस (UP Police) बीते कुछ समय से अलग-अलग मामलों को लेकर विवादों में रही है. कुछ महीने पहले ही लखनऊ में उत्तर प्रदेश पुलिस के जवान ने एप्पल के एरिया मैनेजर की गोली मारकर हत्या कर दी थी. विवेक तिवारी की हत्या के मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि यह एनकाउंटर नहीं था. इस घटना की जांच की जाएगी. अगर जरूरत पड़ी तो सीबीआई जांच के आदेश भी दिए जाएंगे.

- Advertisement -

यह भी पढ़ें: बुलंदशहर हिंसा: पुलिस ने एक और आरोपी को दबोचा, अब तक 35 गिरफ्त में

वहीं विवेक तिवारी की पत्नी कल्पना ने सीएम योगी आदित्यनाथ को सीबीआई जांच की मांग के लिए पत्र लिखा था. साथ ही उन्होंने मुआवजे के तौर पर एक करोड़ रुपये और पुलिस विभाग में एक नौकरी की भी मांग की थी. कल्पना का कहना था कि गोली मारकर हत्या करने के बाद लखनऊ पुलिस पति को चरित्रहीन साबित करने में लगी है. कल्पना ने सवाल उठाया था कि गाड़ी न रोकने पर गोली चलाने का अधिकार पुलिस को किसने दिया. उन्होंने योगी सरकार से न्याय की मांग की थी.

यह भी पढ़ें: यूपी पुलिस ने गिरफ्तार किए 4 बदमाश, बरामद किए 1 करोड़ 31 लाख की कीमत के मोबाइल फोन

बताया जा रहा था कि पुलिस ने विवेक को गोली इसलिए मारी क्योंकि चेकिंग के दौरान उसने अपनी SUV कार रोकने से पर इनकार कर दिया था. घटना रात के 1.30 बजे लखनऊ के गोमती नगर एक्सटेंशन इलाके की थी. पुलिस का कहना था कि विवेक तिवारी अपनी एक महिला साथी के साथ एसयूवी कार चला रहा था. गश्त पर मौजूद दो पुलिसकर्मियों ने उसे इशारा कर गाड़ी रोकने को कहा.

यह भी पढ़ें: सरेराह छेड़खानी कर रहा था शख्स, तंग आकर छात्रा ने निकाली चप्पल और कर दी धुलाई

पुलिस का कहना था कि तिवारी ने वहां से कथित तौर पर भागने का प्रयास किया, इसी क्रम में उसने पहले पुलिस की पेट्रोलिंग वाली बाइक में और फिर बाद में दिवार को भी टक्कर मारी. इसके बाद ही पुलिस ने उसपर गोली चलाई थी. पुलिस की गोली लगने के बाद उसे अस्पताल ले जाया गया था, जहां उसकी मौत हो गई थी. मृतक विवेक एप्पल कंपनी का एरिया मैनेजर था. हालांकि, अब आरोपी दोनों पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या मामाला दर्ज किया गया था और उन्हें बर्खास्त कर दिया गया था.

VIDEO: बुलंदशहर हिंसा का मुख्य आरोपी गिरफ्तार.

टिप्पणियांSource Article