मध्य प्रदेशः मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मंत्रियों को बांटे विभाग, जानिए किसको क्या मिला ?

6
- Advertisement -

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ की फाइल फोटो.

नई दिल्ली:

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ (CM Kamal Nath) ने मंत्रिमंडल में शामिल सदस्यों को आखिरकार विभाग बांट दिए. उन्होंने तीन दिन पहले ही अपनी टीम तय बना ली थी, मगर विभागों के बंटवारे पर पशोपेश था. वजह कि कई अहम विभागों को लेकर कई दावेदारों के बीच जोड़तोड़ चल रही थी. मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने पास करीब सात प्रमुख विभाग रखे हैं. इसमें औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन विभाग, जनसम्पर्क, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, विमानन, लोक सेवा प्रबंधन, अप्रवासी भारतीय, तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं रोजगार जैसे विभाग शामिल हैं. बाला बच्चन को गृह जैसा विभाग मिला है. आधिकारिक जानकारी के अनुसार डॉ. विजय लक्ष्मी साधो को संस्कृति, चिकित्सा शिक्षा तथा आयुष विभाग मिला है. सज्जन सिंह वर्मा को लोक निर्माण तथा पर्यावरण विभाग तो हुकुम सिंह कराड़ा जल संसाधन विभाग की जिम्मेदारी संभालेंगे.

यह भी पढ़ें- मध्यप्रदेश: CM कमलनाथ ने किया कैबिनेट विस्तार, 28 मंत्रियों ने ली शपथ, जातिगत और श्रेत्रीय संतुलन का रखा गया ख्याल

- Advertisement -

इसी तरह, डॉ. गोविन्द सिंह को साहकारिता विभाग तथा संसदीय कार्य विभाग की जिम्मेदारी सौंपी गई है, जबकि बाला बच्चन को गृह तथा जेल विभाग सौंपा गया है और वे मुख्यमंत्री से भी संबद्ध रहेंगे. मंत्रिमंडल में आरिफ अकील को भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास विभाग, पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण विभाग, सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्यम विभाग आवंटित किये गये है. बृजेन्द्र सिंह राठौर को वाणिज्य कर विभाग सौंपा गया है. मंत्रिमंडल में शामिल एकमात्र निर्दलीय विधायक प्रदीप जायसवाल को खनिज साधन विभाग आवंटित किया गया है. लाखन सिंह यादव को पशुपालन, मछुआ कल्याण तथा मत्स्य विकास विभाग का दायित्व सम्भालेंगे. तुलसी सिलावट लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री बनाये गये है. गोविन्द सिंह राजपूत राजस्व तथा परिवहन विभाग का दायित्व सम्भालेंगे. इमरती देवी को महिला एवं बाल विकास विभाग आवंटित किया गया है. ओमकार सिंह मरकाम जनजातीय कार्य विभाग, विमुक्त घुमक्कड़ एवं अर्द्धघुमक्कड़ जनजाति कल्याण विभाग मंत्री होंगे. प्रभुराम चौधरी स्कूल शिक्षा मंत्री बनाये गये है।.प्रियव्रत सिंह को ऊर्जा विभाग आवंटित किया गया है. सुखदेव पांसे लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के मंत्री होंगे. उमंग सिंघार वन मंत्री बनाये गये है. हर्ष यादव को कुटीर एवं ग्रामोद्योग विभाग तथा नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा विभाग आवंटित किया गया है.

यह भी पढ़ें- मध्य प्रदेश में 15 साल बाद बना कोई मुस्लिम मंत्री, कमलनाथ कैबिनेट में मिली जगह

दिग्विजय सिंह के बेटे को मिला यह विभाग
वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के पुत्र जयवर्धन सिंह, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री होंगे. जीतू पटवारी को खेल एवं युवा कल्याण तथा उच्च शिक्षा विभाग का दायित्व सौंपा गया है. कमलेश्वर पटेल पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री बनाये गये है तथा लखन घनघोरिया सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण विभाग तथा अनुसूचित जाति कल्याण का दायित्व संभालेंगे. महेन्द्र सिंह सिसोदिया श्रम मंत्री होंगे. पी.सी. शर्मा विधि एवं विधायी कार्य विभाग के मंत्री बनाये गये है वे मुख्यमंत्री से भी संबद्ध रहेंगे. प्रद्यूम्न सिंह तोमर खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के मंत्री होंगे. पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव के छोटे भाई सचिन सुभाष यादव को किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग और उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग का दायित्व सौंपा गया है. सुरेन्द्र सिंह हनी बघेल को नर्मदा घाटी विकास विभाग तथा पर्यटन विभाग आवंटित किये गये है और तरूण भनोट को वित्त विभाग तथा योजना आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग सौंपा गया है.

यह भी पढ़ें- मध्‍यप्रदेश में कर्ज माफी की योजना के दायरे में नहीं आने के कारण किसान ने की आत्महत्या

बता दें कि मुख्यमंत्री कमलनाथ ने 17 दिसंबर को मध्यप्रदेश के 18वें मुख्यमंत्री के तौर पर जम्बूरी मैदान में आयोजित एक भव्य समारोह में शपथ ली थी. प्रदेश में 15 साल के भाजपा शासन के बाद कांग्रेस की सरकार बनी है. इसके बाद मुख्यमंत्री ने 25 दिसंबर को अपने मंत्रिमंडल का गठन करते हुए 28 कैबिनेट मंत्री शामिल किये.सरकार को समर्थन दे रहे बसपा और सपा विधायक मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किये गये हैं. मध्यप्रदेश में नवगठित विधानसभा का पहला सत्र सात जनवरी से शुरु होगा.

टिप्पणियां

वीडियो- एमपी में सीएम के बाद मंत्रियों ने ली शपथ

Source Article