मकर सक्रांति 2019: दिन, शुभ मुहूर्त, त्योहार का महत्व और पकवान, जानिए सबकुछ

0
- Advertisement -

इस साल मकर सक्रांति 15 जनवरी के दिन पूरे देशभर में मनाई जाएगी. आमतौर पर यह त्योहार 14 जनवरी के दिन ही मनाया जाता है लेकिन इस बार यह 15 जनवरी को पड़ रहा है. मकर संक्रांति सूर्य उपासना का विशेष पर्व है. इस दिन से सूर्य उत्तरायण होना शुरू होते हैं और इसके बाद बाद से धरती के उत्तरी गोलार्ध में शीत ऋतु की ठंडक में कमी आनी शुरू होती है. मान्यता है कि मकर संक्रांति के दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करता है. इसी वजह से इस संक्रांति को मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है. मकर संक्रांति पर सूर्य आराधना के साथ अपने इष्ट देव की आराधना भी शुभ माना जाती है. मकर सक्रांति के दिन किस समय पुण्यकाल मुहूर्त और महापुण्यकाल मुहूर्त है और इसके साथ ही और इस त्योहार में किस राज्य में क्या पकवान बनाए जाते हैं आज हम आपको इसके बारे में बताएंगे.

14 जनवरी नहीं, साल 2019 में 15 जनवरी को होगी मकर संक्रांति, जानिए वजह

मकर सक्रांति का समय

पुण्यकाल मुहूर्त = सुबह 07 बजकर 20 मिनट से दोपहर 12 बजकर 40 मिनट तक. ( 15 जनवरी)

- Advertisement -

अवधि= 5 घंटे 19 मिनट.

सक्रांति= 14 जनवरी के दिन रात 8 बजकर 5 मिनट पर.

महापुण्यकाल मुहूर्त= सुबह 7 बजकर 20 मिनट से रात 9 बजकर 7 मिनट तक. ( 15 जनवरी)

अवधि= 1 घंटा 46 मिनट. (स्रोत: Drikpanchang.com)

मकर संक्रांति पर क्यों है तिल का इतना महत्व, पढ़िए पूरी कहानी

मकर सक्रांति को ज्यादात्तर हिंदू बहुल इलाकों में मनाया जाता है. आस्था की भूमि प्रयाग में लगने वाले माघ मेले में मकर सक्रांति के स्नान के साथ माघ मास प्रारंभ होता है. मकर संक्रांति पर संगम नगरी में लाखों श्रद्दालुओं गंगा में डुबकी लगाते हैं. इसके साथ ही श्रद्दालु सूर्य भगवान और सूर्य की पूजा-अर्चना करते हैं. सूर्य के मकर राशि में आने के बाद से रबी की फसलों की कटाई का समय शुरू हो जाता है. वहीं इस दिन लोग सुबह जल्दी उठकर स्नान करने के बाद पतंगबाजी भी करते हैं. बता दें कि मकर संक्राति के साथ लोहड़ी, पोंगल भी मनाए जाते हैं. यह कड़ाके की ठंड के बाद मनाए जाने वाले पर्व हैं.

View this post on Instagram

A post shared by Desperately Vegan (@desperately_vegan) on

टिप्पणियां

मकर सक्रांति के मौकै पर तिल और गुड़ के लड्डू खाए जाते हैं. ये ना सिर्फ खाने में स्वादिष्ट होते हैं बल्कि यह कई गुणों से भी भरपूर होते हैं. तिल में भरपूर मात्रा में कैल्शियम, आयरन, ऑक्जेलिक एसिड, अमीनो एसिड, प्रोटीन, विटामिन बी, सी और ई होता है. वहीं महाराष्ट्र में मकर सक्रांति के मौके पर महाराष्ट्र में पूरन पोली बनाई जाती है. वहीं दिल्ली हरियाणा और पंजाब में लोग मकर सक्रांति के दिन गज़क, रेवड़ी, मूंगफली और पॉपकॉर्न के साथ मनाते हैं. वहीं उत्तराखंड के लोग इस दिन आटे और गुड़ के घोल का पकवान बनाते हैं.

कुंभ 2019: जानिए मकर संक्रांति से महा शिवरात्रि तक, कुंभ मेले की सभी प्रमुख स्नान तिथियां

Source Article