भारी बारिश के बाद असम में बाढ़ का कहर, 15 लाख लोग प्रभावित, कम से कम 7 लोगों की मौत 

0
- Advertisement -

असम में बाढ़ की वजह से कम से कम 15 लाख लोग प्रभावित हैं.

नई दिल्ली :

भारी बारिश के बाद अब असम में बाढ़ ने कहर बरपाया है. राज्य के 33 में से 25 जिलों में बाढ़ की वजह से करीब 15 लाख लोग प्रभावित हैं. अगले कुछ दिनों में और बारिश की आशंका है, ऐसे में स्थिति और बिगड़ सकती है. असम में बाढ़ की चपेट में आकर मरने वालों की संख्या 7 हो गई है. वहीं, अरुणाचल प्रदेश और मिजोरम में बारिश से संबंधित घटनाओं में दो-दो लोगों ने अपनी जान गंवाई. ब्रह्मपुत्र और उसकी सहायक नदियों के पानी से जूझ रहे असम राज्य के 33 जिलों में बाढ़ की स्थिति गंभीर बनी हुई है. दूसरी तरफ, पश्चिम बंगाल में सेतीझोरा और कालीझोरा के बीच लगभग पांच स्थानों पर पहाड़ियों का एक बड़ा हिस्सा ढह गया है और राजमार्ग अवरुद्ध हो गया है.

असम: 8 लाख से ज्यादा लोग बाढ़ से प्रभावित, खतरे के निशान से ऊपर बह रही नदियां, 6 लोगों की मौत

- Advertisement -

सिक्किम में रांगपो और 32 नम्बर राजमार्ग पर भी भूस्खलन हुआ है और वहां युद्धस्तर पर मरम्मत और जीर्णोद्धार का काम चल रहा है, लेकिन भारी और लगातार बारिश से बाधा उत्पन्न हो रही है. पिछले तीन दिनों से लगातार हो रही बारिश ने उत्तर बंगाल में सामान्य जीवन को खतरे में डाल दिया है, जिससे निचले इलाकों में बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो रही है और पहाड़ी इलाकों में भूस्खलन हो रहा है. न्यूजलपाईगुड़ी और अलीपुरद्वार में पैसेंजर ट्रेन सेवा रोक दी गई है. नार्थ फ्रंटियर रेलवे अधिकारी ने यह जानकारी दी. दूसरी तरफ, बारिश ने पंजाब और हरियाणा के बड़े हिस्सों को भी प्रभावित किया, जिससे अधिकांश जगहों पर अधिकतम तापमान सामान्य से नीचे आ गया.

देश के कई हिस्सों में भारी बारिश से भीषण बाढ़, असम में 4 लाख लोग प्रभावित

टिप्पणियां

उत्तर प्रदेश में 14 लोगों की मौत
बीते नौ दिनों में उत्तर प्रदेश में बारिश से जुड़ी घटनाओं में 14 लोगों की मौत हो चुकी है. हालांकि राजधानी दिल्ली को अभी बारिश का इंतजार है. शुक्रवार को गर्मी और उमस के बीच अधिकतम तापमान 38.3 डिग्री सेल्सियस रहा जो सामान्य से तीन डिग्री ऊपर है. राजधानी में 15-16 जुलाई को बारिश की उम्मीद है. उत्तर प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में पिछले कई दिनों से रुक-रुककर हो रही बारिश का सिलसिला जल्द ही थम सकता है. दक्षिण-पश्चिमी मानसून प्रदेश के पूर्वी भागों में सक्रिय जबकि पश्चिमी हिस्सों में सामान्य है. पूर्वानुमान के मुताबिक पिछले करीब एक सप्ताह से प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर रुक-रुक कर हो रही बारिश में अब कमी आने की सम्भावना है. इससे उमस बढ़ने के प्रबल आसार हैं.

असम में बाढ़ का कहर, पानी में डूबे 145 गांव​

Source Article