भारत में आतंकी संगठन ISIS का सेटअप जमाने के लिए तमिलनाडु के 14 लोगों ने की फंडिंग: NIA सूत्र

1
- Advertisement -

तमिलनाडु के 14 लोगों को एनआईए ने गिरफ्तार किया है

नई दिल्ली:

तमिलनाडु के 14 लोगों को एनआईए (NIA) ने गिरफ्तार किया है. जांच एजेंसी के सूत्रों ने बताया कि इन लोगों ने भारत में आतंकी संगठन आईएसआईएस (ISIS) का सेटअप जमाने के लिए दुबई में फंड जमा किया. एनआईए के सूत्रों ने बताया, 'कथित तौर पर ये लोग आतंकी संगठन अलकायदा (Al Qaeda) का समर्थन करते हैं और इनके अनसराउल्लाह के साथ लिंक हैं जोकि यमन का आतंकी संगठन है.' वे कई नामों से आतंकी संगठनों को ऑपरेट करते हैं. इनका नाम वहादत ए इस्लाम, जमाथ वहादत ए इस्लाम अल जिहादिया और जिहादिस्ट इस्लामिक यूनिट है.

कर्नाटक संकट: स्पीकर के पक्ष में SC के फैसले से कुमारस्वामी सरकार गिरेगी या बेचगी? जानें- 5 प्वाइंट्स में

बीते हफ्ते भारत भेजने से पहले यूएई ने इन्हें 6 महीने तक जेल में रखा था. सोमवार को जांच एजेंसी इन्हें चेन्नई लाई जहां से कोर्ट ने इन्हें 25 जुलाई तक के लिए कस्टडी में भेज दिया. जांचकर्ताओं का कहना है कि पकड़े गए लोगों में से ज्यादातर मैनेजमैंट प्रोफेशनल्स हैं और इनके घर यूएई में हैं. इनमें से एक शख्स 32 सालों से दुबई में है.एनआई के पब्लिक प्रॉसीक्यूटर सीएस पिल्लई ने कहा, 'आतंकी हमलों के लिए प्रयोग किए जाने वाले फंड की इन्होंने व्यवस्था की. भारत में आईएसआईएस (ISIS) को स्थापित किए जाने का विचार यह है कि वह भारत सरकार के साथ युद्ध करना चाहते हैं.'

- Advertisement -

पूछताछ के दौरान एनआईए ने नागापट्टिनम से 2 लोगों को गिरफ्तार किया है. इनका नाम हारिश मोहम्मद और हसन अली है. सूत्रों का कहना है कि हसन अली कथित तौर पर आईएसआईएस ऑपरेटिव है जो भारत पर हमला करने के लिए लोगों की नियुक्ति कर रहा था. सूत्रों के मुताबिक हसन अली ने अपने समर्थकों के लिए वीडियो भी पोस्ट किए, जिसमें वाहनों और हथियारों के जरिए धमाका करने की बात कही गई थी. NIA पिछले कुछ महीनों से कथित ISIS समूहों पर शिकंजा कस रहा है.

टिप्पणियां

स्कूल में अंडा परोसने पर मचा बवाल तो शिक्षा विभाग बोला- मांसाहारी बच्चों के घर पहुंचाए जाएं अंडे

हालही में कोयम्बटूर में पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया था. उन पर कथित तौर पर उन सुसाइड बॉम्बर्स के साथ लिंक का आरोप था जो श्रीलंका बम धमाकों में शामिल थे. हालांकि उनके परिजनों का कहना था कि यह मुस्लिम संगठनों पर टॉरगेटेड एक्शन था.

Source Article