पुणे पुलिस ने फरीदाबाद से वामपंथी विचारक सुधा भारद्वाज को किया गिरफ्तार, माओवादियों से संबंध का आरोप

3
- Advertisement -

पुणे पुलिस ने सुधा भारद्वाज को फरीदाबाद से गिरफ्तार किया है. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली : पुणे पुलिस ने एक्टिविस्ट सुधा भारद्वाज को फरीदाबाद से गिरफ्तार कर लिया है. खबर है कि अभी उनका मेडिकल कराया जा रहा है. पुणे की एक अदालत ने शुक्रवार को सुधा भारद्वाज, वर्नोन गोंसाल्विस और अरुण फेरेरा की जमानत याचिका खारिज कर दी थी. कथित माओवादियों से संबधों की वजह से इन्हें गिरफ्तार किया गया था. पुणे पुलिस ने इन तीनों को कवि पी वरवरा राव और गौतम नवलाखा के साथ 31 दिसंबर को हुए एल्गार परिषद सम्मेलन से कथित संबंध के मामले में 28 अगस्त को गिरफ्तार किया था. इस सम्मेलन के बाद ही कथित तौर पर भीमा-कोरेगांव हिंसा भड़की थी। पुलिस ने आरोप लगाया है कि इस सम्मेलन के कुछ समर्थकों के मओवादी से संबंध हैं.
यह भी पढ़ें : भीमा कोरेगांव हिंसा मामला : सीएम देवेंद्र फड़नवीस ने कहा- पुलिस ने देश के खिलाफ षड़यंत्र का पर्दाफाश कर दिया
जिला और सत्र न्यायाधीश (विशेष न्यायाधीश) के डी वडाणे ने भारद्वाज, गोंसाल्विस और फेरेरा की जमानत याचिका खारिज कर दी। अभियोजन पक्ष ने जमानत याचिका का विरोध करते हुए कहा कि आरोपियों के खिलाफ ‘‘प्रमाणित करने वाल साक्ष्य'' उनकी माओवादी गतिविधियों में संलिप्तता की पुष्टि करते हैं, जैसे कि काडर को संगठित करना, प्रतिष्ठित संस्थानों से छात्रों की भर्ती करना और उन्हें "पेशेवर क्रांतिकारी" बनने, धन जुटाने और हथियार खरीदने के लिए सुदूर इलाकों में भेजना. (इनपुट-भाषा से भी)
टिप्पणियांयह भी पढ़ें : प्रो. सुधा भारद्वाज का पलटवार, कहा- पुणे पुलिस का दावा मनगढ़ंत, चिट्ठी फर्जी है
VIDEO : भीमा कोरेगांव मामले में कई जगह छापे

Source Article

- Advertisement -