पाक पीएम इमरान खान की सफाई: ‘छोटे लोग, बड़े दफ्तर’ वाला ट्वीट पीएम नरेंद्र मोदी के लिए नहीं था

1
- Advertisement -

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान. (फाइल तस्वीर)

इस्लामाबाद: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने गुरुवार को सफाई दी कि 'छोटे लोग, बड़े दफ्तर' वाला विवादित ट्वीट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए नहीं था. हालांकि, उन्होंने यह भी नहीं बताया कि उनका यह ट्वीट किसके लिए था. इसके साथ ही इमरान ने बार-बार कहा कि हमें पुरानी बातों को भुलाकर आगे बढ़ना चाहिए. आतंकवाद के सवाल पर उन्होंने कहा कि पाकिस्तान से आतंकवाद भारत के ही नहीं किसी और देश के खिलाफ होना भी ठीक नहीं है.
सितंबर महीने में यूएन की जनरल एसेंबली के इतर होने वाली भारत-पाक के विदेश मंत्रियों की बैठक को एक आतंकी हमले के बाद भारत ने रद्द कर दिया था. इसके बाद इमरान खान ने भारत पर भड़कते हुए ट्वीट किया था, ' 'शांति वार्ता के लिए मेरी पेशकश पर भारत की नकारात्मक प्रतिक्रिया से निराश हूं. हालांकि, मैंने अपनी पूरी जिंदगी बड़े दफ्तर में विराजमान ऐसे छोटे लोगों को देखता आया हूं जिनके पास दूरदर्शिता नहीं है और बड़ी तस्वीर देखने की काबिलियत नहीं है.' इस पर यह कयास लगाए गए थे कि उन्होंने यह ट्वीट नरेंद्र मोदी को लेकर किया था. हालांकि, भारत ने उनके ट्वीट पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी थी.
हाफिज सईद और दाऊद इब्राहिम को लेकर पूछे गए सवाल पर पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने कही यह बात
गुरुवार को इमरान खान ने साथ ही कहा कि वह भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ बातचीत करने के लिए तैयार हैं. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की जमीन का देश के बाहर आतंकवाद फैलाने के लिए इस्तेमाल होने की इजाजत देना हमारे हित में नहीं है. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने स्पष्ट तौर पर कहा था कि जब तक सीमा पार से आतंकवादी गतिविधियां नहीं बंद होती है तब तक पाकिस्तान के साथ वार्ता की संभावना नहीं है.
पाकिस्तान की जेल में बंद है भारतीय इंजीनियर, बीजेपी नेता ने सिद्धू से लगाई रिहा कराने की गुहार
इमरान खान गुरुवार को अपनी सरकार के 100 दिन पूरे होने का जश्न मना रहे थे. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के लोग भारत के साथ अमन चाहते हैं तथा उन्हें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात और बात करने में खुशी होगी. खान ने कहा, ‘यहां के लोगों की मानसिकता बदल चुकी है.' जब उनसे पूछा गया कि क्या कश्मीर मुद्दे का समाधान संभव है तो पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कहा, ‘कुछ भी असंभव नहीं है. मैं किसी भी मुद्दे पर बातचीत के लिए तैयार हूं. कश्मीर का हल एक सैन्य समाधान नहीं हो सकता. बता दें, इमरान खान ने बुधवार को पाकिस्तान के करतारपुर में करतारपुर गलियारे की आधारशिला रखी थी. पाकिस्तान इस गलियारे को सद्भावना प्रयास के रूप में पेश कर रहा है.
8 Points में समझिए गुरुद्वारा दरबार साहिब क्यों है भारतीय सिखों के लिए इतना खास
गलियारे के शिलान्यास समारोह को कवर करने पाकिस्तान आये भारतीय पत्रकारों से खान ने कहा, ‘भारत में, मुझे पता है कि अधिकतर लोग इसकी सराहना कर रहे होंगे.'हालांकि उन्होंने कहा कि शांति के प्रयास एकतरफा नहीं हो सकते है. खान ने कहा, ‘हम नई दिल्ली के संकेत के लिए भारत में होने वाले चुनावों (आम चुनावों) की प्रतीक्षा करने के लिए तैयार हैं.'
टिप्पणियांपाक सरकार और सेना दोनों भारत के साथ सभ्य रिश्ते चाहते हैं, इरादे बड़े हों तो सभी मसले हल हो सकते हैं: इमरान खान
सिंपल समाचारः दाऊद और हाफिज सईद पर पूछे सवाल पर क्या बोले इमरान खान
Source Article

- Advertisement -