निर्भया केस: फैसला लिखवाने से पहले जस्टिस भानुमति हुईं बेहोश, सुनवाई बीच में ही छोड़कर उठी बेंच

0

निर्भया केस: फैसला लिखवाने से पहले जस्टिस भानुमति हुईं बेहोश

नई दिल्ली:

निर्भया मामले में दोषियों को अलग-अलग फांसी पर चढ़ाए जाने की मांग करने वाली केंद्र की याचिका पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट की जस्टिस भानुमति को बेहोश हो गईं. बेंच सुनवाई को बीच में छोड़कर ही चली गई. फैसला लिखवाने से पहले जस्टिस भानुमति को चक्कर आए. पहले मुंह खोलकर बेचैनी भरी गहरी गहरी सांसें लीं, फिर कुर्सी पर ही गर्दन लुढ़क गई. जब तक लोग समझते और महिला स्टाफ संभालते तब तक वो होश में आ गईं. लगभग 20-30 सेकेंड बाद जस्टिस भानुमति होश में आ गईं. तीनों जज चेंबर में गए. सूत्रों के मुताबिक जस्टिस भानुमति चेंबर में भी कुछ सेकेंड के लिए बेहोश हुई. कहा जा रहा है कि उनको बुखार भी है और उनका रक्तचाप भी बढ़ा हुआ था. अब मामले की अगली सुनवाई 20 फरवरी को होगी.

#UPDATE Justice R Banumathi was taken into the chamber immediately after she fainted during the hearing in 2012 Delhi gang-rape case in Supreme Court today. The bench has adjourned the case and says the order will be released later. https://t.co/0xLTTg47yG

— ANI (@ANI) February 14, 2020

गौरतलब है कि इससे पहले निर्भया गैंगरेप-हत्या मामले के दोषी विनय कुमार शर्मा (Vinay Kumar Sharma) को सुप्रीम कोर्ट से झटका लगा था. शीर्ष अदालत ने राष्ट्रपति द्वारा दया याचिका खारिज करने के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका को खारिज कर दिया था. जस्टिस आर बानुमति, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस ए एस बोपन्ना की बेंच ने यह फैसला सुनाया था. पीठ ने कहा था कि हमने सारी फाइलें देखकर ही विचार किया है. यह दलीलें खारिज की जाती हैं कि राष्ट्रपति ने सारे दस्तावेज नहीं देखे. यह भी खारिज किया जाता है कि उप-राज्यपाल ने फाइल पर साइन नहीं किए थे.

टिप्पणियां

Nirbhaya Case: सुनवाई के दौरान रो पड़ीं निर्भया की मां, जज से बोलीं- हमेशा दोषियों को सुना जाता है हमें नहींे

VIDEO: रवीश कुमार का प्राइम टाइम: दीवार के पीछे झुग्गी और जेल में सत्याग्रही

Source Article