दिल्ली हिंसा पर एक्शन में NSA अजित डोभाल: पहले दिल्ली पुलिस अधिकारियों के साथ की बैठक, फिर देर रात उत्तर पूर्वी दिल्ली पहुंचे जायजा लेने

0

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल.

नई दिल्ली:

दिल्ली में तनावपूर्ण हालातों के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली के डीसीपी दफ़्तर जाकर हिंसा के मौजूदा हालात के बारे में अधिकारियों से जानकारी ली. साथ ही उन्होंने हिंसा ग्रस्त इलाकों का दौरा भी किया. इलाके के दौरे से पहले अजित डोभाल ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के साथ देर शाम बैठक भी की थी. इस बैठक में दिल्ली के नव नियुक्त स्पेशल कमिश्नर एस एन श्रीवास्तव भी मौजूद थे. दिल्ली को लेकर 24 घंटे में अमित शाह की यह तीसरी बैठक थी. जानकारी के मुताबिक इस बैठक में राजधानी के हालातों को सामान्य करने की दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाने पर चर्चा की गई.

पिछले दो दिन में उत्तर-पूर्वी दिल्ली के कुछ हिस्सों में पत्थरबाज़ी, आगज़नी और जान-माल का नुकसान हुआ है. पुलिस ने हालात सामान्य बनाने के लिए तमाम एहतियाती उपायों के साथ भारी संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात किया, साथ ही स्थानीय नागरिकों से संवाद स्थापित किया. दिल्ली पुलिस ने प्रभावित इलाक़ों के लोगों से शांति और सौहार्द बनाए रखने की अपील की है. साथ ही अफ़वाहों पर ध्यान नहीं देने को भी कहा है.

भीम आर्मी ने कपिल मिश्रा पर लगाया हिंसा का आरोप, कहा- हमें रोक कर दीं गालियां और मारपीट की

बता दें, उत्तरपूर्वी दिल्ली में मंगलवार को नए सिरे से हिंसा भड़क गई जिसमें मृतक संख्या बढ़कर 13 हो गई है. पुलिस भीड़ पर काबू पाने की जद्दोजेहद में लगी रही जो गलियों में घूम रही थी. भीड़ में शामिल लोग दुकानों को आग लगा रहे थे, पथराव कर रहे थे और वे स्थानीय लोगों के साथ मारपीट कर रहे थे. राष्ट्रीय राजधानी के उत्तरपूर्वी इलाके में तनाव के दूसरे दिन हिंसा चांदबाग और भजनपुरा सहित कई क्षेत्रों में फैल गई. इस दौरान पथराव किया गया, दुकानों को आग लगायी गयी. दंगाइयों ने गोकलपुरी में दो दमकल वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया. भीड़ भड़काऊ नारे लगा रही थी और मौजपुर और अन्य स्थानों पर अपने रास्ते में आने वाले फल की गाड़ियों, रिक्शा और अन्य चीजों को आग लगा दी.

दिल्ली के तनावपूर्ण हालात पर मनोज तिवारी ने BJP कार्यकर्ताओं से की अपील, कहा- ऐसा कुछ न करें…

ऐसे में जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी शहर में हैं, दिल्ली पुलिस ने सुरक्षा बढ़ाई हुई है. पुलिस ने दंगाइयों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े. इन दंगाइयों ने अपने हाथों में हथियार, पत्थर, रॉड और तलवारें भी ली हुई थीं. कई ने हेलमेट पहन रखे थे. पुलिस को अर्धसैनिक कर्मी सहयोग कर रहे थे. सड़कों पर क्षतिग्रस्त वाहन, ईंट और जले हुए टायर पड़े थे जो सोमवार को हुई हिंसा की गवाही दे रहे थे जिसमें 48 पुलिसकर्मियों सहित लगभग 200 लोग घायल हो गए थे.जीटीबी अस्पताल के अनुसार मंगलवार को मृतक संख्या 13 हो गई. हिंसा जारी रहने के बीच पुलिस अधिकारियों ने कहा कि स्थिति नियंत्रण में है और भजनपुरा, खजूरी खास और अन्य स्थानों पर फ्लैग मार्च किए गए.

CAA हिंसा में अपनी जान गंवाने वाले दिल्ली पुलिस के हेड कॉन्स्टेबल की पत्नी को गृहमंत्री शाह ने लिखा पत्र, रतनलाल को बताया "सच्चा सिपाही"

टिप्पणियां

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने स्थिति को लेकर दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, दिल्ली पुलिस प्रमुख अमूल्य पटनायक और अन्य के साथ बैठक की. बैठक में यह तय हुआ कि राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं को शांति बहाली के लिए हाथ मिलाना चाहिए और सभी क्षेत्रों में शांति कमेटियों को फिर से सक्रिय किया जाना चाहिए.

वीडियो: दिल्ली हिंसा में 13 लोगों की मौत, 150 से अधिक लोग जख्मी

Source Article