दिल्ली के गुड़िया गैंगरेप केस में आज आ सकता है फैसला, 7 साल पहले हुई थी घटना

1

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:

दिल्ली के गुड़िया गैंगरेप केस में कड़कड़डूमा कोर्ट आज फ़ैसला सुना सकती है. वारदात के वक़्त गुड़िया सिर्फ़ 5 साल की थी. गैंगरेप के बाद 2 आरोपियों ने उसे जान से मारने की भी कोशिश की थी. इस मामले में पुलिस ने आरोपियों के ख़िलाफ़ जान से मारने की कोशिश, गैंगरेप, किडनेपिंग, सबूत मिटाने और पोक्सो के तहत केस दर्ज किया था. बता दें कि निर्भया केस के तुरंत बाद दिल्ली के दूसरे चर्चित गुड़िया केस में दिल्ली का कड़कड़डूमा कोर्ट में फैसला सुना सकती है.

Kathua Rape Case: कहीं 'कोटखाई की गुड़िया' की तरह न दब जाए मामला

इस केस में कुल 59 गवाहियां हुई है. मामले में दो आरोपी प्रदीप और मनोज हैं. दोनों के खिलाफ पुलिस ने जान से मारने की कोशिश, गैंगरेप, किडनैपिंग, सबूत मिटाने और पोक्सो के तहत मुकदमा दर्ज किया था. गुड़िया के साथ जिस समय दुष्कर्म हुआ था वो 5 साल की मासूम थी. रेप के बाद दोनों आरोपियों ने गुड़िया को जान से मारने की कोशिश की थी.

गुड्डे गुड़िया का खेल बताकर मौसा ने की 12 साल की बच्ची से शादी, महीनों तक कमरे में रखा बंद

क्या था पूरा मामला-
15 अप्रैल 2013 की शाम गुड़िया अपने गांधी नगर के लापता हुई और 17 अप्रैल की सुबह घर के पास ही मिली थी. जिसके बाद उसको इलाज के लिए एम्स अस्पताल ले जाया गया था. जहां डॉक्टरों ने उसके शरीर के अंदर से तेल की शीशी और मोमबत्ती निकाली थी. कई दिनों तक गुड़िया की हालत अस्पताल में नाजुक बनी हुई थी.

टिप्पणियां

Video: दिल्ली में 4 साल की बच्ची के साथ रेप का आरोपी हो सकता है बरी

Source Article