दार्जीलिंग की रहने वाली महिला और उसके दोस्तों के साथ मारपीट, दो गिरफ्तार 

2
- Advertisement -

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली:

दार्जीलिंग की एक महिला के साथ दक्षिणी दिल्ली में मंगलवार को तड़के तीन लोगों द्वारा छेड़छाड़ करने और उसका विरोध करने पर महिला के दोस्तों के साथ मार-पीट का मामला सामना आया है. पुलिस ने यह जानकारी दी. एक निजी कंपनी में काम करने वाली महिला अपने पति और तीन दोस्तों के साथ एक पार्टी में शामिल होकर कोटला मुबारकपुर स्थित अपने घर लौट रही थी. देर रात करीब दो बजकर 15 मिनट पर जब वह लोग सुभाष गली क्रॉसिंग पहुंचे तो सड़क के किनारे शराब पी रहे तीन लोगों ने उनके साथ गाली-गलौच की जिसके बाद झगड़ा शुरू हो गया.

महिला पत्रकार के साथ छेड़छाड़ के मामले में एफआईआर दर्ज, एसएचओ लाइन हाजिर

घायलों में से एक ने यह जानकारी दी. उसने बताया कि इसके ठीक बाद शराब पिए व्यक्ति ने महिला को धक्का दे दिया और उसके दोस्त को मारा-पीटा. इसके अलावा महिला के पति और एक अन्य महिला की भी पिटाई की. पुलिस ने बताया कि दो आरोपियों 19 वर्षीय योगेश और 23 वर्षीय सौरभ को गिरफ्तार कर लिया गया है और तीसरे की तलाश जारी है. इन पर हत्या के प्रयास का मामला दर्ज हुआ है. लक्ष्मी नेपाल की रहने वाली है और बाकी अन्य दार्जीलिंग के रहने वाले हैं. गौरतलब है कि राजधानी दिल्ली में महिलाओं से छेड़छाड़ का यह कोई पहला मामला नहीं है.

- Advertisement -

दिल्ली के कनॉट प्लेस में दिनदहाड़े महिला से छेड़छाड़, शख्स ने की 'गंदी हरकत'

इससे पहले महिला पत्रकार के साथ हुई छेड़छाड़ के मामले में दिल्ली पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर लिया था. इस मामले में दिल्ली कैंट थाने के एसएचओ को भी लाइन हाजिर किया गया था. गौरतलब है कि आईएनए में हुई जेएनयू के छात्रों को रोकने के लिए पुलिस ने बल का प्रयोग किया था. इसी दौरान महिला पत्रकार के साथ छेड़छाड़ हुई थी. जेएनयू के छात्र केंद्र सरकार के उस फैसले के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे जिसमें सरकार ने 60 शिक्षण संस्थानों को स्वायत्ता देने की बात की घोषणा की थी.

टिप्पणियां

यह भी पढ़ें: मीडिया कर्मियों से मारपीट को लेकर दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर पत्रकारों का हल्ला बोल

प्रदर्शनकारियों को रोकने के दौरान ही पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने फोटो पत्रकार के साथ बदसलूकी की और उसका कैमरा भी छीन लिया था. वहीं एक अखबार की महिला पत्रकार के साथ भी छेड़छाड़ की गई थी. पुलिस के इस रवैये के खिलाफ शनिवार और सोमवार को पत्रकारों ने पुलिस मुख्यालय और संसद के बाहर प्रदर्शन भी किया था. इस मामले में पत्रकारों का एक दल गृह मंत्री राजनाथ सिंह से भी मिला था. इस दौरान उन्होंने आरोपी पुलसि अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग भी की थी. (इनपुट भाषा से)

Source Article