तेल के दामों में लगातार नौवें दिन कटौती, क्या उपभोक्ताओं को आगे भी मिलेगी राहत, 10 बड़ी बातें

6
- Advertisement -

तेल के दामों में आज लगातार नौवें दिन कटौती हुई है.

नई दिल्ली : अंतर्राष्ट्रीय बाजार में विगत दिनों कच्चे तेल के दाम में आई नरमी से त्योहारी सीजन में भारतीय उपभोक्ताओं को बड़ी राहत मिली है. पेट्रोल और डीजल के दाम में रोज कमी हो रही है. आज लगातार नौवें दिन पेट्रोल और डीजल के दाम घटे हैं. आज दिल्ली में पेट्रोल 40 पैसे और डीजल 35 पैसे सस्ता हुआ है. विशेषज्ञों के मुताबिक वाहन ईंधन सस्ता होने से आगे माल-भाड़ा में कमी आएगी, जिसके फलस्वरूप जरूरियात की वस्तुएं सस्ती होंगी. हालांकि जानकार बताते हैं कि अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य फिलहाल कच्चे तेल में नरमी का संकेत देता है, लेकिन यह नरमी अल्पावधि के लिए ही होगी. 10 खास बातें

  1. पेट्रोल-डीजल के दाम में आज लगातार नौवें दिन कटौती हुई. दिल्ली में पेट्रोल – 80.45 रुपये प्रति लीटर (40 पैसे की कमी और डीजल- 74.68 रुपये प्रति लीटर (35 पैसे की कमी) है. तो वहीं मुंबई में पेट्रोल- 85.93 रुपये प्रति लीटर (40 पैसे की कमी) और डीजल – 77.96 रुपये प्रति लीटर (37 पैसे की कमी) बिक रहा है.
  2. पेट्रोल और डीजल के दाम में कमी की वजह से वाहन ईंधन सस्ता होगा. इससे आगे माल-भाड़ा में कमी आएगी, जिसके फलस्वरूप त्योहारी सीजन में जरूरत की वस्तुएं सस्ती होंगी. हालांकि जानकार बताते हैं कि अंतर्राष्ट्रीय परिदृश्य फिलहाल कच्चे तेल में नरमी का संकेत देता है, लेकिन यह नरमी अल्पावधि के लिए होगी.
  3. जानकारों के मुताबिक ईरान पर चार अक्टूबर से अमेरिकी प्रतिबंध लगने के बाद परिदृश्य में बदलाव आने की संभावना है. इसके अलावा, सर्दियों में अमेरिका में कच्चे तेल की खपत मांग बढ़ने और गिरावट पर चीन की खरीदारी बढ़ने की सूरत में दोबारा तेजी का रुख बन सकता है.
  4. पिछले 21 दिनों में अंतर्राष्ट्रीय बाजार में तेल का भाव करीब 11 डॉलर प्रति बैरल टूट चुका है और तेल बाजार विश्लेषक फिलहाल नरमी रहने की उम्मीद कर रहे हैं। ऐसे में पेट्रोल और डीजल के भाव में और कमी आ सकती है.
  5. एंजेल ब्रोकिंग के ऊर्जा विशेषज्ञ अनुज गुप्ता ने बताया कि कच्चे तेल के दाम में जो पिछले कुछ दिनों से गिरावट आई है वह मुख्य रूप से अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) द्वारा वैश्विक अर्थव्यवस्था की विकास दर सुस्त रहने के अनुमान के बाद तेल की खपत में कमी आने के अंदेशे से प्रेरित है.
  6. उनका कहना है कि "अमेरिका में तेल भंडार में इजाफा होने से भी कीमतों में सुस्ती आई है. उधर, सऊदी अरब ने भी तेल का उत्पादन बढ़ाने की बात कही है". अमेरिकी एजेंसी एनर्जी इन्फोरमेशन एडमिनिस्ट्रेशन की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका में कच्चे तेल का भंडार 63 लाख बैरल की बढ़त के साथ 42.27 करोड़ बैरल हो गया.
  7. ऊर्जा विशेषज्ञ अनुज गुप्ता ने कहा कि निकट भविष्य में तेल के दाम में नरमी बनी रह सकती है. उन्होंने कहा कि ब्रेंट क्रूड में निकट भविष्य में 72-74 डॉलर प्रति बैरल के बीच कारोबार देखने को मिल सकता है. वहीं, डब्ल्यूटीआई में 62-63 डॉलर तक लुढ़क सकता है.
  8. मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) पर गुरुवार को अपराह्न् 15.41 बजे नवंबर डिलीवरी कच्चा तेल सौदा 35 रुपये यानी 0.71 फीसदी की कमजोरी के साथ 4,903 रुपये प्रति बैरल पर बना हुआ था, जबकि इससे पहले सत्र के दौरान भाव 4,853 रुपये प्रति बैरल तक लुढ़का.
  9. बीते बीस दिन में एमसीएक्स पर कच्चे तेल के भाव में करीब 700 रुपये प्रति बैरल की कमी आई है. अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार इंटरकांटिनेंटल एक्सचेंज (आईसीई) पर ब्रेंट क्रूड का दिसंबर अनुबंध पिछले सत्र के मुकाबले गुरुवार को तकरीबन सपाट 76.22 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार कर रहा था.
  10. पेट्रोल और डीजल की महंगाई से लोगों को राहत दिलाने के लिए चार अक्टूबर को केंद्र सरकार ने तेल के दाम में 2.50 रुपये प्रति लीटर की कटौती की घोषणा की थी जिसके बाद दिल्ली में पांच अक्टूबर को पेट्रोल का दाम घटकर 81.50 रुपये प्रति लीटर और डीजल 72.95 रुपये प्रति लीटर हो गया था. (इनपुट- IANS से भी)

टिप्पणियांSource Article

- Advertisement -