झारखंड: CAA समर्थकों पर पथराव के बाद हिंसा मामले में 16 गिरफ्तार, एक की मौत

2

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली:

झारखंड के लोहरदगा में गुरुवार को संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) समर्थकों के जुलूस पर असामाजिक तत्वों द्वारा पथराव और उसके बाद हुई हिंसा में घायल दर्जनों लोगों में से एक युवक की सोमवार को रांची के एक अस्पताल में मौत हो गई.इस बीच, प्रशासन ने हिंसा के आरोप में 16 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. पूरे जिले में कर्फ्यू सोमवार को भी जारी रहा. पुलिस महानिरीक्षक (अभियान) एवं राज्य पुलिस के प्रवक्ता साकेत कुमार सिंह ने बताया कि लोहरदगा में स्थिति तेजी से शांति की ओर लौट रही है लेकिन अब भी तनाव बना हुआ है. इस घटना में घायल हुए दर्जनों लोगों में से एक युवक नीरजराम प्रजापति की सोमवार को रांची के आर्किड अस्पताल में मौत हो गई.

भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद ने NDTV से कहा, मुझे प्रदर्शनों से रोका जा रहा है

अस्पताल ने विज्ञप्ति जारी कर युवक की मौत की पुष्टि की है. प्रजापति की मौत पर पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता रघुवर दास ने गहरा दुख व्यक्त किया है, वहीं पुलिस प्रशासन ने हिंसा में उसकी मौत होने की बात से ही इनकार करने की कोशिश की. साकेत कुमार ने बताया कि इस मामले में अब तक 16 अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है. पूरे लोहरदगा में 23 जनवरी को लागू किया गया कर्फ्यू सोमवार को भी जारी रहा. सिर्फ दिन में दस से बारह बजे तक इसमें छूट दी गई.

टिप्पणियां

CAA Protest: यूपी पुलिस के खिलाफ राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने NHRC से की शिकायत

इस बीच जिला प्रशासन ने सभी नागरिकों से अपील की कि वे जिले में शांति एवं विधि व्यवस्था बनाये रखने में पुलिस एवं प्रशासन का सहयोग करें. प्रशासन ने लोहरदगा जिला के सभी नागरिकों को कहा कि वे किसी भी प्रकार के गैर कानूनी कार्य किसी भी परिस्थिति में नही करें एवं किसी प्रकार की अफवाह एवं भ्रामक सूचना न फैलाएं. उन्होंने कहा कि यदि ऐसी गतिविधि या कार्य करते हुए कोई पाया जाता है तो संबंधित व्यक्ति के विरुद्ध सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी. जिला प्रशासन ने संदेश में कहा है कि लोहरदगा जिले के नागरिकों से अपील की जाती है कि वे अफवाह एवं भ्रामक सूचना फैलाने वाले व्यक्तियों से संबंधित सूचना 100 नंबर पर दें.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)Source Article