जामिया मिल्लिया इस्लामिया में 15-17 नवंबर तक त्रिदिवसीय अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन

2
- Advertisement -

फाइल फोटो

नई दिल्ली: जामिया मिल्लिया इस्लामिया के पर्यटन और आतिथ्य प्रबंधन विभाग में 15-17 नवंबर, 2018 को "ग्रामीणता, ग्रामीणवाद, और ग्रामीण पर्यटन -चुनौतियां और उनके निर्वाहन रणनीतियों" पर एक त्रिदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है. यह सम्मेलन पर्यटन मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा प्रायोजित है. प्रो. निमित चौधरी विभागाध्यक्ष पर्यटन और आतिथ्य प्रबंधन विभाग ने एनडीटीवी को बताया कि तीन दिवसीय सम्मेलन में अनुमान है कि ग्रामीण पर्यटन के माध्यम से 4300 करोड़ रुपये का अतिरिक्त राजस्व सृजित किया जा सकता है. इस सम्मेलन का उद्देश्य ग्रामीण पर्यटन के क्षेत्र में समकालीन शोध की चर्चा करना है.
दिवाली के दीपकों से जगमग हुआ जामिया मिल्लिया इस्लामिया, 'युवा' ने किया छात्र मिलन का आयोजन
इस सम्मेलन में ग्रामीण जीवन और ग्रामीण स्थानों के कला, संस्कृति और विरासत को प्रदर्शित किया जाएगा, जिसमें कला और शिल्प, हैंडलूम और वस्त्रों से सम्बंधित मुख्य क्षमता है और साथ ही साथ प्राकृतिक वातावरण आधारित सम्बद्धता भी है। इस दौरान भारतीय ग्रामीण पर्यटन मंडली (ए.आर.टी.आई) की स्थापना करने की संभावनाओं पर भी चर्चा की जाएगी. उन्होंने आगे बताया कि अमरजीत सिन्हा, सचिव, ग्रामीण विकास मंत्रालय, भारत सरकार एंव अश्वनी लोहानी, अध्यक्ष, रेलवे मंडल, भारत सरकार, विशिष्ट एंव मुख्य वक्ता होंगे. जबकि मनीष सिसोदिया, उप मुख्यमंत्री एंव पर्यटन मंत्री, दिल्ली सरकार समापन समारोह की अध्यक्षता करेंगे.
टिप्पणियांधूमधाम से मना जामिया मिल्लिया इस्लामिया का 98वां स्थापना दिवस, विभिन्न कार्यक्रमों का हुआ आयोजन
यह सम्मेलन ग्रामीण पर्यटन सम्बंधित विभिन्न हितधारकों को विकास के लिए भावी पर्यटन प्रवृत्तियों, विचारों, प्रभावों, पद्धतियों, सैद्धांतिक और व्यावहारिक दृष्टिकोणों पर चर्चा के लिए एक मंच पर लाने में मदद करेगा.
Source Article

- Advertisement -