चुनाव से पहले पटनावासियों को मेट्रो की सौगात, मोदी कैबिनेट ने दी निर्माण को मंजूरी

4
- Advertisement -

प्रतीकात्मक चित्र

पटना:

दिल्ली की तरह ही जल्द ही पटना के लोग भी मेट्रो की सवारी कर सकेंगे. दरअसल, केंद्र सरकार ने बुधवार को पटना मेट्रो के निर्माण को मंजूरी दे दी है. बता दें कि पटना में दानापुर से मीठापुर और पटना रेलवे स्टेशन से नए आईएसबीटी के बीच 31.39 किलोमीटर लंबी लाइन का निर्माण होना है. केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने पटना मेट्रो को कैबिनेट से मंजूरी मिलने के बाद पीएम मोदी का धन्यवाद दिया. उन्होंने लिखा कि इस परियोजना को मंजूरी देने की वजह से बिहार की जनता हमेशा प्रधानमंत्री मोदी की आभारी रहेगी. गौरतलब है कि दो साल पहले नीतीश सरकार ने इस परिजोयना को मंजूरी दी थी. बिहार कैबिनेट की बैठक में यह फैसला लिया था. मेट्रो परियोजना से जुड़ी विस्तृत रिपोर्ट केंद्र की मंजूरी और वित्तीय सहायता के लिए उसके पास भेज दिया गया था.

आज कैबिनेट ने ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए पटना में 31.39 किलोमीटर में मेट्रो रेल निर्माण की स्वीकृति दी है। दानापुर से मीठापुर एवं पटना रेलवे स्टेशन से नये ISBT तक मेट्रो रेल निर्माण की कुल लागत 13365 करोड़ रुपये है। बिहार की जनता हमेशा प्रधानमंत्री @narendramodi जी की कृतज्ञ रहेगी।

— Ram Vilas Paswan (@irvpaswan) February 13, 2019

साल 2021 तक पूरी होगी परियोजना
पटना में 31 किलोमीटर लंबी मेट्रो कॉरिडोर को बनाने में 13365 करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है. पटना मेट्रो का 16 किलोमीटर हिस्सा अंडरग्राउंड और बाकी का 15 किलोमीटर जमीन से ऊपर होगा. साल 2021 तक इस परियोजना के पूरा होने की उम्मीद है.

- Advertisement -

सगुना मोड़, पटना जंक्शन, गांधी मैदान और पटना सिटी को जोड़ेगी मेट्रो
राज्य के नगर विकास विभाग के प्रधान सचिव अमृत लाल मीणा के अनुसार, मेट्रो ट्रैन पहले चरण में सगुना मोड़ से पटना जंक्शन रेलवे स्टेशन और दूसरे चरण में पटना स्टेशन से गांधी मैदान होते हुए पटना सिटी तक जाएगी।

पटना सिटी की ऐतिहासिक विरासतों को लेकर चिंतित थे नीतीश
पटना में काफी लंबे समय से मेट्रो की मांग की जाती रही है, लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इसे लेकर ज्यादा उत्साहित नहीं थे. इस हफ्ते की शुरुआत में उन्होंने इस पर सफाई भी दी थी कि वह मेट्रो रेल के खिलाफ नहीं है, बस उनकी चिंता ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण पुराने पटना को लेकर है, चूंकी वहां पुरातत्व की कई जानकारी अभी भी जमीन के नीचे दबी पड़ी हैं, इसलिए मेट्रो वहां ऊपर से जाए तो अच्छा होगा. उनके इस ब्यान के बाद नगर विकास विभाग के अधिकारियों ने तुरंत मेट्रो के प्रस्ताव और उसका विस्तृत प्रोजेक्ट रिपोर्ट कैबिनेट में पेश किया, जिसे कैबिनेट ने मंदूर कर लिया.

VIDEO: मुंबई में अंडरग्राउंड मेट्रो का होगा निर्माण.

टिप्पणियांSource Article