चिराग पासवान बोले: सपा-बसपा एक मजबूत गठबंधन, मुंहतोड़ जवाब देने के लिए NDA को बनना होगा सुदृढ़

4
- Advertisement -

लोजपा नेता चिराग पासवान. (फाइल तस्वीर)

नई दिल्ली:

भाजपा (BJP) की सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) ने शनिवार को सपा-बसपा गठबंधन (SP-BSP Alliance)को एक मजबूत चुनावी गठजोड़ बताया और कहा कि सत्ताधारीराजग (NDA) को भी विपक्ष को चुनौती देने के लिए स्वयं को सुदृढ़ बनाना होगा. लोजपा नेताचिराग पासवान (Chirag Paswan)ने कभी धुर प्रतिद्वंद्वी रहे दलों के गठबंधन को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि यह गठजोड़ उनके बीच हुआ है, जिन्होंने आय के ज्ञात स्रोत से अधिक सम्पत्ति एकत्रित की. उनका परोक्ष इशारा बसपा सुप्रीमो मायावती (Mayawati)और सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav)की ओर था.

पासवान ने कहा कि दोनों दलों ने उत्तर प्रदेश में लंबे समय तक शासन किया जहां के लोगों को बेरोजगारी और अपराध के चलते दूसरे जगह जाने को मजबूर होना पड़ा. उन्होंने कहा कि एक चुनावी रणनीति के तौर पर सपा-बसपा का गठबंधन मजबूत है. भाजपा नीत राजग को भी उसे चुनौती देने को स्वयं को सुदृढ़ बनाना होगा ताकि उत्तर प्रदेश के लोग सपा-बसपा गठबंधन को एक मुंहतोड़ जवाब दे सकें.

- Advertisement -

राहुल गांधी का सपा-बसपा गठबंधन पर बड़ा बयान-बोले यूपी में अकेले ही पूरी ताकत से उतरेंगे

बता दें, 2019 लोकसभा चुनाव के लिए उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा ने शनिवार को अपने गठबंधन का औपचारिक एलान किया. दोनों पार्टियों ने कांग्रेस को साथ लिए बगैर ही आपस में गठजोड़ करने की घोषणा कर दी. इसके कुछ घंटे बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि उनकी पार्टी ‘पूरी क्षमता' के साथ राज्य में चुनाव लड़ेगी और अपनी विचारधारा पर अडिग रहेगी. राहुल ने कहा कि उनके मन में इन दोनों दलों के नेताओं के प्रति ‘बड़ा सम्मान' है और ‘वे जो भी चाहें, उन्हें वह करने का हक है.'

'बुआ-बबुआ' की जोड़ी ने कांग्रेस को दिया झटका, 38-38 सीटों पर लड़ेगी SP-BSP

उन्होंने कहा, ‘बसपा और सपा को गठबंधन करने का पूरा हक है. मैं सोचता हूं कि कांग्रेस पार्टी के पास उत्तर प्रदेश के लोगों को पेशकश करने के लिए काफी कुछ है, इसलिए हम कांग्रेस पार्टी के तौर पर यथासंभव प्रयास करेंगे. हम अपनी विचारधारा के प्रसार के लिए पूरी क्षमता के साथ लड़ेंगे. बसपा और सपा ने राजनीतिक निर्णय लिया है. अब यह हम पर निर्भर करता है कि हम कैसे उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी को मजबूत करते हैं. हम पूरी क्षमता के साथ लड़ेंगे.'

गठबंधन में क्यों नहीं मिली कांग्रेस को जगह?

बता दें, कभी एक दूसरे की कट्टर विरोधी रही समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए उत्तर प्रदेश में आपस में गठबंधन करने की शनिवार को घोषणा की. उन्होंने कांग्रेस को गठबंधन से दूर रखा है. बसपा और सपा उत्तर प्रदेश में 38 -38 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी. हालांकि बसपा और सपा ने कहा कि वे अमेठी और रायबरेली में उम्मीदवार नहीं उतारेंगी. अमेठी का प्रतिनिधित्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और रायबरेली का प्रतिनिधित्व संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी कर रही हैं.

(इनपुट- भाषा)

कांग्रेस का यूपी प्लान, अगले महीने राहुल गांधी की 13 रैलियां, तैयारियां शुरू

टिप्पणियां

VIDEO- यूपी में साथ आए बुआ-बबुआ

Source Article