कोरोना वायरस से कश्मीर में पहली मौत, श्रीनगर में 65 वर्ष के बुजुर्ग का निधन, उसके संपर्क में आने वाले 4 लोग भी हुए संक्रमित- अधिकारी

0

प्रतीकात्मक तस्वीर.

नई दिल्ली:

श्रीनगर के हैदरपुरा इलाके के 65 वर्षीय शख्स की गुरुवार को कोरोना वायरस से मौत हो गई. जम्मू कश्मीर में इस संक्रमण से मौत का यह पहला मामला है. श्रीनगर के मेयर जुनैद अजीम मट्टू ने ट्वीट किया, ‘कोविड-19 से पहली मौत की दुखद खबर साझा करने के साथ मेरी संवेदनाएं मृतक के परिवार के प्रति हैं. हम आपके साथ हैं और आपका दुख समझते हैं.' सरकार के प्रवक्ता रोहित कंसल ने भी टि्वटर पर मौत की खबर की पुष्टि की.

कंसल ने कहा, ‘‘कोरोना वायरस के कारण श्रीनगर के हैदरपुरा के 65 वर्षीय शख्स की मौत का पहला मामला. उसके संपर्क में आए चार लोग भी कल संक्रमित पाए गए थे.' जम्मू कश्मीर में कोरोना वायरस से चार लोगों के संक्रमित पाए जाने के बाद बुधवार को संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 11 हो गए.

कश्मीर में अधिकारियों ने आशंका जताई है कि घाटी में मामले ज्यादा हो सकते हैं क्योंकि कई लोगों ने अपने यात्रा इतिहास के बारे में जानकारी छिपाई है. बुधवार को सरकार के बुलेटिन के अनुसार, जम्मू कश्मीर में संदिग्ध और संक्रमित लोगों के संपर्क में आए 5,124 यात्रियों और लोगों को निगरानी में रखा गया है.

इनमें से 3,061 लोग घर में पृथक रह रहे हैं (सरकार द्वारा चलाए जा रहे पृथक केंद्र समेत), 80 लोग अस्पताल में पृथक हैं और 1,477 लोग घर में निगरानी में रह रहे हैं. कश्मीर में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए आवाजाही पर लगाई गई पाबंदियां बुधवार को और कड़ी कर दी गईं.

वहीं, देश में बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या 600 के पार पहुंच गई। इस बीच,प्रशासन ने हालात से निपटने के लिए तैयारियों को तेज कर दिया है और संक्रमितों के इलाज के लिए सैन्य आयुध फैक्टरियों और केंद्रीय अर्धसैनिक बलों के अस्पतालों में 2,000 बेड की व्यवस्था पृथक वार्ड के तहत की है. शिमला के अधिकारी ने बताया कि उपरोक्त तैयारियों के अलावा हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिले में राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान के छात्रावासों के 2,000 कमरों को पृथक केंद्र बनाने के लिए अपने कब्जे में लिया है.

टिप्पणियां

कोलकाता में एक अन्य अधिकारी ने बताया कि शहर में 2,200 बिस्तरों के सरकारी अस्पताल में अन्य बीमारियों के नये मरीजों की भर्ती बंद कर दी गई है और जो मरीज अस्पताल में भर्ती हैं एवं उनकी हालत स्थिर हैं उन्हें छुट्टी दी जा रही है ताकि पृथक केंद्र बनाया जा सके. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी के लोगों को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये संबोधित करते हुए दोहराया कि सामाजिक मेल मिलाप से दूरी और घरों में रहना ही कोरोना वायरस से निपटने का एकमात्र कारगर तरीका है.

वीडियो: सरकार ने 21 दिनों का वक्त ही क्यों तय किया?Source Article