केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह बोले-राम मंदिर के लिए कोर्ट के पास फुर्सत नहीं और आतंकियों के लिए रात में खुलते हैं दरवाजे

2
- Advertisement -

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह की फाइल फोटो.

पटना: केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने राम मंदिर को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कोर्ट को ही निशाने पर लेते हुए कहा कि राम मंदिर के मुद्दे पर फैसला देने के लिए कोर्ट के पास समय नहीं है और आतंकियों तथा अन्य मामलों में न्यायालय रात में भी अपना फैसला सुना देती है. बावजूद इसके करोड़ो हिंदुओं की आस्था से जुड़े राम मंदिर के मसले को अभी तक नही सुलझाया जा सका. यह काफी दुखद है. वहीं बीजेपी के बहुमत में होने और घोषणा पत्र में भी राम मंदिर निर्माण के शामिल होने के बाबजूद भी केंद्र आखिर अध्यादेश क्यों नही लाती? इस सवाल के जबाब में उन्होंने कहा चाहे अध्यादेश हो या कोर्ट का फैसला….राम मंदिर बनकर ही रहेगा.
टिप्पणियांपहले भी दे चुके हैं विवादास्पद बयान
भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के इससे पहले भी एक बयान पर विवाद खड़ा हो चुका है. गिरिराज सिंह ने अयोध्या में राम मंदिर के मुद्दे पर कहा 'अब हिंदुओं का सब्र टूट रहा है. मुझे भय है कि हिंदुओं का सब्र टूटा तो क्या होगा?. गिरिराज सिंह के इस बयान के बाद विपक्षी दलों ने उन पर निशाना साधा है. आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने गिरिराज सिंह पर हमला बोलते हुए कहा कि किसी का सब्र नहीं टूटा है. आप हमसे बड़े हिंदू नहीं हैं. ठेकेदार मत बनिये. तेजस्वी ने कहा कि आपको चुनाव का डर है. ये मगरमच्छी रोना रोने से फ़ुर्सत मिले तो युवाओं की नौकरी, विकास और जनता की सेवा की बात करिए.
तेजस्वी यादव ने गिरिराज सिंह के बहाने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भी निशाने पर लिया और कहा अपने दोस्त 'पलटूराम' की तरह बेमतलब बिहारियों को बदनाम मत करिए. आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में आज अयोध्या में ज़मीन विवाद (Ayodhya Dispute) मामले की सुनवाई टल गई है. अब जनवरी में तय होगा कि सुनवाई कब होगी. CJI रंजन गोगोई ने कहा कि जनवरी में उचित बेंच सुनवाई की तारीख तय करेगी. इस दौरान SG तुषार मेहता व अन्य पक्षकारों ने जल्द सुनवाई की मांग की, लेकिन पीठ ने कहा कि जनवरी में ही उचित बेंच तय करेगी कि कब से सुनवाई हो. आपको बता दें कि आज कुल दो मिनट ही सुनवाई हुई. अभी यह नहीं कहा जा सकता कि उचित बेंच में CJI गोगोई होंगे या नहीं.
Source Article

- Advertisement -