करवा चौथ 2018: MP के CM शिवराज सिंह चौहान की पत्नी ने कुछ ऐसे किया चांद का दीदार, देखें तस्वीरें

2
- Advertisement -

karwa chauth 2018: शिवराज सिंह चौहान

नई दिल्ली: देशभर में खासकर उत्तर भारत के राज्यों में मनाए जाने वाला व्रत करवा चौथ के दिन सुहागिनों ने अपनी पति के लिए व्रत रखा और उनकी लंबी उम्र की कामना की. शनिवार को सुहागिनों द्वारा अपने पति की लंबी उम्र की कामना के लिए रखे जाने वाले इस व्रत को इस बार भी बड़ी-बड़ी हस्तियों ने मनाया. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने करवा चौथ व्रत की कुछ तस्वीरें पोस्ट कीं और उन्होंने करवा चौथ व्रत को लेकर कहा कि हमारी संस्कृति अद्भूत है. सीएम शिवराज सिंह चौहान के लिए उनकी पत्नी ने भी व्रत रखा.
करवा चौथ 2018: जब लाल साड़ी-लाल चूड़ी में 'दुल्हन' की तरह नजर आईं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने करवा चौथ व्रत की कुछ तस्वीरें शेयर की और ट्वीट किया. उन्होंने अपनी पत्नी के साथ तस्वीरें शेयर कर लिखा- ''आज करवा चौथ पर मेरी धर्मपत्नी साधना ने व्रत एवं पूजा की. अद्भुत है हमारी संस्कृति, जो परिवार की सुख-समृद्धि के लिए हमें त्याग, तपस्या और व्रत के लिए न सिर्फ प्रेरित करती है, बल्कि अविश्वसनीय आत्मविश्वास से भर देती है.''

आज करवा चौथ पर मेरी धर्मपत्नी साधना ने व्रत एवं पूजा की। अद्भुत है हमारी संस्कृति, जो परिवार की सुख-समृद्धि के लिए हमें त्याग, तपस्या और व्रत के लिए न सिर्फ प्रेरित करती है, बल्कि अविश्वसनीय आत्मविश्वास से भर देती है। #KarwaChauthpic.twitter.com/Tc25xFetfF

— ShivrajSingh Chouhan (@ChouhanShivraj) October 27, 2018

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से तीन तस्वीरें साझा कीं. इन तस्वीरों में वह अपनी पत्नी के साथ नजर आ रहे हैं. तस्वीर में दिख रहा है कि सीएम शिवराज अपने आवास के बाहर हैं और उनकी पत्नी चांद का दीदार कर रही हैं.
टिप्पणियांKarva Chauth 2018: विराट कोहली के लिए अनुष्का शर्मा ने रखा करवा चौथ का व्रत, 25 लाख बार देखी गई Viral Pic
बता दें कि करवा चौथ के दौरान सभी शादीशुदा महिलाएं अपनी पति की लंबी आयु के लिए व्रत रखती हैं. करवा चौथ का व्रत निर्जला होता है. इस दिन चांद निकलने तक महिलाएं ना कुछ खा सकती हैं और ना पानी पी सकती हैं. इसी वजह से करवा चौथ के चांद का बड़ा बेसर्बी से इंतज़ार रहता है. भूखी-प्यासी महिलाएं शाम खत्म होते ही टकटकी लगाए चांद की राह देखती रहती हैं. 27 अक्टूबर को चतुर्थी तिथि का प्रारंभ शाम 6:37 मिनट पर हुआ, जो 28 अक्टूबर 04:54 मिनट तक रहा.
Source Article

- Advertisement -