ओडिशा के कालाहांडी में आश्रयगृह के अधीक्षक पर यौन शोषण का आरोप, जांच शुरू

1
- Advertisement -

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली:

ओडिशा के कालाहांडी जिले में एक आश्रयगृह के अधीक्षक द्वारा एचआईवी संक्रमित नाबालिग लड़कियों के कथित यौन शोषण की खबरों की अधिकारियों ने जांच शुरू कर दी है. पुलिस ने यह जानकारी दी. स्थानीय समाचार चैनलों द्वारा आठ वर्षीय एचआईवी संक्रमित लड़की के कथित यौन शोषण की खबर दिये जाने के बाद कालाहांडी जिला प्रशासन, पुलिस, बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) और कालाहांडी की जिला बाल संरक्षण इकाई (डीसीपीयू) ने जांच शुरू कर दी है. उक्त लड़की केंद्र में रहती थीय बोलंगिर की रहने वाली लड़की की मां ने आरोप लगाया कि आश्रयगृह अधीक्षक सरोज दास द्वारा उनकी बेटी और अन्य लड़कियों का यौन शोषण किया गया. महिला ने आरोप लगाया कि उसके बाद उसे अपनी बेटी को घर वापस लाने के लिए मजबूर किया गया. दास को पुलिस ने पूछताछ के लिए बुलाया है. दास ने इस आरोप से इनकार किया और कहा कि यह उन्हें बदनाम करने की साजिश है.

बच्चों का यौन शोषण कर रहा था पादरी, परिजनों ने की शिकायत तो पुलिस ने किया गिरफ्तार

- Advertisement -

उन्होंने भी इस मामले की गहन जांच की मांग की. पुलिस सूत्रों ने बताया कि जांच के तहत, वरिष्ठ अधिकारियों ने आश्रयगृह का औचक निरीक्षण किया और दस्तावेजों का सत्यापन किया और कर्मचारियों तथा लड़कियों से बातचीत की. बोलंगिर की कथित पीड़िता अगस्त 2016 से सीडब्ल्यूसी और डीसीपीयू, बोलंगिर की सिफारिश पर आश्रयगृह में थी. हालांकि, 25 मार्च को उसकी मां यह कहते हुए उसे वापस ले गई कि वह अब अपनी बेटी की देखभाल करने में सक्षम है. सीडब्ल्यूसी के एक अधिकारी ने कहा कि हालांकि उस समय सीडब्ल्यूसी के समक्ष उसकी ओर से कोई शिकायत नहीं की गई थी. कालाहांडी के सीडब्ल्यूसी ने भी बोलंगिर में अपने समकक्ष से इस मामले की जांच करने का अनुरोध किया है.

फार्म हाउस पर ले जाकर 3 महिलाओं के साथ 9 लोगों ने किया गैंगरेप, 7 गिरफ्तार, 2 फरार

टिप्पणियां

भवानी पटना शहर पुलिस ने सरोज दास को पूछताछ के लिए थाने बुलाया. भवानी पटना पुलिस थाने के प्रभारी निरीक्षक सत्य नंदा ने कहा कि जांच के तहत बोलंगिर से लड़की और उसकी मां को लाने के लिए एक पुलिस दल भी भेजा गया था. नंदा ने कहा कि हालांकि लड़की और उसकी मां ने अभी तक औपचारिक रूप से पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं करायी है, लेकिन पुलिस ने मीडिया की खबरों के आधार पर अपनी जांच शुरू कर दी है क्योंकि यह एक संवेदनशील मुद्दा है.

रवीश कुमार का प्राइम टाइम : 6 महीने में 24212 बलात्कार, बच्चों का कैसा हिन्दुस्तान?​

Source Article