‘एनाकोंडा’ बयान पर मुख्तार अब्बास नकवी का पलटवार: प्रतिस्पर्धा जारी है कि कौन मोदी जी को सबसे ज्यादा गाली देगा?

0
- Advertisement -

मुख्तार अब्बास नकवी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: आंध्र के वित्त मंत्री यनामाला रामकृष्नुदु के पीएम मोदी को एनाकोंडा बताए जाने वाले बयान पर केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने पलटवार किया है. दरअसल, आंध्र प्रदेश में सत्ताधारी तेलगु देशम पार्टी (तेदेपा) ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तुलना ‘एनाकोंडा' से की जो राष्ट्रीय संस्थाओं को ‘निगल'' रहा है. इसके बाद रविवार को केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने पलटवार किया कि पीएम मोदी को सबसे ज्यादा गाली कौन देता है, इसे लेकर प्रतिस्पर्धा जारी है. उन्होंने कहा कि उनके पास कोई मुद्दा नहीं है, इसलिए वे ऐसा कर रहे हैं.
तेलगु देशम पार्टी ने पीएम मोदी की तुलना ‘एनाकोंडा' से की, तो भाजपा ने चंद्रबाबू को ‘भ्रष्टाचार का राजा' बताया
मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि प्रतिस्पर्धा जारी है कि कौन मोदी जी को सबसे ज्यादा गाली देगा? लेकिन इतिहास गवाह है कि जब भी मोदी जी को टारगेट किया गया है, वह और मजबूत होकर उभरे हैं. जब आपके पास सरकार पर हमला करने को कोई मुद्दा न हो तब उनको इसमें घसीट लो.

Competition underway of who will abuse Modi ji more. But history is witness to the fact that whenever Modi ji is targeted he emerges even stronger. When you have no issues left to attack Govt then you indulge in this:MA Naqvi, Union Minister on Andhra FM calls PM Modi an Anaconda pic.twitter.com/pyx4XQv3Uf

— ANI (@ANI) November 4, 2018

बता दें कि एक बयान में, तेदेपा पोलित ब्यूरो के सदस्य और राज्य के वित्त मंत्री यनामाला रामकृष्नुदु ने पूछा कि क्या मोदी से ‘‘बड़ा कोई एनाकोंडा'' है. उन्होंने कहा, ‘‘वह (मोदी) सीबीआई, आरबीआई और उन जैसी दूसरी संस्थाओं को निगल रहे हैं. वह रक्षक कैसे हो सकते हैं''. रामकृष्नुदु ने कहा कि तेदेपा का तात्कालिक कर्तव्य देश को भाजपा से बचाना है.
टिप्पणियांवीडियो वायरल : जब ब्राजील की सड़क पर महिला ने हाथ से पकड़ लिया एनाकोंडा…
वहीं, दूसरी ओर शनिवार को मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि धर्मनिरपेक्षता, सामाजिक-सांप्रदायिक सौहार्दता और सहिष्णुता भारत के डीएनए में है. उन्होंने कहा कि भारत दुनिया में आध्यात्मिक मूल्यों का केंद्र है और इसलिए यह दुनिया में सबसे बड़ा धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र है. अल्पसंख्यक मामलों के केंद्रीय मंत्री को यहां एक कार्यक्रम में यूनिवर्सल पीस फेडरेशन (यूपीएफ) द्वारा ‘‘शांति दूत'' के तौर पर सम्मानित किया गया.
Source Article

- Advertisement -