एक आतंकी जो बन गया देशभक्त और जॉइन कर ली ARMY, दुश्मनों को ढेर कर हुआ शहीद

4
- Advertisement -

जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के शोपियां (Shopian) जिले में रविवार को ऑपरेशन ऑलआउट में सुरक्षाबलों ने 6 आतंकी ढेर किए. इस ऑपरेशन में सेना का एक जवान लांसनायक नजीर अहमद वानी (Lance Naik Nazir Ahmed Wani) शहीद हो गए थे. शहीद हुए नजीर अहमद की कहानी सुनकर आप भी हैरान रह जाएंगे. वानी एक समय आतंकवादी थे. उन्होंने आत्मसमर्पण करके भारतीय सेना को जॉइन किया था. 2007 में वीरता के लिए वो सेना का मेडल भी ले चुके हैं.
नॉर्वे के पूर्व पीएम ने किया कश्मीर और पीओके का दौरा, उमर ने पूछा- ये यहां क्या कर रहे हैं?

General Bipin Rawat #COAS & all ranks salute supreme sacrifice of Lance Naik Nazir Ahmad Wani, SM* & offer sincere condolences to the family. #[email protected][email protected]@HQ_IDS_Indiapic.twitter.com/vYpYEwseOu

— ADG PI – INDIAN ARMY (@adgpi) November 26, 2018

यह कहानी एक आतंकवादी के जांबाज देशभक्त बनने और सेना में शामिल होकर आतंकियों के खिलाफ अभियान में अपना सर्वोच्च बलिदान देने की है. आतंकवाद को छोड़ भारतीय सेना में जॉइन हुए नजीर अहमद वानी एक बेहतरीन सिपाही थे और वीरता के लिए उनको मेडल भी मिल चुका है.
वह कुलगाम तहसील के चेकी अश्‍मूजी गांव के रहने वाले थे. सेना के प्रवक्‍ता ने बताया कि लांस नायक नजीर अहमद वानी के परिवार में उनकी पत्‍नी और दो बच्‍चे हैं. उन्‍होंने करियर की शुरुआत वर्ष 2004 में टेरिटोरियल आर्मी से की थी. उन्‍हें सोमवार को सुपुर्द-ए-खाक से पहले 21 तोपों की सलामी दी गई.
टिप्पणियांजम्मू-कश्मीर: कुलगाम और पुलवामा में एनकाउंटर, एक जवान शहीद, तीन आतंकी ढेर
बता दें कि दक्षिण कश्‍मीर में स्थित कुलगाम जिला आतंकवादियों का गढ़ माना जाता है. कर्नल कालिया ने बताया कि खुफिया जानकारी के आधार पर सुरक्षाबलों ने आधी रात को क्षेत्र में घेराबंदी कर तलाश अभियान शुरू किया था. इस दौरान आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलियां चला दीं, जिससे अभियान मुठभेड़ में बदल गया. सुरक्षा बलों ने भी इसका मुंह तोड़ जवाब दिया.
Source Article

- Advertisement -