उपेंद्र कुशवाहा ने माना BJP-JDU से हैं आहत, बोले- आए-गए दल के लिए हमारी उपेक्षा ठीक नहीं, 10 बातें…

1
- Advertisement -

केंद्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा (फाइल फोटो).

पटना: केंद्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने शुक्रवार को पटना में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित किया, जहां उन्होंने अपने दिल की बात कही. इस मौके पर उन्होंने माना कि भाजपा अब उनकी उपेक्षा कर रही है. संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने जैसी-जैसी शर्तें रखी हैं, उसे देखकर लगता है कि वो भाजपा और जनता दल यूनाइटेड दोनों को चुनौती दे रहे हैं. उपेन्द्र कुशवाहा ने एक तरह से एनडीए आलाकमान को चुनौती देते हुए कहा कि उन्हें बिना विश्वास में लिए सीटों की संख्या की घोषणा करके दिखाएं. 10 बातें…

  1. उपेन्द्र कुशवाहा ने सबसे पहले कहा कि उन्हें दो क्या तीन सीटें भी मंज़ूर नहीं. उनकी पार्टी की ताकत बढ़ी है, इसलिए सीटों को संख्या ज्यादा होनी चाहिए.
  2. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बारे में उन्होंने कहा कि वो उनसे बहुत आहत हैं. कुशवाहा ने कहा कि उन्हें ‘नीच' कहे जाने पर वो अपने शब्द वापस लें या बन्द कमरे में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के सामने समझायें कि आखिर किस संदर्भ में उन्होंने ये बात कही.
  3. उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि अगर अमित शाह उनसे नहीं मिलेंगे, तो वो उन्हें एक पत्र लिखकर अपनी सारी बातें उनके सामने रखेंगे.
  4. कुशवाहा ने कहा अगर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित साह के स्तर पर बात नहीं बनी तो वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलकर उन्हें याद दिलाएंगे कि वो उनके पुराने सहयोगी हैं, जिसने उनको प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी के रूप में घोषणा से पहले ही उनको पीएम पद का उम्मीदवार माना था. साथ ही कहेंगे कि जनता दल यूनाइटेड जैसे आये गये दल के लिये उनकी उपेक्षा ठीक नहीं.
  5. कुशवाहा ने कहा कि उनका राजनीतिक गठबंधन भाजपा और लोक जनशक्ति से है ना कि जनता दल यूनाइटेड से.
  6. यह पूछे जाने पर कि भाजपा उन्हें तवज्जो नहीं देती, उसपर कुशवाहा का कहना था कि अगर ऐसा होता तो दो हफ़्ते पूर्व भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और नीतीश कुमार ने सीटों का घोषणा कर दी होती, लेकिन यह अभी कर लंबित है. इसका मतलब यह है कि उनकी सहमति के बिना भाजपा ये घोषणा नहीं करना चाहती.
  7. कुशवाहा ने इस महीने 28 तारीख़ को ऊँच-नीच दिवस मनाने का भी घोषणा की है, जो दरअसल नीतीश कुमार के वक्तव्य के खिलाफ होगा.
  8. राजद से भी ज्यादा भाव ना मिलने का टीस उपेन्द्र कुशवाहा के चेहरा पर साफ झलक रहा था. उन्होंने राजद अध्यक्ष लालू यादव को इतिहास कहा.
  9. वहीं राजद के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार तेजस्वी यादव के बारे में उनका कहना था कि वो अभी ट्रेनिंग ले रहे हैं.
  10. अंत में बाबरी बराबरी के अमित शाह के फॉर्मूले पर व्यंग्य कसते हुए उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि तब भाजपा और जनता दल यूनाइटेड पांच-पांच सीट पर लड़ ले और 15-15 सीट उनकी पार्टी और लोक जनशक्ति पार्टी को दे दे.

टिप्पणियांSource Article

- Advertisement -